अतिरिक्त उपायुक्त आर के सिंह गांव ताजनगर में बाग लगाओ अभियान के तहत आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित किसानों को सम्बोधित कर रहे थे। आज आयोजित इस कार्यक्रम में जिला भर से लगभग 350 किसानों ने भाग लिया। सिंह ने बताया कि इस अभियान के तहत जिला में नींबू, अमरूद, किन्नू व मौसमी के बाग लगाए जाएंगे जिनके लिए विभाग द्वारा सब्सिडी दी जाएगी। उन्होंने बताया कि विभागीय योजना अनुसार 1 हैक्टेयर भूमि पर पहले साल किसान को बाग लगाने के लिए 11 हज़ार 500 रूपये की सब्सिडी दी जाएगी। इसी प्रकार, दूसरे साल किसान को इसके लिए 7,000 रूपये की सब्सिडी दी जाएगी बशर्तें दूसरे साल किसान के बाग में 90 प्रतिशत पौधे जिंदा होने चाहिए। तीसरे साल किसान को इस योजना के तहत 4,500 रूपये की सब्सिडी दी जाएगी बशर्ते किसान के बाग में 75 प्रतिशत पौधे जिंदा हो।
सिंह ने किसानों से कहा कि जहर मुक्त खेती को बढ़ावा दें और अपने परम्परागत नीम, जामुन आदि पेड़ों को अपनी दैनिक दिनचर्या में शामिल करें। उन्होंने किसानों का आह्वान करते हुए कहा कि वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किसानों की आय दुगनी करने के सपने को साकार करने के लिए बागवानी विभाग की विभिन्न स्कीमों के साथ जुड़े और फू लो की खेती, मशरुम, सब्जियों की खेती, पोली हाउस व सुक्ष्म सिंचाई को अपना कर अपनी आय को दुगना करें।
कार्यक्रम में नाबार्ड, पूसा तथा कृषि विज्ञान केन्द्र से पदाधिकारियों ने बढ़चढ़ कर भाग लिया और किसानों को विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में अवगत करवाया। जिला उद्यान अधिकारी डा. द्दीन मोहम्मद ने किसानों को परम्परागत खेती के बारे में विस्तार से बताया और स्वयं सहायता समुह की महिलाओं का मशरुम की खेती से जुडऩे के लिए आह्वान किया। उन्होंने बताया कि पोली हाउस पर 65 प्रतिशत सूक्ष्म सिंचाई पर 85 प्रतिशत संकर सब्जियों की खेती पर 20 हजार रुपए प्रति हैक्टयर, मशरुम की उत्पादन इकाई लगाने पर 8 लाख रुपए प्रति 2 हजार वर्ग फू ट की इकाई पर, केले पकाने क गोदाम पर 35 प्रतिशत, कोल्ड स्टोर बनाने पर 35 प्रतिशत व अधकितम 1 करोड़ 40 लाख रुपए, बागवानी के कार्य के लिए छोटे ट्रैक्टर पर 75 हजार से एक लाख रुपए तक का अनुदान दिया जा रहा है।
उन्होंने बताया कि इस साल जिला में 150 एकड़ जमीन पर बाग लगाने का लक्ष्य है जिसे 15 अगस्त तक पूरा किए जाने के प्रयास हैं। यदि कोई किसान इस बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह किसी भी कार्यदिवस में आकर जिला बागवानी विभाग के कार्यालय में आकर संपर्क कर सकता है। उन्होंने कहा कि इच्छुक किसान को विभाग द्वारा वैज्ञानिक सलाह के साथ साथ अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध करवाई जाएगी। कार्यक्रम में किसानों ने बाग लगाओं अभियान को लेकर अपने संशयों को भी बागवानी विभाग के अधिकारियों से दूर किया।
वहीं इस मौके पर पहुंचे आईएआरआई पूसा नई दिल्ली के डा.नावेद ने जड़सूत्र कृमि रोग अथवा नेमीतोड के लक्षण व उपाय के बारे में विस्तार से बताया। हैक मुरथल की डा. सुजाता ने मशरुम की खेती के बारे में कृषि विज्ञान केंद्र शिकोपुर के डा. राम सेवक ने सब्जियों और फलों में बिमारी, कीट नियंत्रण के बारे में, नाबार्ड के जिला प्रबंधक विजय नागरा ने किसानों को वित्तीय सहायता के बारे में, एनआरएलएम की डा. दीप्ति ने स्वयं सहायता समूह बनाने व लाभ उठाने के बारे में जागरुक किया।  उद्यान विकास अधिकारी मांगे राम गौदारा ने भी बागवानी की विभन्न स्कीमों के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दी।
इस मौके पर संदीप यादवए चांद सिह, प्रताप सिंह, पूर्व सरपंच ओमप्रकाश, एफपीओ के प्रधान आजाद सिंह, जाटौला के सरपंच कृष्ण महाराज, फाजिलपुर के सरपंच गोविंद सिंह, पशु पालन विभाग की डा. सुषमा यादव, आत्मा के चेयरमैन उमेश तिरपडी, शीश राम पूर्व सरपंच, जयनारायण, प्रकाश, रामकरण, देविंद्र, अशोक लोकरा, धर्मपाल सैनी, रगबीर सैनी, शेरसिंह, प्रवीण दोहला, नीतीश कुमार यादव, खुशीराम, नेपाल सिंह, करण सिंह, जगदीश, दलीप, महेंद्र सिंह, विजयपाल, रगबीर, रामसिंह, राजेंद्र आदि मौजूद थे।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here