प्रदेश भर में सीआईटीयू एवं सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा से संबन्धित संगठनों एवं यूनियनों ने नगर निगमों, नगर परिषदों व नगर पालिकाओं के हड़ताली कर्मियों के साथ एकजुटता दर्शाते हुये प्रदर्शन कर उनकी मांगों का समर्थन किया।गुड़गाँव में भी सीआईटीयू एवं एसकेएस संबन्धित संगठन आज कमला नेहरू पार्क में इकट्ठा होकर प्रदर्शन करते हुये नगरपालिका कार्यालय पहुंचे व हड़ताली कर्मचारियों का साथ दिया।

सीआईटीयू के राज्य प्रधान कामरेड सतवीर सिंह, ज़िला सचिव राजेन्द्र सरोहा, कोषाध्यक्ष एस एल प्रजापति, रेहड़ी पटडी फेरी कमेटी के प्रधान योगेश कुमार, मिड डे मील की ज़िला प्रधान मूर्ति देवी, आंगनवाड़ी वर्कर्ज एंड हेल्पर्ज की ज़िला सचिव व राज्य की उप प्रधान सरस्वती देवी, वन मजदूर यूनियन के ज़िला प्रधान विजय कुमार, भवन निर्माण कामगार यूनियन के सतबीर, सर्व कर्मचारी संघ के ज़िला प्रधान कंवर लाल यादव, सचिव संजय सैनी, राज्य के उप प्रधान सुरेश नोहरा, पीडबल्यू& डी के प्रधान राजेश धनखड़व बलवान सिंह, जनवादी महिला समिति की ज़िला प्रधान भारती देवी व सचिव उषा सरोहा आदि अपने साथियों समेत उपस्थित हुये। वक्ताओं ने माननीय मुख्यमंत्री महोदय मांग की कि राज्य में जारी नगरपालिका कर्मचारियों की हड़ताल व कर्मचारयों की जायज मांगों का तुरंत समाधान किया जाए।

ज्ञात रहे कि राज्य में नगर निगमों, नगर परिषदों, नागरपालिकाओं में कार्यरत कर्मचारी पिछले 9 मई से हड़ताल पर हैं। कर्मचारियों की मांगे हैं कि सरकार द्वारा पूर्व में स्वीकार की गई मांगों व अन्य जायज मांगों पर कार्यवाही अमल में लाए। इस हड़ताल से पूर्व भी नगरपालिका कर्मचारी संघ के नेतृत्व में बार-बार धरने/प्रदर्शनों के माध्यम से सरकार के समक्ष लगातार मांग उठाई जाती रही है। लंबे समय से सरकार का इस मामले में रूख काफी गैरजिम्मेदारीपूर्ण नजर आता है। मजबूरन कर्मचारियों को हड़ताल पर जाना पड़ा है।

सरकार के मंत्री व अधिकारी इस आन्दोलन में भी सकारात्मक रूख अपनाने की बजाए एस्मा जैसे कानून लागू करने की धमकी दे रहे हैं। हड़ताल के चलते राज्य भर में सफाई व्यवस्था पूरी तरह से चरमराई हुई है व बिमारी फैलने का खतरा भी बढ़ गया है। सीआईटीयू राज्य सरकार से मांग करती है कि नगरपालिका कर्मचारियों की मागों का तुरंत समाधान किया जाए। प्रमुख मांगोें जिसमें ठेकेदारी प्रथा को खत्म कर ठेका कर्मियों को स्थाई नौकरी पर रखने, समान काम समान वेतन लागू करने व नगरपालिका कर्मियों को अन्य विभागों की तरह 7वें वेतन आयोग का लाभ देने आदि मांगो का तुरंत समाधान किया जाना चाहिए। यदि सरकार जल्द मांगों का समाधान नहीं करती है तो सीटू के तमाम सदस्य व यूनियनें इस आन्दोलन में कूद पड़ेगी। वक्ताओं ने आश्वासन दिया कि ट्रेड यूनियन काउंसिल द्वारा बुलाई गई 18 मई के प्रदर्शन में सभी साथी बढ़ चढ़ कर भाग लेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here