दूसरे राज्यों की तर्ज पर हरियाणा में भी पंचायती राज एक्ट को मजबूत करने व सरंपचों के मानदेय बढ़ाने के साथ सरंपचों की पेंशन लागू करने का मामला अब गर्म होता जा रहा है। सरंपच एसोसिशन इन मांागों को लेकर अब प्रदेशव्यापी आंदोलन की रूपरेखा तय कर रही है। इस क्रम में शनिवार को सरंपच एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने केंद्रीय राज्यमंत्री राव इंद्रजीत सिंह से दिल्ली नीति आयोग में मुलाकात कर सरपंचों की मांगों का समर्थन करने की मांग की है।
सरपंच एसोसिएशन के प्रतिनिधियों ने केंद्रीय मंत्री का सरपंचों की पेंशन लागू करने की मांग का समर्थन करने पर उनका आभार व्यक्त किया है। राव ने दोंगडा अहीर रैली में सरपंचों की मांग का मंच से समर्थन करते हुए सरपंचों की पेंशन लागू करने की मांग को अपना समर्थन दिया था। सरपंच एसोसिएशन का कहना है कि मांगों को लेकर आंदोलन को तेज करने के लिए जल्द प्रदेश भर के सरपंच एसोसिएशन के प्रधान एक बैठक कर आगामी रूपरेखा तैयार करेंगे। मुलाकत करने वालों में जनप्रतिनिधी मंच के प्रदेश अध्यक्ष राधेश्याम गोमला, गुरूग्राम सरपंच एसोसिएशन के अध्यक्ष अजीत यादव, फरीदाबाद के जिलाध्यक्ष महीपाल आर्य, नूंह से जिलाध्यक्ष मुकेश यादव, रेवाडी जिलाध्यक्ष चरण सिंह, सहित महेंद्रगढ़, झज्जर आदि जिलों के सरपंच शामिल थे।
केंद्रीय राज्य मंत्री राव इंद्रजीत सिंह को ज्ञापन सौंपते हुए सरपंच एसोसिएशन ने 5 सूत्रीय मांगों को प्रमुखता से रखाज्ञ इन मांगों में पंचायती राज एक्ट को पूर्णतया लागू कर 73वें पंचायती राज संसोधन को लागू किया जाए। सरपंचों का मानेदश बढ़ाया जाए व सरपंचों व पंचों की पेंशन लागू की जाए। वर्षों से नहीं हुए बीपीएल सर्वे को तत्काल शुरू किया जाए व  बीपीएल परिवारों व एससी, बीसीए परिवारों को प्लाट देने का काम तेजी से किया जाए। सरपंचों का बीमा कराया जाए व ढ़ाणियों को बिजली सप्लाई के घरेलू क्नैशन से जोडा जाए ताकि बिजली से वंचित परिवारों को बिजली मिल सके।
केंद्रीय मंत्री ने सरंपचों की मांगों को अपना समर्थन देते हुए कहा कि लोकतंत्र की नींव कां जिंदा रखने में सरपंच की अहम भूमिका है। विधायक व सांसदों की तरह सरपंच भी अपने गांव का प्रतिनिधित्व करता है और असली भारत गांवों में ही बसता है। राव ने कहा कि जब देश के विधायकों व सांसदों को पेंशन का लाभ मिल रहा है, ऐसे में सरपंच भी लोकतंत्र की नींव का हिस्सा है उन्हें भी पेंशन का लाभ मिलना चाहिए। सरपंच एसोसिएशन के अध्यक्षों ने कहा कि प्रदेश भर में अपनी मांगों को लेकर आंदोलन को और तेज किया जाएगा। बैठक में फरीदाबाद, रेवाडी, गुरूग्राम, महेंद्रगढ़, झज्जर, मेवात से दर्जनों की संख्या में सरपंच उपस्थित थे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here