गुरुग्राम: NHAI 25 जून तक नेशनल हाईवे तथा अधीन क्षेत्र में ड्रेनों तथा बरसाती नालों की सफाई सुनिश्चित करें- अतिरिक्त मुख्य सचिव

एसीएस ने गुरुग्राम में पहुंचकर की संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक; उपायुक्त तथा संबंधित विभागों के अधिकारीगण ड्रेनो और नालों की सफाई सुनिश्चित करने के लिए करें ज्वाइंट इंस्पेक्शन- एसीएस

हरियाणा सरकार के राजस्व विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने आज गुरुग्राम आकर बरसात के मौसम में गुरुग्राम में जलभराव ना हो, इसके लिए किए गए प्रबंधों की समीक्षा की। उन्होंने उपायुक्त अमित खत्री तथा नगर निगम आयुक्त, विनय सिंह को संबंधित विभागों के अधिकारियों के साथ ड्रेनों तथा बरसाती नालों की ज्वाइंट इंस्पेक्शन करने के आदेश भी दिए।श्रीमती अरोड़ा की अध्यक्षता में  यह बैठक गुरुग्राम के लोक निर्माण विश्राम गृह के कांफ्रेंस हॉल में आयोजित की गई थी।

इस बैठक में उन सभी स्थानों के बारे में चर्चा की गई जहां बरसात के मौसम में गुरुग्राम में पहले जलभराव होने का इतिहास है।अरोड़ा ने भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई ) के अधिकारियों से स्पष्ट कहा कि वे 25 जून तक नेशनल हाईवे तथा उनके अधीन पूरे क्षेत्र में ड्रेनों तथा बरसाती नालों की सफाई सुनिश्चित करें। बैठक में उपस्थित एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर एके शर्मा ने इसके लिए एसीएस को विश्वास भी दिलाया। बैठक में बताया गया कि बरसात के मौसम में गुरुग्राम शहर में सेक्टर 34 तथा नेशनल हाईवे के साथ बनी ड्रेन के पानी की निकासी के लिए एक पंपिंग पॉइंट है तथा दूसरा पंपिंग पॉइंट हीरो होंडा अंडरपास के लिए और तीसरा पंपिंग पॉइंट सेक्टर 10 ए  के निकट है। पिछली बार जब हीरो होंडा चौक के अंडरपास में पानी भर गया था तो जीएमडीए द्वारा अतिरिक्त पंपसेट लगाकर पानी निकासी की व्यवस्था की गई थी और यह फैसला हुआ था कि सभी अंडर पासों मे लगे पंपिंग सेट एनएचएआई द्वारा जीएमडीए को हैंड ओवर कर दिए जाएंगे।

आज की बैठक में एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर एके शर्मा ने बताया कि पंपिंग सेट लगाने वाले कॉन्ट्रैक्टर का एनएचएआई के साथ 4 वर्ष का अनुबंध है और वह जीएमडीए के साथ काम करने को तैयार नहीं है इसलिए ये पंपसेट जीएमडीए को हैंड ओवर अभी नहीं किए जा सकते। ऐसी स्थिति में अरोड़ा ने कहा कि बरसात के मौसम में पंपिंग सेट चलाने की जिम्मेदारी एनएचएआई की रहेगी और उसका सुपर विजन जीएमडीए द्वारा किया जाएगा। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जिस भी अथॉरिटी के पंपसेट लगे हैं , वह यह सुनिश्चित करे कि उसके पंप ऑपरेटर ड्यूटी पर रहे, बल्कि 2 पंप ऑपरेटर ज्यादा रखें। इन पंप ऑपरेटरों के नाम तथा संपर्क नंबर एनएचएआई द्वारा जीएमडीए, नगर निगम, पुलिस आयुक्त तथा उपायुक्त के साथ सांझे किए जाएंगे। एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि इन सभी पंप सेटों पर वैसे तो बिजली के कनेक्शन ले लिए गए हैं परंतु एहतियात के तौर पर जनरेटर सेट भी लगाए जाएंगे। इस पर अरोड़ा ने कहा की पंप सेट और जनरेटर जो कुछ भी लगाना है वह बरसात से पहले लगवाएं, बाद के लिए कुछ ना रखें। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जनरेटर सेट मे लगने वाले फ्यूल की भी व्यवस्था पहले से करके रखें।

एसीएस को बताया गया कि एनएचएआई द्वारा हीरो होंडा चौक पर अंडर पास में जलभराव रोकने के लिए 5 – 5 हजार एलपीएम क्षमता के आठ पंपसेट लगवाए गए हैं जबकि पिछले वर्ष 3- 3 हजार एलपीएम क्षमता के चार पंप ही लगे हुए थे। इस बार हीरो हौंडा चौक अंडरपास से पानी निकासी की क्षमता 40,000 एलपीएम की हो गई है। एनएचएआई के अधिकारियों ने बताया कि गुरुग्राम में उन द्वारा एनएचएआई के अधीन क्षेत्र में बरसाती पानी निकासी के लिए कुल 44 पंप सेट लगाए गए हैं।

