गुरुग्राम के श्रवण एवं वाणी निशक्तजन कल्याण केन्द्र में उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने चार दिवसीय ‘अर्ली एजुकेशन- बायलिंगवल स्ट्रेटजीज़’ कार्यशाला में शिरकत की। उन्होंने बताया कि इस निशक्तजन कल्याण केन्द्र में अर्ली इंटरवेशन फार दी डेफ नामक अनूठा प्रौजेक्ट शुरू किया गया है जोकि देश में अपनी तरह का पहला प्रौजेक्ट है। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने रिबन काटकर इस प्रौजेक्ट की शुरूआत की।
उपायुक्त ने बताया कि इस प्रौजेक्ट के तहत यहां पर श्रवण निशक्तजनों के लिए सात भाषाओं के ट्रेनर लगाए जाएंगे और एक प्रौजेक्ट कोर्डिनेटर नियुक्त किया जाएगा जो श्रवण निशक्त छोटे बच्चों को शुरू से ही साईन लेग्वेज अर्थात् संकेत भाषा सिखाएंगे। इसमें 6 वर्ष तक के बच्चों पर फोकस रखा जाएगा क्योंकि इस उम्र में बच्चा जल्दी सीख पाता है। उन्होंने बताया कि जो बच्चे सुन नही सकते उनके अभिभावकों को इसके बारे में ज्यादा ज्ञान नही होने के कारण वे किसी प्रकार की भाषा सीखने में पीछे रह जाते हैं। अभिभावकों को संकेत भाषा के महत्व के बारे में ज्यादा कुछ नही पता होता। उन्होंने बताया कि गुरुग्राम में इस प्रौजेक्ट को लाने में राज्यपाल तथा श्रवण एवं वाणी निशक्तजन सोसायटी के अध्यक्ष प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी ने सहयोग दिया है।
सिंह ने कहा कि श्रवण निशक्तजन बच्चों को भी अन्य बच्चों की तरह समान अधिकार प्राप्त है और उन्हें भी सामान्य बच्चों के बराबर अवसर दिए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि यह प्रौजेक्ट तो एक शुरूआत है। उपायुक्त ने आए हुए अभिभावको का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि वे श्रवण दिव्यांगता को एक अवरोध ना समझें बल्कि ऐसे विशेष बच्चे भी जीवन में ऊंचाईयों को छू सकते है, यदि उन्हें अच्छी शिक्षा और अवसर मिलें। उन्होंने बताया कि इस कार्यशाला में विदेशो से भी विशेषज्ञ एवं अनुसंधानकर्ता पहुंचे जिनमें विशेष रूप से श्रवण दिव्यांगजन को शिक्षा के क्षेत्र में काम करने वाले वाशिंगटन डीसी स्थित गलोडट यूनिवर्सिटी से भी विशेषज्ञ शामिल थे। उन्होंने श्रवण दिव्यांगता वाले शिक्षकों की नियुक्ति को ऐतिहासिक कदम बताते हुए कहा कि यह प्रौजेक्ट इस शारीरिक दिव्यांगता मॉडल से सोशियों लिंगविस्टिक मॉडल की दिशा में काम कर रहा है। प्रौजेक्ट कोर्डिनेटर आशीष दोवल, जो स्वयं श्रवण दिव्यांगजन हैं, ने आशा जताई कि इस प्रौजेक्ट से हरियाणा के हजारों श्रवण दिव्यांगजन बच्चों के जीवन में बदलाव लाने में सफल होंगे। इस अवसर पर सोसायटी की चेयरपर्सन डा. शरणजीत कौर भी उपस्थित थी।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here