एनएसयूआई गुरुग्राम के कार्यकर्ताओं ने गुरु द्रोणाचार्य कॉलेज पर प्रदर्शन करके कॉलेज की प्राचार्या को प्रत्यक्ष चुनाव कराने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा तथा गुरुग्राम काँग्रेस कार्यालय पर प्रेस कॉन्फ्रेंस करके सरकार की छात्र विरोधी नीतियों को उजागर किया। प्रदर्शन का नेतृत्व एनएसयूआई के राष्ट्रीय महासचिव वर्धन यादव ने किया । इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने जमकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।
एनएसयूआई के राष्ट्रीय महासचिव वर्धन यादव ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि हरियाणा की बीजेपी सरकार ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में वायदा किया था कि सत्ता में आते ही छात्रसंघ चुनाव बहाल करेंगे लेकिन आज 4 साल बीत जाने के बाद चुनावी समय पर छात्रों को गुमराह करना चाहते है । वर्धन ने बताया कि 1 अक्टूबर को हरियाणा के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा की तरफ से अप्रत्यक्ष चुनाव की बहाली को लेकर ब्यान जारी हुआ है लेकिन उसमें ना तो चुनावी तारीख की घोषणा की गई है और ना ही कॉलेजो की लिस्ट जारी की है जहाँ पर चुनाव होने है। उन्होंने सिर्फ बताया है कि 18 यूनिवर्सिटी और 725 कॉलेजों में चुनाव होने है ।
वर्धन यादव ने सरकार पर पक्षपात का आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार को अप्रत्यक्ष चुनाव कराने में डर लग रहा है। चुनावी प्रक्रिया के बारे में सिर्फ एबीवीपी के कार्यकर्ताओं को ही बताया गया है और एबीवीपी के छात्र उसी प्रकार से तैयारियो में लगे हुए है। वर्धन ने आरोप लगाया कि ना तो बीजेपी सरकार ने बताया है कि 6 पदों पर चुनाव होंगे या सिर्फ अध्यक्ष पद पर चुनाव करवाये जायेंगे।
उन्होंने कहा कि हरियाणा की भाजपा सरकार के इस डरपोक रवैये का हम डटकर मुकबला करेंगे और सरकार से माँग करेंगे कि चुनाव प्रत्यक्ष रूप से करवाया जाए ताकि आम छात्र को वोट डालने का मौका मिले है और राजनीति में आम परिवार के बच्चों को आगे बढ़ने का मौका मिले।
इस दौरान एनएसयूआई हरियाणा के प्रदेश उपाध्यक्ष प्रशांत सारवान, पूर्व प्रदेश महासचिव शैंकी सैनी, प्रदेश सचिव कृष्ण अत्री, पूर्व जिलाध्यक्ष गुरुग्राम आशीष सैनी, निखिल कौशिक, ओगेश कटारिया, शिव बोकन, अक्षय सेहरा, अमित चौधरी, शेरू यादव, आकाश धर्मपुर, नरेश राणा, ऋषभ सूद आदि मौजूद थे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here