गुरुग्राम में चार मंजिला मकान बनाने के अनुमति दिए जाने के बाद अब चारों फ्लोर की अलग-अलग रजिस्ट्री भी करवाने की अनुमति दी जाएगी। यह घोषणा हरियाणा के मुख्यमंत्री, मनोहर लाल द्वारा गुरुग्राम में पंजाबी बिरादरी महासभा गुडग़ांव द्वारा आयोजित मधुर मिलन एवं अभिनंदन समारोह में संबोधित करते हुए की गई।
यह कार्यक्रम रविवार को गुरुग्राम के सैक्टर-4 में देर सांय तक चला जिसमें मुख्यमंत्री ने मंच से सभी सामाजिक संस्थाओं का आह्वान किया कि वे समाज को संगठित कर देशहित में काम करने के लिए प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि सामाजिक संस्थाएं बहुत अच्छा काम कर रही हैं, हर काम सरकार नहीं कर सकती। समाज में फैली कुरीतियों जैसे कन्या भ्रूण हत्या, नशे की प्रवृत्ति आदि को जड़मूल से समाप्त करने में सामाजिक संस्थाएं अहम भूमिका निभा सकती हैं।
उन्होंने कहा कि ये संस्थाएं समाज में ‘हरियाणा एक-हरियाणवी एक ’ की सोच को सशक्त करने में योगदान दें।
इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने 95 वर्ष या इससे अधिक आयु के 8 बुजुर्गों को उनके स्थान पर जाकर सम्मानित किया। इन बुजुर्गों की आयु का सम्मान करते हुए मुख्यमंत्री मंच से नीचे उतरकर उस स्थान पर गए जहां पर वे बैठे थे। पंजाबी बिरादरी महासभा द्वारा रखी गई मांगो का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि गुरुग्राम में प्राईवेट बिल्डरों द्वारा विकसित कॉलोनियों को नगर निगम के अधिकार क्षेत्र में शामिल करने की कार्यवाही की जा रही है।
अब तक गुरुग्राम की 6 कॉलोनियां नगर निगम द्वारा टेक ओवर की जा चुकी हैं और जल्द ही सुशांत लोक-प्रथम, द्वितीय, तृतीय तथा डीएलएफ-प्रथम, द्वितीय व तृतीय को भी शामिल किया जाएगा। महासभा ने इन कॉलोनियों को नगर निगम में शामिल करने की मांग यह कहते हुए उठाई थी कि सुशांत लोक और डीएलएफ की कॉलोनियों में जन सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो रही हैं। गुरुग्राम में पंजाबी भवन बनाने के लिए दो एकड़ जमीन उपलब्ध करवाने के बारे में मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निगम के क्षेत्र में जगह की तलाश कर लें, उसके बाद सरकार के नियमों के अनुसार महासभा को जमीन दी जाएगी। दुकानों के कन्वर्जन चार्जिज के विषय में मुख्यमंत्री ने नगर निगम के अधिकारियों से बात करके इसकी समस्या का समाधान करवाने का आश्वासन दिया।
गुरुग्राम के रेलवे स्टेशन को मैट्रो से जोडऩे की आवश्यकता पर सहमति व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस दिशा में वे जल्द ही कार्यवाही करवाएंगे। गुरुग्राम में न्यू रेलवे रोड़ तथा ओल्ड रेलवे रोड़ को ऐलिवेटिड बनाने के बारे में रखी गई मांग का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने इसके लिए सर्वे करवाने का विश्वास दिलाया। उन्होंने गुरुग्राम जिला के सोहना कस्बा में पिछले दिनों घर में लगी आग में जलकर मरे दो व्यक्तियों के आश्रितों को 5-5 लाख रूपए की सहायता राशि देने की भी घोषणा की। साथ ही मुख्यमंत्री ने बताया कि इस मामले की जांच उपायुक्त विनय प्रताप सिंह द्वारा करवाई जा रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सामुहिक विवाहों को बढावा दिया जाएगा, इसके लिए सरकार  की तरफ से कन्यादान स्वरूप राशि देने का प्रावधान किया जाएगा। प्लॉट विभाजन के बारे में रखी गई मांग पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्लॉट का विभाजन परिवार की आवश्यकता के अनुसार होना चाहिए परंतु उसमें एक सीमा तय की जाएगी जिससे छोटा प्लॉट विभाजित नहीं किया जा सकेगा।
