लूट-झूठ-फूट की नीतियों, पेट्रोल-गैस की महंगाई, राफेल खरीद घोटाले, बैंक लूट व बेरोजगारी के खिलाफ देश की वामपंथी पार्टियों के आह्वान पर गुड़गाँव में कारोबार बंद-आम हड़ताल का नारा देते हुये मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी व सोसलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट) के साथियों ने नुक्कड़ मीटिंग कर प्रदर्शन किया गया। प्रदर्शन में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के कामरेड एस एल प्रजापति, उषा सरोहा, लालमाती, सूरज, ईश्वर नास्तिक व एडवोकेट विनोद भारद्वाज, तथा सोसलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट) के कामरेड राम कुमार, सरवन कुमार, बलवान सिंह, वज़ीर सिंह व साथियों ने बस स्टैंड के पास महावीर चौक पर एकत्रित हो कर नुक्कड़ सभा का आयोजन किया।

वक्ताओं ने जनता को बताया की मोदी सरकार का मायावी चेहरा सबके सामने आ चुका है। पैट्रोल-डीजल-गैस पर 11 बार नए टैक्स लगाए और लोगों की जेब से 10 लाख करोड़ रूपए निकाल कर तेल कम्पनियों और अपने खजाने में भर लिए। मोदी के आने से पहले  कच्चे तेल की कीमत 130 डालर प्रति बैरल थी तब भी पैट्रोल 71 रूपए लीटर और डीजल 56 रूपए लीटर बिकता था।  अब कच्चा तेल 80 रूपए प्रति बैरल है किंतु पैट्रोल 80 रूपए, डीजल 70 रूपए लीटर और गैस सिलंडर 800 रूपए का हो गया है। यदि सरकार बाद में बढ़ाए टैक्स कम कर दे तो भी कीमतें आधी हो सकती  हैं। तेल की कीमतों में वृद्धि  से फसलों का लागत मूल्य बढ़ेगा, जरूरत की सभी चीजें महंगी हो जाएंगी और बाजार-करोबार में मंदी आएगी। इसके साथ ही डालर के मुकाबले रूपए कीमत गिरकर 1 डालर-72 रूपए  हो गई जिससे देश गहरे संकट में फंसता जाएगा।

किसान-मजदूर लड़ रहे हैं-लाभकारी दाम, कर्ज मुक्ति और रोजगार के लिए, किंतु सरकार पूंजीपतियों पर खजाना लुटा रही है। चार लाख करोड़ के कर्ज माफ कर दिए, साढ़े आठ लाख करोड़ बैंकों से लेकर डकार गए- कुल 100 से भी कम बड़े घराने। दरबारी-चहेती पूंजी की लूट उजागार हो चुकी है। राफेल विमान घोटाला बच्चे-बच्चे की जबान पर है। सरकार गोपनीयता के नाम पर सच को दबाए बैठी है। ललित मोदी-नीरव मोदी-सुशील मोदी-माल्या-मेहूल चौकसी-खनन घोटाला-व्यापम-चहुंओर लूट-भ्रष्टाचार-भगौड़े होने की कहानियां हैं। रिजर्व बैंक की रिपोर्ट ने बेनकाब कर दिया किस तरह नोटबंदी के जरिए कालाधन सफेद किया गया। शिक्षा-स्वास्थ्य-रोजगार-मनरेगा पर हमले हैं, जनता बदहाल है-चोर-लूटेरे-पूंजीपति-भाजपाई मालामाल हैं।

ऐसे में एकजुट-प्रबल विरोध में  करोड़ों हाथ एक साथ नारे बुलंद करें और अन्याय पर टिकी भाजपा केन्द्र व राज्य सरकार को  चलता बनने का संकेत दें। वे जिंदगी के ज्वलंत सवालों से ध्यान हटाने के लिए गाय, मंदिर, आरक्षण, घुसपैठिए आदि न  जाने कितने ढोंग रचकर लोगों में नफरत पैदा करते हैं- आपस में लड़ाते हैं और हमारी फूट का लाभ उठाकर एक बार फिर कुर्सी हथियाना चाहते हैं। वामपंथी नेताओं ने जनता अपील की कि आने वाले चुनावों में इस सरकार को चलता करें।

delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here