पर्यावरण सुरक्षा आज के परिपेक्ष्य में एक चुनौती बनकर उभर रही है, ऐसे में अगर हमारा एक छोटा सा योगदान व मामूली सी पहल से अगर पर्यावरण और मानवीय संवेदना मुखरित हो सकती है तो यह भविष्य के लिए एक कारगर कदम साबित हो सकता है।
इस परोपकार से परिपूर्ण कार्यक्रम के मुख्य अतिथि, चेतन शर्मा (पूर्व क्रिकेटर) ने कहा “विश्व की प्राचीनतम् संस्कृति भारतीय सनातन हिन्दू संस्कृति में पर्यावरण को देवतुल्य स्थान दिया गया है। यही कारण है कि पर्यावरण के सभी अंगों को जैसे जल, वायु, भूमि, आकाश व अग्नि को देवताओं से जोड़ा गया है। भौतिक विकास के पीछे दौड़ रही दुनिया ने आज जरा ठहरकर सांस ली तो उसे अहसास हुआ कि चमक-धमक के फेर में क्या कीमत चुकाई जा रही है। आज समाज को यह महसूस करना होगा कि हम जिस हवा में सांस ले रहे हैं वो कतई भी श्वसन योग्य नहीं है इसलिए अपनी दैहिक क्षमता को बढ़ाकर पर्यावरण के समुचित विकास के लिए एक शपथ अवश्य लें कि “धर्मार्थ काम मोक्षाणां आरोग्यं मूलमुत्तमं।”
विजय कुमार (प्रांत प्रचारक, आरएसएस),  मुख्य वक्ता के रूप में पर्यावरण संरक्षण में साइकिल के योगदान को सराहा और साथ ही मानवीय स्वास्थ्य पर इसके अनमोल फायदे को भी इंगित किया। उन्होंने अपने वक्तव्य में कहा कि “वैश्विक मानचित्र में गुरुग्राम का नाम प्राचीन काल से ही लिखित है। गुरु द्रोण की यह धरती सदियों से ‘गुरु-शिष्य’ परंपरा को निभाती आ रही है। ऐसे में सभी युवा साथियों, स्कूली छात्रों व अध्यापकों से मेरी अपील है कि साइकिल के महत्व को समझें एवं उसकी उपयोगिता व पर्यावरण संरक्षण में साइकिल के योगदान का प्रचार-प्रसार करें।”
सम्बोधन की कड़ी को आगे बढ़ाते हुए जे. के. सिंह (भूतपूर्व कर्नल, भारतीय सेना व संस्थापक सदस्य, आइएमसीटीएफ) ने सरकार से मांग करते हुए कहा कि ” सरकार को भी पर्यावरण सुरक्षा हेतु सजग होकर साइकिल चालन के महत्व को समझते हुए मिलेनियम सिटी के रूप में उभर रहे गुरुग्राम में भी चंडीगढ़ के तर्ज पर सड़कों के किनारे साइकिलिंग ट्रैक व पार्कों में साइकिलिंग ट्रेल का निर्माण अतिशीघ्र संभव कराना चाहिए। साथ ही सभी साइकिल निर्माता कंपनियों से भी अपील की है कि “अपनी साइकिल को और किफायती व सुविधाओं से लैस करते हुए पर्यावरण सुरक्षा में अपना योगदान करें।” देवतुल्य चिकित्सकों से भी निवेदन करते हुए कहा कि “रोगियों को बीमारी के आधार पर त्वरित व समूल उपचार के लिए साइकिल चलाने के लिए प्रेरित करें।”
इस कार्यक्रम के मौके पर आइएमसीटीएफ के संयोजक प्रेमराज पोपली के साथ-साथ  पवन जिंदल (प्रसिद्ध समाजसेवी व उद्योगपति),  सुरेंद्र आर्य (चेयरमैन, जेबीएम ग्रुप), लक्ष्मीकांत भाला (राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य, आरएसएस व आइएमसीटीएफ), सुभाष गोयल ( सेशन जज, अध्यक्ष-कंस्यूमर फोरम, गुरुग्राम),  अशोक दूबे (चेयरमैन, जेएमडी ग्रुप) एवं अमनदीप चौहान (ड्रग कंट्रोलर, गुरुग्राम) मौजूद थे, जिनके संरक्षण में “साइकिल दौड़” का यह कार्यक्रम काफी उत्साहपूर्ण व जन-जागरण से ओत-प्रोत रहा।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here