गुरुग्राम जिला प्रशासन की पहल पर निजी कंपनियां समाज के गरीब वर्ग के परिवारों के बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा मुहैया करवाने में रूचि दिखाने लगी हैं। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह द्वारा किए गए प्रोत्साहन के फलस्वरूप लोटस पेटल फाऊंडेशन नामक संस्था गांव सिलोखरा में गरीब बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा देने के लिए आगे आई है।
ये संस्था गांव सिलोखरा में ही गरीब बच्चों को पढ़ाएगी। बच्चों के लिए 12 क्लास रूम तथा रसाई घर का निर्माण सीएसआर के तहत कारगिल कंपनी द्वारा 85 लाख रूपये की लागत से करवाया गया है। उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने आज इन क्लास रूम तथा रसोई घर का विधिवत् उद्घाटन किया।
इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने अग्रेंजी भाषा की कहावत ‘इट टेक्स ए विलेज टू रेज़ ए चाइल्ड’ का उल्लेख किया जिसका अर्थ है कि एक बच्चे की अच्छी परवरिश के वल उसका परिवार ही नही बल्कि उसका पूरा मौहल्ला, गांव व समुदाय के लोग करते हैं। उन्होंने कहा कि बच्चे के अनुभव केवल परिवार तक सीमित नही रहते बल्कि उसके  गली, मौहल्ले व पड़ोस का प्रभाव भी उस बच्चे के हाव भाव में देखने को मिलता है। उन्होंने बच्चों के भविष्य निर्माण में सहयोग देने वाली लोटस पेटल फाऊंडेशन का धन्यवाद करते हुए कहा कि हमें खुशी है कि बच्चों के हित में काम करने वाली ऐसी निजी संस्थाएं आगे आ रही हैं और ऐसी संस्थाओं की मदद करने के लिए जिला प्रशासन हमेशा तैयार है।
उन्होंने कहा कि जिला की अन्य संस्थाओं को भी इस प्रकार के जनहित के कार्यों में सहयोग देने के लिए आगे आना चाहिए। इस प्रकार की महत्वपूर्ण पहल में समाज के लोगों को सक्रिय रूप से अपनी भागीदारी निभानी चाहिए। उपायुक्त ने कहा कि उन्हें जिला के निजी व सरकारी दोनो प्रकार के स्कूलों में जाने का अवसर मिलता है, लेकिन यहां आकर उन्हें बच्चों के शिक्षा के स्तर को देखकर अच्छा लगा है। गरीब व अभावग्रस्त परिवारों के बच्चे फर्राटेदार अंग्र्रेजी बोल रहे थे। यह संस्था सन् 2012 से निर्धन परिवारों के बच्चों को शिक्षित करने के कार्य में लगी हुई है। यहां पर फिलहाल 425 विद्यार्थी नर्सरी से बारहवीं तक की कक्षाओं में पढ़ रहे हैं।
सिंह ने कहा कि बच्चों को देश के जिम्मेदार नागरिक बनाने के लिए इस प्रकार की संस्थाओं की भूमिका अत्यंत महत्वपूर्ण है। उन्होंने कारगिल इंडिया प्राइवेट लिमिटेड तथा एएसईडी के प्रतिनिधियों का भी इस महान कृत्य के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने कार्यक्रम मेें पधारे बच्चों के अभिभावकों से भी कहा कि उन्होंने अपने बच्चों को यहां लाकर जागरूकता का परिचय दिया है कि आज के युग में शिक्षा के बिना मनुष्य पशु समान है।
कार्यक्रम में लोटस पेटल के संस्थापक कुशल चक्रवर्ती ने भी मंच से अपने अनुभवों को सांझा किया। उन्होंने कहा कि संस्था का प्रयास है कि बच्चों को यहां उच्च गुणवत्ता की शिक्षा मिले ताकि उनका भविष्य उज्जवल हो और वे देश की तरक्की में योगदान दे सके। कार्यक्रम में उपस्थित कारगिल इंडिया के चेयरमैन सिराज चौधरी ने भी अपने विचार रखते हुए कहा कि दृढ़ संकल्प व अच्छी सोच से यदि अच्छा काम शुरू किया जाए तो निश्चित तौर पर ही उसके परिणाम अच्छे होंगे। उन्होंने कहा कि कारगिल कंपनी का प्रयास  है कि गरीब परिवारो के बच्चों तक अच्छी शिक्षा व पौष्टिक आहार पहुंचाकर उन्हें समाज की मुख्य धारा से जोड़ा जाए। एएसईडी, जोकि जिनेवा आधारित एनजीओ है , की भारत में मैनेजर सुधा पार्थसारथी ने भी संबोधित किया।
इस अवसर पर कार्यक्रम में गांव सिलोखरा से पंडित मांगेराम शर्मा, वार्ड नंबर-32 की निगम पार्षद राजबाला शर्मा, एडवोकेट प्रवीन शर्मा, लोटस पेटल फाऊंडेशन की एकेडमिक एडमिनिस्ट्रेटर प्राची निकोलसन सहित कई गणमान्य व्यक्ति उपस्थित है।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here