बैठक में उपस्थित हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण की कार्यकारी अभियंता मेजर स्वेता ने बताया कि इस बार बादशाहपुर ड्रेन की पानी निकासी की क्षमता भी 500 क्यूसिक से बढ़ाकर 2100 क्यूसिक कर दी गई है और सबसे बड़ी बात यह है कि अब इस ड्रेन में पानी ग्रेविटी से बहकर जाएगा, इसके लिए पंपसेट लगाने की जरूरत नहीं है। बादशाहपुर ड्रेन को गांव खांडसा में चौड़ा करने के लिए मकान आदि हटाने पड़े हैं, इसके लिए उन्होंने कई बार पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल से संपर्क करके पुलिस मदद भी ली, जिसका उल्लेख बैठक में स्वयं अकिल ने किया। कार्यकारी अभियंता मेजर श्वेता द्वारा किए गए कार्य की प्रशंसा एसीएस केशनी आनंद अरोड़ा ने भी की। पुलिस आयुक्त ने एनएचएआई के अधिकारियों से कहा कि वे नेशनल हाईवे पर गड्ढों को भी भर दे क्योंकि बरसात के समय पानी भरने से गड्ढे दिखाई नहीं देते और कोई गाड़ी उन गड्ढों में चली जाती है तो वह ब्रेकडाउन हो जाती है जिसकी वजह से जाम लग जाता है। एसीएस ने कहा कि इन सभी गड्ढों को 25 जून तक भरवाए।

बैठक में पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल द्वारा बसई रोड का मुद्दा उठाए जाने पर नगर निगम गुरुग्राम के अधिकारियों ने बताया कि वहां पर सीवर लाइन डालने का कार्य पूरा हो चुका है, केवल कनेक्शन करना बाकी है। नगर निगम के मुख्य अभियंता एन डी वशिष्ठ ने बताया कि 27 जून से यह रोड दोनों तरफ के ट्रैफिक के लिए खोल दी जाएगी। आज की बैठक में एसीएस द्वारा नेशनल हाईवे, सेक्टर 31, हीरो होंडा चौक, नरसिंहपुर, सोहना रोड, सुभाष चौक, वाटिका चौक, मेदांता अंडरपास, मानेसर में फ्लाईओवर उतरने के बाद होने वाले जलभराव को रोकने के प्रबंधों, बख्तावर चौक, हुडा सिटी सेंटर, मेफील्ड गार्डन, गोल्ड सुक् चौक, सेक्टर 56, सुशांत लोक, घाटा गांव के अंडरपास, महावीर चौक, पालम विहार, राजेंद्रा पार्क, पटेल नगर के निकट वाली हाउसिंग बोर्ड कॉलोनी, सेक्टर 15, सेक्टर 14 मार्केट, ओल्ड डीएलएफ, एमडीआई चौक, शनि मंदिर, पुरानी दिल्ली रोड पर ज्वाला मिल वाली जगह, अतुल कटारिया चौक, सेक्टर 4/7 डिवाइडिंग रोड, धनवापुर, शीतला माता मंदिर रोड, सीआरपीएफ चौक, बस स्टैंड रोड, सेक्टर 21, 22, 23, सिविल लाइंस क्षेत्र, अर्जुन नगर में जन स्वास्थ्य अभियंत्रिकी विभाग कार्यालय के पास वाली जगह आदि जलभराव की लिहाज से क्रिटिकल बिंदुओं पर बरसाती नालों की सफाई के बारे में संबंधित एजेंसियों से रिपोर्ट भी तलब की, जिसमें एजेंसियों ने विश्वास दिलाया कि काफी जगहों पर सफाई का कार्य पूरा हो चुका है या अंतिम चरण में है। एसीएस ने कहा कि सभी नालों की सफाई बरसात से पहले करवाना सुनिश्चित करें।

उपायुक्त अमित खत्री ने कहा कि जॉइंट इंस्पेक्शन 26 जून को की जाएगी, जिसमे मॉक ड्रिल करके भी देखा जायेगा कि बरसाती पानी निकासी के प्रबंध दुरुस्त है और यदि कोई स्थान इंस्पेक्शन के लिए बचे तो उनकी इंस्पेक्शन 27 जून को होगी । उन्होंने कहा कि इन इन्स्पेक्शनों के बाद भी रिपोर्ट एसीएस को भेजी जाएगी ।  आज की बैठक में पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल, गुरुग्राम के मंडल आयुक्त अशोक सांगवान, राजस्व विभाग के सचिव विजेंद्र कुमार, नगर निगम आयुक्त विनय सिंह, एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर एके शर्मा, जीएमडीए के अधीक्षण अभियंता ललित अरोड़ा, जन स्वास्थ्य विभाग के अधीक्षण अभियंता प्रदीप कुमार, नगर निगम के एडिशनल म्युनिसिपल कमिश्नर वाईएस गुप्ता, मुख्य अभियंता एन डी वशिष्ठ, जिला राजस्व अधिकारी विजय यादव, नगर निगम के राजस्व अधिकारी हरिओम अत्री सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter