14 अप्रैल 2019 , विद्या भारती भवन , सॉल्ट लेक,कलकत्ता:  आज यहाँ मोईरंग,मणिपुर में 14 अप्रैल 1944 को अविभाजित भारत के पहले प्रधानमंत्री नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के नेतृत्व में आजाद हिन्द फौज के कर्नल सोकल अली द्वारा फेहराये गए तिरंगे झंडे की 75 वी वर्ष गांठ के अवसर पर राष्ट्रीय सैनिक संस्था द्वारा एक विशाल कार्यक्रम आयोजित  किया गयाI

भारत के पूर्व सेना अध्यक्ष जनरल शंकर राय चौधरी ने ध्वजा रोहण किया | नेताजी सुभाष चन्द्र बोस के परपोत्र चन्द्र कुमार बोस ने इस उत्सव के मुख्य अतिथि के रुप में बोलते हुए कहा की भारतीय सेना उन्ही सिध्दान्तो पर काम कर रही है जिन पर आजाद हिन्द फौज करती थी | आजाद हिन्द फौज अराजनितिक थी और भारतीय सेना भी अराजनितिक है | दुःख इस बात का है की 14 अप्रैल के ऐतिहासिक दिन को इतिहास में नही लिखा गया|जनरल शंकर राय चौधरी ने कहा  की फौज का राजनितिकरण गलत है |

राष्ट्रीय सैनिक संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीर चक्र प्राप्त कर्नल तेजेंद्र पाल त्यागी ने कहा  की फौज की प्रशंसा को राजनितिकरण नही माना जाना चाहिए | यह तो एक चिल्लाती हुई आवश्यकता है | हर जगह, हर स्तर पर और हर कमाण्डर द्वारा फौज की प्रशंसा की जानी चाहिए | प्रशंसा नही करेंगे तो फौज का मनोबल कैसे बढेगा | युद्ध हथियारों से कम और मनोबल से अधिक जीते जाते है |इस अवसर पर डा० एस पी घोष ,डा० मिर्नाल क्रान्ति देवनाथ, रेरा के राष्ट्रीय संयोजक अभय उपाध्याय ने भी अपने विचार रखते हुए कहा की नेताजी का आजादी में केवल योगदान ही नही था बल्कि आजादी के मुख्य नायक नेताजी ही थे|

राष्ट्रीय सैनिक संस्था की पश्चिमी बंगाल इकाई के प्रदेश अध्यक्ष पूर्व इस्पेक्टर जनरल आफ़ पुलिस, सतीश भण्डारी, उपाध्यक्ष ब्रिगेडियर ए के दत्ता, सचिव अशोक जैन, संयोजक गौरव सेनानी  बिजोय नायक, महिला ब्रिगेड की संयोजक कुमारी संगीता मिश्रा, उमेश अग्रवाल,एस मुकोपाध्याय, आर्किटेक्ट और बिल्डर के एसोसियेशन के महा सचिव चौखानी, मती उषा मेनन बोस,पेरा ओलम्पिक में भारत का नाम रोशन करने वाले प्रबीर सरकार , इंडिया फुट बोल एसोसिएशन के उपाध्यक्ष, सुग्रतो भट्टाचार्य सहित सेकड़ो – सेकड़ो गणमान्य व्यक्तियों ने आज के कार्यक्रम में भाग लिया |  इस अवसर पर “आज मेरे देश को सुभाष चाहिए “ का भी कलकत्ता में विमोचन किया गया| 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here