फर्रूखनगर- झज्जर हाईवे पर बनाए जा रहे बाइपास की राह में आ रही गउशाला को हटाने की योजना के खिलाफ लोगों ने रविवार को महापंचायत का आयोजन किया। सुल्तानपुर में आयोजित महापंचायत में सर्वसहमति से फैसला लिया कि गउशाला बचाने के लिए मुख्यमंत्री से गुहार लगाई जाएगी। मुख्यमंत्री के रूख के बाद आगे की लड़ाई के लिए रणनीति बनाई जाएगी।
श्री गौशाला प्रबंधन कमेटी के अध्यक्ष जसपाल कटारिया की अध्यक्षता में आयोजित महापंचायत में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता भी पहुंचे। इन सभी ने गउशाला की जमीन को बचाने की वकालत करते हुए सड़क के रूट में मामूली बदलाव की वकालत की। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता महेश यादव सरपंच ने पंचायत के समक्ष सुझाव रखा कि ‘पहले इस मामले में प्रशासन और सरकार की मंशा जानी जाए तथा शांतिपूर्वक हल निकालने का प्रयास किया जाएगा। इसके लिए मुख्यमंत्री से मुलाकात कर उनके समक्ष पूरा ब्यौरा रखा जा सकता है।’ उन्होंने कहा कि यदि सरकार ने सुनवाई नहीं की तो आगे की लड़ाई लड़ने के लिए क्षेत्रवासी एकजुट हो जाएं। पूर्व डिप्टी स्पीकर तथा वरिष्ठ इनेलो नेता गोपीचंद गहलौत ने कहा कि गौशाला को किसी भी हाल में नहीं टूटने दिया जाएगा। इसके लिए लोग किसी भी तरह की कुर्बानी देने के लिए तैयार हैं। अनंतराम तंवर ने कहा कि सड़क में पहले से ही कई मोड़ हैं तो हजारों बेसहारा गायों को बेघर होने से बचाने के लिए एक मामूली घुमाव देने से सरकार क्यों बच रही है।
महापंचायत में मौजूद अनेक गांवों के लोगों ने फैसला लिया कि 12 जून को डीसी के माध्यम से मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजकर पूरी स्थिति से अवगत करवाया जाए। इसके बाद सरकार के रूख का इंतजार किया जाए। लोगों ने इस बात का भी विरोध किया कि मार्केट कमेटी के चेयरमैन गलत तरीके से गउशाला प्रबंधन कमेटी के साथ समझौता होने की बात प्रचारित कर रहे हैं। इस मौके पर 360 झाडसा खाप के प्रधान श्याम सिंह ठाकारन, महेंद्र सिंह ठाकरान, प्रदीप जेलदार, सुखबीर तंवर, राष्ट्र दहिया, प्रदीप यादव, ओम प्रकाश कटारिया, आरएस राठी, प्रदीप कटारिया, मुकेश शर्मा सिलोखरा, नरेश सहरावत व राकेश दौलताबाद सहित काफी लोग मौजूद रहे।
112 साल पुरानी गौशाला में हैं हजारों गाय-गौवंश
श्री गौशाला करीब 112 साल पुरानी है। इसकी स्थापना वर्ष 1906 में गुरुग्राम के महाबीर चौक के पास की गई थी और फर्रूखगर के सुल्तानपुर में करीब 54 एकड़ भूमि पर इसका विस्तार किया गया। फिलहाल करीब 20 एकड़ जमीन पर गौशाला के शेड आदि बने हुए हैं। इसमें 1500 से अधिक गाय व गौवंश हैं। फर्रूखनगर में यातायात जाम की समस्या के समाधान के लिए झज्जर- गुरुग्राम रोड पर बाइपास का निर्माण करने के लिए सरकार इस गौशाला की जमीन के अधिग्रहण की तैयारी की जा रही है।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here