हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि सुशासन देना राज्य सरकार की प्राथमिकता का विषय है और इस उद्देश्य को लेकर शासन का दृष्टिकोण भी स्पष्ट है। उन्होंने यह बात चीफ मिनिस्टर गुड गवर्नेंस एसोसिएट्स (सीएमजीजीए) प्रोग्राम के दूसरे बैच (2017-18) का कार्यकाल पूरा होने पर आयोजित विदाई कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही। गुरुग्राम में राजकीय स्वर्ण जयंती लोक निर्माण विभाग (भवन एवं मार्ग) विश्राम गृह के कांफ्रेंस रूम में आयोजित विदाई कार्यक्रम में सभी सीएमजीजीए ने अपने-अपने अनुभव सांझा किए तथा अपनी टीम में काम करने का अवसर प्रदान करने तथा कुशल मार्गदर्शन के लिए मुख्यमंत्री का आभार भी जताया।
मनोहर लाल ने हरियाणा के सीएमजीजीए प्रोग्राम को अपने आप में एक यूनिक मॉडल बताते हुए कहा कि देश के अन्य प्रदेश भी आज इस कार्यक्रम का अध्ययन कर रहे हैं। हरियाणा में 25 दिसंबर 2014 को सुशासन दिवस मनाया गया था। राज्य की जनता की सेवा करने तथा उनकी पीड़ा को दूर करने के लिए नए-नए प्रयोग किए गए। इन्हीं प्रयोग में जिलास्तर पर सीएमजीजीए नियुक्त किए गए। उन्होंने कहा कि जनता की समस्याओं को दूर करना हमारी प्राथमिकताओं में से एक है। इसके साथ ही हम गर्वनेंस को किस प्रकार से बेहतर कर सकते हैं, उस दिशा मे प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि सीएमजीजीए के माध्यम से हमने सिस्टम की एनर्जी बढ़ाने का काम किया है ताकि जनता को ज्यादा से ज्यादा सुविधाएं मिल सकें। उन्होंने कहा कि आज यह जानकर भी प्रसन्नता हो रही है कि सभी सीएमजीजीए की कार्यशैली की जनता, सरकार व प्रशासन के स्तर पर सराहना हो रही है। सीएमजीजीए के तौर पर काम करने वाले युवाओं को उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आप सभी ने ‘मैं’ नहीं ‘हम’ की भावना के साथ टीमवर्क किया है।
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी कॉर्पोरेट जगत को सरकार में काम करने का अवसर दिया है। आज की युवा शक्ति में देश को आगे बढ़ाने के लिए पैशन और एंबीशन दोनों है। इस अवसर पर सीएमजीजीए के तौर पर काम करने वाली टीम ने हरियाणा में काम करते हुए अपने-अपने अनुभव सांझा किए। अंत्योदय सरल, सक्षम हरियाणा, सीएम विण्डो, हरपथ, एसएमजीटी, स्वच्छता एप, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ, सीसीटीएनएस, पुलिस कम्यूनिटी लायजनिंग, स्वच्छ भारत मिशन, आरटीए कार्यालय, ई-ऑफिस, पर्यावरण संरक्षण, जागृति आदि कार्यक्रमों को जमीनी स्तर पर सफलता से क्रियांवित करने में सीएमजीजीए की महत्वपूर्ण भूमिका रही है।
मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव डा. राकेश गुप्ता ने सीएमजीजीए कार्यक्रम के लिए मार्गदर्शन देने के लिए मुख्यमंत्री का आभार जताया। उन्होंने बताया कि हरियाणा में दूसरे बैच का कार्यकाल 30 जून को पूरा हो गया है, परंतु नया बैच आने तक ये अंतोदय सरल केन्द्रों तथा सक्षम युवा(शैक्षणिक)पर काम करते रहेंगे। वर्ष 2018-19 में काम करने के लिए सीएमजीजीए के नए बैच का चयन कर लिया गया है। प्रोग्राम की नॉलेज पार्टनर अशोका यूनिवर्सिटी के साथ मिलकर नए बैच का प्रशिक्षण जारी है और आगामी 15 जुलाई से नए सीएमजीजीए सभी जिलों में कार्यभार ग्रहण कर लेंगे। उन्होंने बताया कि हरियाणा का सीएमजीजीए प्रोग्राम बड़ी तेजी से लोकप्रिय हुआ है। इस बार नए बैच के लिए 28,000 से अधिक आवेदन प्राप्त हुए जबकि पिछले साल आवेदनों की संख्या 1900 रही थी। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने सभी सीएमजीजीए को अनुभव प्रमाण पत्र भी प्रदान किए।
इस अवसर पर अशोका यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर प्रताप भानु मेहता, गुरूग्राम के डीसी विनय प्रताप सिंह सहित कार्यक्रम से जुड़े अधिकारीगण उपस्थित रहे।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here