हरियाणा के मुख्य निर्वाचन अधिकारी राजीव रंजन ने आज गुरुग्राम में प्रदेश के 6 जिलों के जिला निर्वाचन अधिकारियों तथा चुनाव से जुड़े अधिकारियों की एक बैठक ली जिसमें उन्होंने कहा कि इस बार चुनाव में टेक्नोलॉजी का भारी पैमाने पर प्रयोग किया जाएगा जिसके चलते प्रत्याशियों के लिए आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन करना तथा अपने चुनावी खर्च को छिपाना कठिन होगा। उन्होंने कहा कि सी विजिल ऐप का पहली बार चुनाव में प्रयोग किया जा रहा है, जिसके माध्यम से आम जनता में से कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रत्याशी अथवा राजनीतिक दल द्वारा आचार संहिता का उल्लंघन करने  या अन्य अनियमितताएं बरतने की फोटो अथवा वीडियो डाल सकता है। सी विजिल पर मिलने वाली शिकायतों का निपटारा 100 मिनट की समय अवधि में संबंधित अधिकारियों द्वारा किया जाएगा लेकिन साथ ही उससे मजबूत एविडेंस भी तैयार होगा जो प्रत्याशी के खिलाफ न्यायालय में प्रस्तुत किया जा सकेगा।

उन्होंने कहा कि सी विजिल ऐप के अलावा, सेक्टर सुपरवाइजरो की गाड़ियां जीपीएस इनेबल्ड होंगी, वे जहां भी जाएंगे उनकी लोकेशन देखी जा सकेगी। सेक्टर सुपरवाइजरो को इस बार खराब इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन, वी वी पैट मशीनों को बदलने के साथ साथ यह जिम्मेवारी भी दी गई है कि वे मतदान केंद्रों को चेक करेंगे और मतदान से एक दिन पहले यह सुनिश्चित करेंगे कि सभी पोलिंग पार्टियां अपने बूथ पर सुरक्षित पहुंच गई है। मतदान के दौरान अपने आवंटित क्षेत्र में घूमते रहेंगे और कहीं भी अनियमितता या चुनाव संबंधी अवैध गतिविधि नजर आएगी तो उसकी तत्काल अपने स्मार्टफोन से फोटो खींचकर और वीडियो बनाकर चुनाव आयोग को भेजेंगे। वे मतदान प्रतिशत की रिपोर्ट भी हर घंटे भेजते रहेंगे। टेक्नोलॉजी के प्रयोग से चुनाव के समय दर्ज होने वाले मुकदमों में  दोषियों को सजा दिलवाने में आसानी होगी और प्रत्याशी का चुनावी खर्च बुक करने में भी आसानी होगी। उन्होंने सभी अधिकारियों से कहा कि वे चुनावी खर्च बुक करने में सख्ती बरतें और पहले ही दिन से शैडो रजिस्टर लगाकर उसमें प्रत्येक उम्मीदवार का चुनावी खर्च बुक करना शुरू कर दें। रंजन ने कहा कि चुनावी खर्च पर सख्ती बरतने से ही चुनाव में होने वाले अनाप-शनाप खर्चे को कम किया जा सकता है।

उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोई भी उम्मीदवार वाहन का परमिट लेता है तो उस वाहन का खर्चा बुक करना पहले दिन से शुरू कर दें, चाहे वह उस वाहन का प्रयोग करें या ना करें।

