विश्व पर्यावरण दिवस पर हरियाणा के लोक निर्माण तथा वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने लोगों को पानी के बचाव के प्रति सचेत करते हुए अधिक से अधिक पौधे लगाने का आह्वान किया। इसके साथ उन्होंने कहा कि ‘अभी नही संभले तो बाद में पछताना पड़ेगा’।
राव नरबीर सिंह गुरुग्राम जिला के गांव टीकली में विश्व पर्यावरण दिवस पर वन विभाग द्वारा आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि थे। उन्होंने इस गांव में लगभग 19 एकड़ भूमि पर 2 करोड़ रूपये की लागत से बनाए जाने वाले बाबा दयाल दास हर्बल पार्क की नींव भी रखी। उन्होंने इस हर्बल पार्क में पौधारोपण कर ग्रामीणों को बरसात के मौसम में ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाने के लिए प्रेरित किया।
अपने संबोधन में राव नरबीर ने कहा कि पर्यावरण मिट्टी, पानी तथा वायु 3 चीज़ो से बनता है और हम इन तीनों को ही प्रदूषित करने में पीछे नही हैं। उन्होंने कहा कि मिट्टी में हम इतनी रसायनिक खाद तथा कीटनाशक डाल रहे हैं जिससे खेतों में पैदावार तो बढ़ रही है लेकिन उससे हमारे शरीर में हाई ब्लड प्रेशर, शुगर , हार्टअटैक आदि बीमारियंा बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा कि रसायनिक खाद तथा कीटनाशक ना केवल हमारे खेत के लिए हानिकारक हैं बल्कि हमारे शरीर के लिए भी नुकसानदेह है इसलिए रसायनिक खाद व कीटनाशकों का प्रयोग कम करें। ऐसा करके बिमारियों में कमी लाई जा सकती है।
उन्होंने कहा कि पर्यावरण का दूसरा महत्वपूर्ण भाग पानी है जिसकी हम बहुतायत में बर्बादी कर रहे हैं। राव नरबीर सिंह ने कहा कि गांवो में नालियां पानी से भरी चलती हैं तथा पानी व्यर्थ में बहता रहता है जिसकी ओर कोई ध्यान नही देता। उन्होंने कहा कि पहले गुरुग्राम जिला में साबी नदी का पानी आता था जो अब आना बंद हो गया है इसलिए ग्रामीणों को चाहिए कि वे बरसात के मौसम में अपने जोहड़ो में पानी भरें तथा खेतों में भी गड्ढे बनाकर पानी एकत्रित करें जो मिट्टी में रिसकर नीचे भूमिगत जल को रिचार्ज करेगा। उन्होंने कहा कि पानी के बिना जीवन संभव नही है इसलिए हमें पानी का बचाव करना चाहिए। इस दिशा में हर व्यक्ति को अपने स्तर पर प्रयास करने होंगे। साथ ही वन मंत्री ने लोगों को सचेत भी किया कि पानी बचाने के प्रति अभी सचेत नही हुए तो भविष्य में पानी की इतनी भारी किल्लत होगी कि हमारी आने वाली पीढिय़ों को हमारी लापरवाही का हर्जाना भुगतना पड़ेगा।
उन्होंने कहा कि पर्यावरण का तीसरा महत्वपूर्ण तत्व वायु है जिसे हम वाहन के धुंए तथा कूड़ा व प्लास्टिक जलाकर प्रदूषित कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जब तक आम आदमी जागरूक नही होगा, सरकार अकेले पर्यावरण प्रदूषण को कम नही कर सकती। राव नरबीर सिंह ने इसके साथ लोगों को बरसात के मौसम में ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाने का आह्वान करते हुए कहा कि अपने बुजुर्गों की याद में तथा बच्चों के जन्म दिन पर पेड़ लगाएं और पांच वर्ष तक उनकी देखभाल करें। इसके अलावा, राव नरबीर सिंह ने लोगों से शादी-ब्याह में निमंत्रण कार्ड छपवाने की प्रथा को भी बंद करने का आह्वान किया और कहा कि आईटी के युग में व्हाट्स एप, एसएमएस, ईमेल आदि के माध्यम से निमंत्रण भेजें। उन्होंने ये भी कहा कि उन्हें व्हाट्स एप के माध्यम से जो निमंत्रण मिलते हैं, उनका प्रयास रहता है कि उन कार्यक्रमों मे वे अवश्य शामिल हों।
राव नरबीर सिंह ने इस मौके पर सभी उपस्थित लोगों को अपने दैनिक जीवन  में प्लास्टिक का प्रयोग नही करने की शपथ दिलाई और कपड़े के थैले प्रयोग करने की सलाह दी। उन्होंने इस मौके पर मारूति सुजुकी इंडिया लिमिटेड द्वारा उपलब्ध करवाए गए जूट के थैले भी लोगों मेे नि:शुल्क वितरित किए।
इससे पहले, वन मंडल अधिकारी दीपक नंदा ने विश्व पर्यावरण दिवस के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बताया कि संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा इस बार विश्व पर्यावरण दिवस कार्यक्रम की मेजबानी की जिम्मेदारी भारत को सौंपी गई है। उन्होंने बताया कि सन् 1972 से 5 जून का दिन विश्व पर्यावरण दिवस के रूप में मनाया जाता है और इस बार का थीम ‘प्लास्टिक प्रदूषण को पराजित करें’ है। श्री नंदा ने बताया कि प्लास्टिक गलने में 500 से 1000 वर्ष का समय लगता है और प्लास्टिक को जलाने से वायुमंडल में प्रदूषण होता है।  हर वर्ष विश्व में लगभग 55 लाख लोग प्लास्टिक के कारण होने वाले वायु प्रदूषण से मरते हैं। उन्होने ये भी कहा कि 50 प्रतिशत प्लास्टिक की बोतलें हम इधर उधर फेंक देते हैं जिन्हे जीव जंतु तथा पशु भोजन समझकर खा लेते हैं जो उनके लिए हानिकारक होता है।
कार्यक्रम में गांव के वृद्ध सेवानिवृत अध्यापक मातादीन यादव ने पेड़ लगाने के लिए प्रेरित करती कविता प्रस्तुत की। वन चेतना यात्रा के कलाकारों द्वारा जीवन शीर्षक पर लघु नाटिका प्रस्तुत करके लोगों को पेड़ों का संरक्षण करने का संदेश दिया। कार्यक्रम में वन संरक्षक वास्वी त्यागी ने आए हुए सभी अतिथियों का आभार जताया। गांव की तरफ से ब्रह्म यादव ने हर्बल पार्क बनाने के लिए वन मंत्री का आभार जताते हुए गांव की मांगे रखी।
इस अवसर पर प्रधान मुख्य वन संरक्षक एस एन सोमाशेखर, अतिरिक्त प्रधान मुख्य वन संरक्षक वी एस तंवर, सत्यभान , नवदीप हुडा , हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी शक्ति सिंह व जयभगवान शर्मा, गांव की सरपंच रवीना यादव भी उपस्थित थे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here