दिनांक 5 फरवरी 2019 को मेला पुलिस अधिकारी नीतिका गहलोत एवं मेला नोडल अधिकारी राजेश जून की अध्यक्षता में कोई भी अप्रिय घटना घटने पर उस स्थिति से निपटने के लिए डिजास्टर मैनेजमेंट फॉर बेसिक लाइफ सपोर्ट वर्कशॉप का आयोजन किया गया। इस मौके पर मेला पुलिस अधिकारी नीतिका गहलोत, राजेश जून नोडल अधिकारी सूरजकुंड मेला, अमन यादव पुलिस नोडल अधिकारी सूरजकुंड मेला, अरुण सिंगला आईपीएस, एसीपी आत्माराम, रमेश कुमार, एसीपी पूजा डाबला इत्यादि मौजूद थे।
स्वास्थ्य विभाग फरीदाबाद की तरफ से गुलशन अरोड़ा, डॉ विशाल, सर्वोदय हॉस्पिटल की तरफ से डॉ राज मिश्रा, अनिल भारद्वाज, पंकज मिश्रा, साहिल एवं शिवा मौजूद थे। फायर ब्रिगेड की तरफ से हरि सिंह सैनी सूरजकुंड मेला नोडल ऑफिसर, राजेंद्र दहिया डिस्ट्रिक्ट फरीदाबाद फायर ऑफिसर इत्यादि मौजूद थे। नीतिका गहलोत ने बताया कि यह डिजास्टर मैनेजमेंट वर्कशॉप का आयोजन मेले में किसी भी अप्रिय घटना होने पर कैसे निपटा जाएगा इस बारे में इसमें बताया गया है।
वर्कशॉप में सभी जोन से चार चार पुलिसकर्मियों को बुलाया गया था और इस बारे ट्रेनिंग दी गई है। पुलिस प्रवक्ता सुबे सिंह ने बताया कि डिजास्टर वर्कशॉप आयोजन का मुख्य उद्देश था कि डिजास्टर के समय पुलिस, फायर ब्रिगेड, डॉक्टर कैसे अपना अपना काम करेंगे उनको इस बारे में बताया गया है।वर्कशॉप के माध्यम से लोगों को डिजास्टर के दौरान अपने आप को वह दूसरे को कैसे बचाना चाहिए इस बारे में जागरूक करना था। पुलिस व अन्य संबंधित सभी सरकारी संस्थाएं एकजुट होकर कैसे एक दूसरे के साथ काम करें ताकि डिजास्टर से होने वाली जन हानी को रोका जा सके।
फायर ब्रिगेड की तरफ से आई हुई टीम ने बताया कि आग चार प्रकार की होती है और चारों प्रकार की आग को बुझाने के लिए अलग-अलग फायर एक्सटिंग्विश का प्रयोग किया जाता है। आग को लगने के लिए ऑक्सीजन की बेहद जरूरत होती है अगर हम ऑक्सीजन को रोक देते हैं तो आग अपने आप बुझ जाती है।
नीतिका गहलोत ने बताया कि जब आग लगती है तो सबसे पहले हमें यह देखना चाहिए कि जान और माल को कोई भी नुकसान ना हो। हमें आग को फैलने से रोकना चाहिए जिस जगह पर आग लगी हुई है वहां की चारों तरफ जो भी और चीज है उनको सबसे पहले दूर हटाना चाहिए ताकि आग वहां तक ना पहुंच पाए। फायर ब्रिगेड की टीम ने बताया कि सबसे पहले हमें आग को बुझाते समय इस बात का भी विशेष ख्याल रखना चाहिए कि हवा किस तरफ की है।
फायर ब्रिगेड की तरफ से आई हुई टीम ने फायर फॉर्म एक्सटिंग्विशर का प्रयोग कर मौजूद पुलिसकर्मियों को इसके इस्तेमाल का तरीका भी बताया और पुलिसकर्मियों ने वर्कशॉप में चलाकर भी देखा। नीतिका गहलोत एवं पूजा डाबला ने भी बताए गए तरीकों का प्रयोग स्वयं करके देखाI सूरजकुंड मेले के फायर ब्रिगेड नोडल ऑफिसर हरि सिंह सैनी ने बताया कि आग लगने पर सबसे पहले हमें घबराना नहीं चाहिए संयम से काम लेना चाहिए उसके बाद बताए गए तरीके से आग पर कंट्रोल पाना चाहिए
स्वास्थ्य विभाग एवं सर्वोदय अस्पताल की तरफ से आई हुई टीम ने बताया कि घायल व्यक्ति को किस तरह से उठाकर उसको एंबुलेंस तक कैसे पहुंचाया जाएगाI उन्होंने बताया कि हमें एंबुलेंस से हॉस्पिटल के बीच में जाते वक्त यह देखना है कि घायल व्यक्ति की सांस और पल्स चल रही है या नहीं, नहीं चलने पर हमें उसे रास्ते में ही फर्स्ट एड देनी जरूरी है
फरीदाबाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने मौजूद पुलिसकर्मियों को सीपीआर देने का तरीका भी समझाया कि किस तरह से सीपीआर देनी चाहिए और उसका सही तरीका क्या होता हैI नीतिका गहलोत ने स्वास्थ्य विभाग की टीम एवं सर्वोदय हॉस्पिटल की तरफ से आई हुई टीम को धन्यवाद देते हुए कहा कि इस तरह की वर्कशॉप का आयोजन आगे भी होता रहेगा ताकि फरीदाबाद पुलिस किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहेI
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here