सूचना की नई तकनीकों के विकास और अनुप्रयोग में अग्रणी फ़ूजीफ़िल्म इंडिया प्राइवेट लिमिटेड एवं यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल, कौशाम्बी, गाजियाबाद ने साझेदारी में इमेजिंग और  (टी0बी०)  तपेदिक को खत्म करने के लिए एक जागरूकता कार्यक्रम TOGETHER END TB ’का आयोजन किया। भारत में तपेदिक के उन्मूलन में मदद करने वाले कारकों एवं विश्व टीबी दिवस को मनाने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस अवसर पर यशोदा सुपर स्पेशलिटी अस्पताल कौशाम्बी की डायरेक्टर उपासना अरोड़ा ने बताया कि यशोदा सुपर स्पेशलिटी अस्पताल कौशाम्बी  में गाज़ियाबाद की पहली डिजिटल रेडियोग्राफी प्रणाली DR एफडीआर स्मार्ट एफ ’मशीन लगाई गयी है जो कम रेडिएशन या एक्स रे के डोज़ में बेहतर रिजल्ट देने में सक्षम है तथा टी बी को प्राथमिक स्तर पर निदान करने में सक्षम है, इस मशीन के लगने से छेत्रवासियों को काफी फायदा होगा तथा टी बी जैसी बीमारी के रोकथाम में मदद मिलेगी, रोग का सही रूप में निदान, बीमारी कितनी फ़ैली हुई है इस की जानकारी, समुदाय में फ़ैली टी बी की बीमारी की रोकथाम और उपचार में मदद करेगा। यह साझा सहयोग नई संभावनाओं को खोलेगा और आम जनता के बीच जागरूकता पैदा करने में मदद करेगा 

टीबी के शीघ्रातिशीघ्र निदान के महत्व पर प्रकाश डालते हुए, उपासना अरोड़ा, निदेशक, यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल ने कहा, “जब बीमारी को बिना निदान या इलाज के लम्बे समय तक छोड़ दिया जाता है तब मरीज द्वारा समुदाय में संक्रमण के फ़ैलने की संभावना उतनी ही अधिक हो जाती है। फुजीफिल्म के साथ हमारे संयुक्त प्रयासों से, हम भारत में TB एंड टीबी ’के लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए अग्रसारित होते हुए देखते हैं।”

फूजी फिल्म और यशोदा हॉस्पिटल ने मिल कर 1,000 चेस्ट एक्स रे फ्री करने हेतु गाजियाबाद के डिस्ट्रिक्ट टी बी ऑफिसर को 1,000 कूपन उपलब्ध कराये हैं।  यह कार्यक्रम भारत में रोगियों को अपने उपचार चक्र को पूरा करने के लिए प्रोत्साहित करता है क्योंकि अज्ञानता या अक्रियता से एमडीआर (मल्टी ड्रग रेसिस्टेंट)  टीबी हो सकता है, जो और भी खतरनाक है और अक्सर उपचार योग्य नहीं है।इस अवसर पर टिप्पणी करते हुए, श्री हारुतो इवाता, प्रबंध निदेशक, फुजीफिल्म इंडिया प्रा0 लिमिटेड ने कहा, “यशोदा सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल के साथ हमारा जुड़ाव भारत में क्षय रोग से लड़ने के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है। स्वास्थ्य सेवा के प्रति हमारी प्रतिबद्धता और बढ़ती हुई टी बी बीमारी को देखते हुए, हमें लगता है कि यह जनता के बीच जागरूकता पैदा करने और इस मुद्दे को तुरंत हल करने के लिए उपयुक्त उपाय करने का एक शानदार अवसर है। ”

इस जरूरत को समझते हुए, फुजीफिल्म भारत के उन लोगों की भलाई के लिए योगदान देता है जो इस बीमारी से पीड़ित हैं और अभी तक इसके नतीजों से अनजान हैं। टुगेदर एंड टीबी के साथ-साथ कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य यह भी जोर देना है कि अधूरा या विलंबित उपचार अधिक गंभीर और जटिल हो सकता है।” डॉ सुनील डागर महाप्रबंधक – संचालन और गुणवत्ता ने समस्या से निपटने के लिए रोडमैप के बारे में बताया।
कार्यक्रम के उद्देश्य के बारे में बताते हुए, चंदर शेखर सिब्बल, उपाध्यक्ष, मेडिकल डिवीजन के प्रमुख, फुजीफिल्म इंडिया ने कहा, “हर साल, भारत में लगभग 2 करोड़ लोग इस बीमारी से ग्रसित हो जाते हैं, जिसमें लगभग 40% लोग संक्रामक होते हैं। आज का कार्यक्रम यशोदा सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल के साथ-साथ जागररकता बढ़ाने और रोगियों के लिए तपेदिक के उन्नत निदान और उपचार को बढ़ावा देने के लिए हमारा प्रयास है। ”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here