भारत सरकार के सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय के अधीन कार्यरत फील्ड आउटरीच ब्यूरों नारनौल व मण्डी की प्रचार ईकाइयों द्वारा आज पटौदी के लघु सचिवालय परिसर में बेटी बचाओ-बेटी पढाओ, महिला सशक्तिकरण मात्र वंदना, सुरक्षित मातृत्व, उज्जवला व सुकन्या स्मृृद्धि योजना के बारे में विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
इस कार्यक्रम मंे पटौदी ब्लाॅक की लगभग 200 आंगनवाड़ी वर्करों व अन्य महिलाओं ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि मंजु श्योराण थी तथा सहायक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी पूर्ण लाल विशिष्ठ अतिथि थे।
विभाग के प्रवक्ता राजेश अरोड़ा द्वारा महिलाओं को सुरक्षित मातृत्व तथा महिला सशक्तिकरण के लिए केंद्र सरकार द्वारा लागू की जा रही विभिन्न योजनाओं के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि योजनाओं का लाभ लेने के लिए उनके बारे में जानकारी होना जरूरी है। अरोड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री मातृवंदना योजना के तहत गर्भवती महिलाओं व शिशुओं को दूध पिलाने वाली माताओं की मदद के लिए महिला को 6 हजार रूपए नकद सहायता राशि देने का प्रावधान है। इससे हर वर्ष 50 लाख से अधिक महिलाओं को देश में लाभ मिलने की आशा है। पोस्ट आॅफिस अधीक्षक राजेंद्र ने सुकन्या स्मृद्धि योजना के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि इसमें अभिभावक अपनी 10 साल तक की दो बेटियों के खाते खुलवा सकते हैं। इस योजना में ब्याज दर सर्वाधिक है और देशभर में लगभग सवा करोड़ से अधिक कन्याओं के खाते खोले जा चुके हैं जिनमें 20 हजार करोड़ रूप्ए से अधिक की राशि जमा हुई है।
सहायक खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी पूर्ण लाल ने उज्जवला योजना की जानकारी दी और हैल्थ एजुकेटर उर्मिला ने मात्र वंदना योजना, जननी सुरक्षा योजना व सुरक्षित प्रसव के बारे में बताया।
इस अवसर पर आयोजित पोस्टर मेकिंग प्रतियोगित में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता नीलम को प्रथम, रजनी को द्वितीय व कमलेश को तृतीय पुरस्कार प्रदान किए गए।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here