आम जनता की तकलीफों को समझते हुए हरियाणा सरकार ने एक अनूठी पहल की है। अब लोगों को एक दफ्तर से दूसरे दफ्तर के चक्कर काटने नहीं पड़ेंगे। एक साल से ऊपर की कड़ी मेहनत से बनाये गए ‘अंत्योदय सरल पोर्टल‘ पर अब केंद्र और राज्य की 425 योजनाएं और सेवाएं उपलब्ध करवाई गई हैं।
इन केन्द्रों की मदद से नागरिक घर बैठे ही किसी भी सेवा या योजना के लिए आवेदन डाल सकते हैं। इन्ही सेवाओं और योजनाओं का आवेदन करने के लिए वह सरकार के बनाये अंत्योदय सरल केंद्रों में भी जा सकते हैं जहाँ निर्धारित फीस देकर वह आसानी से आवेदन डाल सकते हैं। राज्य के 22 जिलों में 115 केंद्र कार्यरत कर दिए गए हैं जिसका विधिवत शुभारंभ 25 दिसंबर सुशासन दिवस पर हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल करनाल से मेगा लांच के द्वारा करेंगे। इस मौके पर गुरूग्राम में हरियाणा के शिक्षा मंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा मौजूद रहेंगे। प्रो. शर्मा प्रातः 11 बजे गुरूग्राम के लघु सचिवालय में सरल केन्द्र का विधिवत् शुभारंभ करेंगे।
इस कार्यक्रम में विभिन्न विभागों के सरल पोर्टल के नोडल अधिकारियों के अलावा अटल सेवा केन्द्रों के विलेज लेवल एंटरप्रेन्योर(वीएलई) भी हाजिर रहेंगे। इसमें विशेष बात यह है कि सुशासन दिवस पर अंत्योदय सरल प्लेटफार्म को अटल सेवा केन्द्रों के साथ जोड़कर 38 सरकारी विभागों की 425 से अधिक सेवाएं लोगों को उनके घर के नजदीक देने की शुरूआत भी होगी। यह नई पहल डिजीटल इंडिया- डिजीटल हरियाणा मुहिम के तहत की गई है। सुशासन दिवस के कार्यक्रम को लेकर आज गुरूग्राम के लघु सचिवालय के सभागार में एक वर्कशाप का आयोजन किया गया जिसमें नगराधीश मनीषा शर्मा तथा मुख्यमंत्री के सुशासन सहयोगी वैभव लिमेय ने सरल पोर्टल के बारे में विस्तार से जानकारी दी कि इससे लोगों को क्या सुविधा होगी। इस अवसर पर उनके साथ गुरूग्राम उत्तरी के एसडीएम संजीव सिंगला तथा सोहना की एसडीएम चिनार चहल भी उपस्थित थी।
इस प्रोजेक्ट का लक्ष्य नागरिक को आसानी से भ्रष्टाचार रहित सुविधाएं पहुँचाना हैं जिसमे बिचैलियों की आवश्यकता न पड़े।  इन सुविधाओं की गुणवत्ता बनी रहे इसलिए एक नागरिक हैल्पलाइन नंबर तथा फीडबैक नंबर भी शुरू किया जाएगा। नागरिक को आवेदन डालने के बाद लाभ समय से मिले इसके लिए एक डैशबोर्ड का निर्माण भी किया गया है जिससे सभी विभागों द्वारा प्राप्त की गयी सभी एप्लीकेशन का स्टेटस आता है। यह डैशबोर्ड वेबसाइट तथा मोबाइल ऐप पर अफसरों के लिए उपलब्ध है। कोई विभाग लाभ देने में देरी करे तो सीनियर अफसर इस डैशबोर्ड की मदद से पता लगा सकते हैं, यदि विभाग की कोई समस्या है तो उसका भी पता तुरंत लग जाएगा और समय पर सेवा देने वाले विभागों को सम्मानित किया जाएगा।
