फरीदाबाद: घर को एक साथ गरम पानी से धुलवा दे और उसके तुरंत बाद ठन्डे पानी से तो एक साल तक वास्तु के दुष्प्रभाव खत्म- कर्नल त्यागी

सोसाइटी ऑफ़ वास्तु साइन्स द्वारा ज्योतिष और वास्तु पर एक सेमीनार आयोजित की गई | इस सेमीनार में ज्योतिष और वास्तु द्वारा आम जनों को होने वाली समस्याओं के सरल समाधान बताये गए

0

सोसाइटी ऑफ़ वास्तु साइन्स द्वारा ज्योतिष और वास्तु पर एक सेमीनार आयोजित की गई | इस सेमीनार में ज्योतिष और वास्तु द्वारा आम जनों को होने वाली समस्याओं के सरल समाधान बताये गए| ज्योतिष पर बोलते हुए फरीदाबाद के परशुराम वशिष्ट , गाज़ियाबाद के सुखवेन्द्र सिंह और पुष्कर त्यागी ने बताया की सूर्य उदय होने से पहले उठना चाहिए और घुटने टेक कर सूर्य को हाथ उठाकर जल चढ़ाना और सूर्य के 108 नामो का उद्घोष करना समस्याओं के समाधान का सरलतम रास्ता है |

डी ए वी कालेंज के प्रधानाचार्य सतीश आहूजा ने बताया की सेवा से बड़ा कोई दूसरा कार्य नही है यही कारण है की राम का मंदिर हनुमान के बिना पूरा नही होता जबकि हनुमान के मंदिर में राम की आवश्यकता नही | उन्होंने कहा की रामायण जीवन जीने की शिक्षा देती है और गीता मरने की शेली दर्शाती है |

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सोसाइटी आफ़ वास्तु साइन्स के राष्ट्रीय चेयरमेन कर्नल तेजेंद्र पाल त्यागी ने बताया की बिना किसी खर्चे के यदि आदमी अपने घर को एक साथ गरम पानी से धुलवा दे और उसके तुरंत बाद ठन्डे पानी से धुलवा दे तो एक साल तक उस घर में वास्तु के दुष्प्रभाव खत्म हो जाते है | तापक्रम को बदलने से नकरात्मक ऊर्जा खत्म की जा सकती है

सोसाइटी आफ़ वास्तु साइन्स के राष्ट्रीय महासचिव और आज की सेमीनार के संयोजक श्री विनोद शर्मा ने स्वास्थ ,शिक्षा और उन्नति की बढोतरी के लिए छोटे छोटे उपाए बताये  जिन्हें पुरे सदन ने सराहा | इंजीनियर विनोद शर्मा ने उत्तर पूर्व दिशा अर्थात ईशान कोण को बच्चो की शिक्षा और उन्नति से जोड़ा |

कार्यक्रम के अध्यक्ष इंजीनियर राज कुमार त्यागी ने ओधोगिक वास्तु पर विचार रखते हुए कहा की बायलर और भटटी को दक्षिण पूर्व में रखे , रा मेट्रियल को साउथ वेस्ट में रखे , बिकने वाले माल को नार्थ वेस्ट में रखे और प्रबन्धन के कार्य नार्थ ईस्ट में करे तो सवाल ही नही उठता की उधोग में लाभ न हो |

सुखवेन्द्र सिंह और इंजीनियर हिमांशु गर्ग द्वारा दिन चर्या पर अत्यंत सराहनीय टिप्स दी गई |सोम कुमार ने मुलाधार चक्र से शह्स्त्रा धार चक्र तक की विस्तार से चर्चा की |

प्रश्न उत्तर काल में यह बात स्पष्ट की गई की आज के युग में हमे अपने चारो तरफ कन्डक्टर नही बल्कि इन्सुलेटर रखने चाहिए जैसे लकड़ी, रबड़,शीशा , माइका,ग्रेफाईट आदि ताकि हमारी प्रतिरोधक क्षमता बरकरार रहे |

सेमीनार में हुए ज्ञान वर्धन के बाद ,खचा खच भरे सभागार में दोनों हाथ उठाकर लोगो ने मांग की की फरीदाबाद में सोसाइटी ऑफ़ वास्तु साइन्स एक राष्ट्रीय सेमीनार भी आयोजित करे जिसे मान लिया गया और सोसाइटी के महासचिव इंजीनियर विनोद कुमार शर्मा ने घोषणा की की नवम्बर 2019 में इसी सभागार में युवाओं के लिए वास्तु और ज्योतिष पर एक राष्ट्रीय सेमिनार आयोजित की जाएगी |

इस अवसर पर बिल्डर्स ,शिक्षक, व्यापारी,पार्षद , डाक्टर्स, ज्योतिष शरद परवर ,शालिनी शर्मा एवं विभिन्न वर्गो के लोग पुरे समय तन्मयता के साथ उपस्थित रहे |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here