दिल्ली-नीमराणा- शाहजहांपुर रैपिड रेल योजना का काम तय लक्ष्य से पूर्व शुरू करने को लेकर केंद्र सरकार योजना पर तेजी से काम करेगी। हरियाणा सरकार की ओर से रूट को फाइनल करने के बाद योजना के लिए जरूरी भूमि के अधिग्रहण को लेकर हरियाणा के विभागों व एनएचएआई से मंजूरी को अंतिम रूप दिया जा रहा है ।
दिल्ली में केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी व केंद्रीय योजना राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह ने अधिकारियों के साथ बैठक कर दिल्ली-नीमराणा- शाहजहांपुर रैपिड रेल योजना की समीक्षा की। शहरी विकास मंत्री की मौजूदगी में राव इंद्रजीत सिंह ने चंडीगढ़ में मुख्यमंत्री मनोहर लाल व उनकी मौजूदगी में हुई बैठक के बाद की कार्य योजना की समीक्षा की। राव ने शहरी विकास मंत्री को बताया की चंडीगढ़ बैठक में केंद्र व हरियाणा के अधिकारियों की मौजूदगी में मार्च 2019 में योजना पर काम शुरू करने पर सहमति बनी थी। राव ने शहरी विकास मंत्री के समक्ष योजना के तय लक्ष्य से जल्द शुरू करने व योजना के संबंध में आ रही अडचनों को दूर करने के लिए अगले माह एक और बैठक केंद्र व हरियाणा के अधिकारियों के करने पर सहमति बनी। केंद्रीय शहरी विकास मंत्री हरदीप पुरी ने राव इंद्रजीत के योजना पर जल्द काम शुरू करने की मांग पर अपनी सहमति जताई  । उन्होंने कहा  कि योजना को शुरू करने के लिए एक संयुक्त बैठक  रोड ट्रांसपोर्ट मंत्रालय के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी , शहरी विकास मंत्रालय व हरियाणा के अधिकारियों के बीच एक बैठक जल्द बुलाई जाएगी।
दिल्ली-नीमराणा- शाहजहांपुर रैपिड रेल योजना की समीक्षा बैठक में केंद्र के अधिकारियों ने बताया कि पिछले दिनों चंडीगढ़ में हुई बैठक में योजना राज्य मंत्री राव इंद्रजीत की ओर से बिलासपुर में स्टेशन बनाए जाने की मांग को स्वीकार कर लिया गया है और योजना में बिलासपुर चौक पर स्टेशन बनाया जाएगा। केंद्र के अधिकारियों ने बताया कि गत 13 सितंबर को एनएचएआई व हरियाणा सरकार के अधिकारियों के साथ योजना के तकनीकि पहलूओं के बारे में चर्चा कर एनएचएआई की ओर दी जाने वाली मंजूरी के बारे में चर्चा की गई।  योजना के रास्ते में आ रही एचटी लाईनों को हटाने को लेकर संबंधित विभाग को निर्देश दिए गए है। इस रूट की कुल लंबाई करीब 107 किलोमीटर है जिसमें 73 किलोमीटर का रूट ऐलिवेटिड रहेगा वहीं 34 किलोमीटर का रूट अंडर ग्राउंड रहेगा।  दो चरणों में होने वाले इस काम के तहत पहले चरण में यह ट्रेन अलवर के शाहजहांपुर तक पहुंचेगी। इस पर 25 हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। एनसीआर ट्रांसपोर्ट कॉर्पोरेशन (एनसीआरटीसी), भारत सरकार और हरियाणा, राजस्थान और दिल्ली एनसीटी के संयुक्त उद्यम के तहत हाई स्पीड मेट्रो प्रस्तावित है। हाई स्पीड रेल की औसत गति करीब 100 किमी प्रति घंटे होगी। इस योजना के शुरू के  बाद दिल्ली की राह आसान हो जाएगी।
-दो लाख लीटर पानी से ठंडी होगी अंडर ग्राउंड टनल
योजना के तहत बनने वाली अंडर ग्राउंड टनल को ठंडा रखने के लिए रोजाना करीब दो लाख लीटर पानी की आवश्यकता का अनुमान अधिकारियों की ओर से किया गया है। इस संबंध में केंद्र के अधिकारियों की ओर से हरियाणा सरकार को टनल को इंडा रखने के लिए आवश्यक पानी की आवश्यकता के बारे में अवगत करावाकर उसकी व्यवस्था करने के बारे में कहा गया है। हरियाणा सरकार के अधिकारियों को योजना के लिए आईडीपीएल की लैंड की आवश्यकता के बारे में भी अवगत कराया गया हैँI
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here