मंगलवार,25 दिसंबर को सुशासन दिवस पर प्रातः 11 बजे माननीय मुख्य मंत्री श्री मनोहर लाल 22 केंद्रों का लोकार्पण करेंगे। वे करनाल से इस कार्यक्रम का शुभारम्भ करेंगे जिसमे 22 जिले वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से जुड़ेंगे। वे इस अवसर पर ऑनलाइन पोर्टल तथा 22 केंद्रों को जनता को समर्पित करेंगे जिसमें गुरूग्राम के लघु सचिवालय का सरल केन्द्र भी होगा। इसके साथ वे नागरिक हेल्पलाइन नंबर तथा फीडबैक नंबर पर भी खुद पहला फोन कर इनका शुभारम्भ करेंगे। साथ ही साथ डैशबोर्ड के वेबसाइट तथा मोबाइल ऐप की शुरुआत कर वे सभी विभागों की परफॉर्मन्स का जायजा लेंगे। इन सभी के साथ वे इन 425़ सेवाओं और योजनाओं को अटल सेवा केंद्रों के लिए भी लांच करेंगे जिससे यह सुविधा प्रदेश के 6,000 गावों में भी उपलब्ध होगी।
-क्यूँ हैं अंत्योदय सरल इतना खास?
आवेदन करना है आसान , ऑनलाइन हो या सरल केंद्रों के माध्यम से, एक ही वेबसाइट से आवेदन कर सकते हैं। पूछताछ के लिए यहां पर सहायता केंद्र हैं- फीस जाननी हो या दस्तावेज से सम्बंधित पूछताछ हो, यहाँ जान सकते हैं। टोकन के माध्यम से नंबर आता है और भ्रष्टाचार रोकने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगे हैं।
-पूछताछ करनी हो तो हैल्पलाइन नंबर भी उपलब्ध करवाया गया है
आवेदन को ट्रैक करने की है सुविधा, दफ्तर आकर एप्लीकेशन का स्टेटस नहीं जानना पड़ेगा। आवेदन करने के बाद एसएमएस के जरिये एप्लीकेशन का स्टेटस मिलता रहेगा । अंत्योदय सरल वेबसाइट पर भी एप्लीकेशन नंबर से ट्रैक कर सकते हैं कि कहाँ पहुंची एप्लीकेशन, कब तक मिलेगा लाभ। दलालो से मिलेगा छुटकारा।
-जरूरतमंद का रखा गया है ख्याल
221 योजनाएं जैसे पेंशन, लाडली स्कीम आदि जो सरकार ने पिछड़े वर्गों के विकास के लिए शुरू की हैं उनका लाभ लेना आसान हो सके , इसलिए सरल केंद्र केवल जिला मुख्यालय में नहीं, उपमंडल और तहसील के स्तर पर भी शुरू किये हैं।
गाँव के स्तर पर भी ऑनलाइन सेवा दलालों से निजात पाने के लिए गाँव में भी शुरू हुए सीएससी सेंटर में इस पोर्टल की मदद से डाल सकेंगे आवेदन।
-इन विभागों की योजनाओं का उठा सकते हैं लाभ
कृषि, शहरी स्थानीय निकाय, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता, महिला एवं बाल विकास, बिजली वितरण निगम, अनुसूचित जाति एवं पिछड़ा वर्ग कल्याण, शहर एवं देश योजना, पर्यटन, युवा कल्याण एवं खेल, विज्ञानं एवं प्रौद्योगिकी, श्रम, पशुपालन एवं दुग्ध उत्पादन, स्कूल शिक्षा बोर्ड, रोजगार, मछली पालन, खाद्य एवं आपूर्ति, वन, अनुसूचित जातियां एवं आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग कल्याण निगम, श्रम कल्याण बोर्ड, वित्त एवं विकास निगम, आवास बोर्ड, नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा, मुद्रण एवं लेखन सामग्री, जन स्वास्थय अभियांत्रिकी, राजस्व एवं आपदा प्रबंधन, सैनिक एवं अर्धसैनिक कल्याण।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here