रंजन ने अधिकारियों से मतदान प्रतिशत बढ़ाने के उपाय करने के भी निर्देश दिए और कहा कि इसके लिए स्वीप गतिविधियां चलाएं। उन्होंने कहा कि मतदान प्रतिशत बढ़ाने के लिए व्यापक योजना बनाई जाए तथा जिन पात्र व्यक्तियों की अभी तक वोट नहीं बने हैं, उनको बताया जाए कि वे 12 अप्रैल को शाम 3 बजे तक अपना वोट बनवाने के लिए आवेदन कर सकते हैं। यह आवेदन ‘डब्लू डब्लू डब्लू  डॉट एन वी एस पी डॉट आई एन’ पर ऑनलाइन भी किया जा सकता है। इसको प्रचारित करने के लिए सार्वजनिक स्थलों पर होर्डिंग लगवाए जाएं तथा महाविद्यालयों व विश्वविद्यालयों में इलेक्टोरल लिटरेसी क्लब को सक्रिय किया जाए। उन्होंने कहा कि महाविद्यालयों के प्राचार्य से एक सर्टिफिकेट भी लिया जाए कि उनके कॉलेज में 18 वर्ष से ऊपर का कोई भी विद्यार्थी ऐसा नहीं है जिसका वोट नहीं बना है। उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में ज्यादा भीड़ वाले चार मेट्रो स्टेशन तथा 3 रैपिड मेट्रो स्टेशन और 10 बड़ी बिल्डिंगो पर वॉल हैंगिंग या होर्डिंग लगवाए जा सकते हैं।

उन्होंने सर्विस वोटर्स का उल्लेख करते हुए कहा कि जब उन्होंने चुनाव विभाग में कार्यभार संभाला उस समय सर्विस वोटर्स की संख्या 72,000 थी जो अब बढ़कर 94 हजार हो गई है। वे इस आंकड़े को एक लाख के पार ले जाना चाहते हैं और इसके लिए सोमवार को अंबाला छावनी में रिकॉर्ड ऑफिसर्स को ट्रेनिंग दी जाएगी। बैठक में बताया गया कि सेना में सेवाएं देने वाले सैनिक तथा उनके परिजन अपना वोट बनवाने के लिए सर्विस वोटर पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। उनके आवेदन रिकॉर्ड ऑफिसर के माध्यम से होने चाहिए अन्यथा स्वीकार्य नहीं होंगे। आवेदन पर रिकॉर्ड ऑफिसर के दस्तखत हो और स्टॉप भी लगी हो।

रंजन ने वोटर हेल्पलाइन नंबर 1950 के संचालन की भी समीक्षा बैठक में की और अपने सामने तीन बार अलग-अलग मोबाइल से डायल करवा कर चेक किया कि हेल्पलाइन पर बैठे ऑपरेटरो का रिस्पांस कैसा है। गुरुग्राम के जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त अमित खत्री ने बताया कि अब तक इस हेल्पलाइन नंबर पर लगभग 30,000 कॉल प्राप्त हो चुकी है।

राजीव रंजन ने मतदाताओं में लिंग अनुपात बढ़ाने पर भी जोर दिया और कहा कि पिछले 2 महीनों में काफी प्रयासों के बावजूद भी प्रदेश में मतदाताओं का लिंग अनुपात 865 से बढ़कर 866 ही हो पाया है। मतदाता लिंगानुपात में सुधार के लिए उन्होंने कहा कि स्कूलों के विद्यार्थियों के माध्यम से उनके अभिभावकों को पत्र भेजे जाएं की परिवार की महिलाएं अपना वोट अवश्य बनवाएं। इसी प्रकार स्वयं सहायता समूह की महिलाओं, राजकीय महाविद्यालयों  में पढ़ने वाली छात्राओं,आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा वर्करों आदि का भी ज्यादा से ज्यादा महिलाओं के वोट बनवाने तथा उन्हें मतदान करने को प्रेरित करने के लिए सहयोग ले।

रंजन ने यह भी कहा कि पर्सन विद डिसेबिलिटी अर्थात दिव्यांग जनों से यदि व्हील चेयर उपलब्ध करवाने की मांग आए तो प्रशासन उस मांग को पूरी करें। इसके लिए दिव्यांगजन पहले ही जिला प्रशासन को सूचित करें।

इस बैठक में राजीव रंजन ने चुनाव के लिए पुलिस विभाग द्वारा नियुक्त किए गए नोडल अधिकारी वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी हनीफ कुरेशी की उपस्थिति में पिछले चुनावों में दर्ज मुकदमों पर की गई कार्रवाई की भी समीक्षा की और कहा कि न्यायालय में यदि किसी कारणवश  केस हार भी जाए तो उसकी अपील दायर करें।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here