उन्होंने कहा कि उनके मन में समाज के काम करने की प्रेरणा है, यह कैसे और कब आई इसका उल्लेख करेंगे तो काफी समय लग जाएगा। मुख्यमंत्री ने सभी लोगों से कहा कि सार्वजनिक काम किसी प्रकार का कोई भी काम हो तो उन्हें बताएं, व्यक्तिगत रूप से बताएं या सार्वजनिक तौर पर, उस काम को अवश्य पूरा किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने  अपने संबोधन में जिला स्तर पर बनाए गए अंतोदय भवन का भी उल्लेख किया और कहा कि इस भवन में जाकर समाज का कोई भी व्यक्ति सरकार की सभी योजनाओं की ना केवल जानकारी प्राप्त कर सकता है  बल्कि उनका लाभ लेने के लिए वहीं पर आवेदन भी कर सकता है। शुरुआत में अंतोदय भवन जिला स्तर पर खोले गए हैं, इसके बाद उपमण्डल स्तर पर अंतोदय सेवा केंद्र खोले जाएंगे। उन्होंने यह भी बताया कि सरकार द्वारा कई सेवाएं ऑनलाईन की गई हैं ताकि लोगों को घर बैठे वे सेवाएं उपलब्ध हों। मुख्यमंत्री ने एनडीए सरकार के चार वर्ष का कार्यकाल पूरा होने का जिक्र करते हुए सरकार द्वारा व्यवस्था परिवर्तन के लिए लागु की गई कुछ महत्त्वकांक्षी योजनाओं का भी उल्लेख किया।
इससे पहले हरि मंदिर आश्रम पटौदी के संचालक महामण्डेलश्वर स्वामी धर्मदेव ने संबोधित करते हुए कहा कि दीपावली के बाद नवंबर माह में वे हरियाणा के एक लाख पंजाबियों का सम्मेलन करने जा रहे हैं, जिसकी रूपरेखा उन्होंने तैयार कर ली है। इस सम्मेलन को सफल बनाने के लिए आगामी एक जुलाई को हिसार के ऑडिटोरियम में पंचनद ट्रस्ट स्मारक के तत्वावधान में लगभग दो हजार व्यक्तियों की एक बैठक आयोजित की जा रही है। उन्होंने कहा कि आज वह सपना सचख्हो गया है  कि सीएम की कुर्सी पर ऐसा व्यक्ति आएगा जो इंसानियत को समर्पित है। इसका संदेश भारत देश के राज्यों तथा दूसरे देशों को भी जा रहा है। उन्होंने कहा कि पंजाबी बिरादरी के लोगों ने कभी आरक्षण की बैसाखी का सहारा नहीं लिया जबकि सबसे पहला हक आरक्षण पर इनका था। विभाजन के समय जब यहां आए थे तो इनके पास कुछ भी नहीं था, तब भी इन्होंने आरक्षण नहीं मांगा और अपने पुरूषार्थ के बल पर खुद को खड़ा किया। उन्होंने यह भी कहा कि आज भी देख लो, हाथ में कटोरा लिए भीख मांगता हुआ कोई पंजाबी नहीं मिलेगा। उन्होंने यह भी कहा कि अतीत में हम देख चुके हैं कि किस प्रकार टमाटर, प्याज की वजह से सरकारें बनी व गिरी। अब इन छोटी बातों पर विचार करने का समय नहीं है। इस समय देश का भविष्य कैसे सुरक्षित होगा, ऐसा सोचने वाला महापुरूष चाहिए। यही सोचकर आने वाले समय में वोट देना।
मैनकाईंड फार्मा के मालिक रमेश जुनेजा ने पंजाबी भवन के लिए 21 लाख रूपए देने की घोषणा की। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि पंजाबी बिरादरी कोई भी हैल्थ कैंप लगाएगी तो उसमें सारी दवाइयां और रिफ्रेसमेंट उनकी तरफ से होगी। एमडीएच मसालों के निर्माता महाशय धर्मपाल गुलाटी ने भी पंजाबी भवन के निर्माण के लिए 11 लाख रूपए देने की घोषणा की। मुख्यमंत्री ने 95 वर्षीय महाशय धर्मपाल को सम्मानित किया।
कार्यक्रम में गुरुग्राम के विधायक उमेश अग्रवाल, प्रसिद्ध हृद्य रोग विशेषज्ञ डा. नरेश त्रेहन, मेनकाईंड फार्मा के मालिक रमेश जुनेजा, महासभा के प्रधान डा. सुभाष खन्ना, अनुराग बक्शी, महासभा के चीफ एडवाईजर पूर्व विधायक धर्मवीर गाबा, तिलक राज मलहौत्रा, दीवान दुरेजा, जिला भाजपा के उपाध्यक्ष हरविंद कोहली भी उपस्थित थे। बी आर सिकरी ने मंच संचालन किया जबकि महासभा के मुख्य संरक्षक डा. एन सी वधवा ने आए हुए अतिथियों तथा सभी लोगों का धन्यवाद ज्ञापित किया।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here