शायद ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी भी सार्वजनिक रूप से गर्मी में पानी की छबील पर पर्यावरण और लोगों की सेहत का विशेष ध्यान रखा गया है। सामान्य तौर पर लोग पैसे खूब खर्च कर देते हैं लेकिन छोटी-छोटी बातों को नजरअंदाज करके भला करने के साथ लोगों की सेहत से खिलवाड़ कर बैठते हैं। लेकिन हम जिसकी बात कर रहे हैं, वहां ऐसा कुछ नहीं हुआ।
शनिवार को यहां कबीर भवन चौक शिव मूर्ति के पास प्रेम मंदिर के संचालक और एक आवाज संस्था के सदस्यों ने मिलकर मीठे की छबील लगाकर लोगों का गला तर किया गया। इस धर्म के कार्य के साथ इस बात का विशेष ध्यान रखा गया कि वहां पर उनकी वजह से न तो गंदगी फैले और न ही किसी के सेहत के साथ कोई खिलवाड़ हो। यानी बीट प्लास्टिक पॉल्यूशन से पूरी तरह तौबा की गई। यहां पर विशेष गिलासों में लोगों को पानी पिलाकर उसे अच्छे तरीके से साफ किया गया। धर्म प्रेमी अनिल आजाद, एक आवाज संस्था के राजकुमार सैनी, रोड सेफ्टी आॅफिसर धर्मवीर वर्मा, बुलंद आवाज की ओर से कुलदीप सिंह ने कहा कि वे यह नहीं चाहते कि धर्म के नाम पर किसी तरह से भी लोगों की सेहत और स्वच्छता खराब न हो।
यह उनका सकारात्मक प्रयास था। इसकी लोगों ने भी सराहना की। उन्होंने बताया कि हर सामाजिक संस्था इस तरह के कार्यों की शुरुआत करे तो काफी हद तक ऐसी परेशानियों से बचा जा सकता है जो कि हम खुद पैदा करते हैं। अनिल आजाद ने कहा कि समाज सेवा का बीड़ा हम सबको उठाना चाहिए। समाजसेवी शम्मी अहलावत ने कहा कि भूखे को खाना और प्यासे को पानी पिलाना सबसे बड़ा धर्म है। क्योंकि अगर किसी का भूख और प्यास से जीवन खत्म होता है तो समाज की सेवा में जुटे लोगों को बड़ी तकलीफ होती है। इसलिए समाजसेवा में जुटी संस्थाएं लोगों को तलाश कर उनकी सेवा करती हैं, ताकि यह अनमोल जीवन वे भी सही तरीके से जी सकें। इस मौके पर सौरव समेत काफी संख्या में युवाओं ने अपनी भागीदारी निभाई।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here