फास्ट फूड प्रसंस्कृत आहार जैसे व्यवसायिक स्तर पर तैयार किए गए पैकिट बंद, डिब्बा बंद, जैसे उत्पाद के सेवन से कैंसर होने का सबसे बडा खतरा होता है। यह बात कैंसर पेशेन्ट वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष संजय पाण्डेय ने कही वह संजय नगर स्थित राम किशन इंस्टीटयूट बालिका विद्यालय में आयोजित कैंसर एवेयरनैस कार्यक्रम में स्कूली बच्चों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि फास्ट फूड हमारे शरीर में जहर का काम करता है; इस बारे में माता-पिताओं को अपने बच्चों को ज्यादा से ज्यादा जानकारी देनी चाहिए ताकि बच्चों में फास्ट फूड के प्रति लालसा न बढे।

उन्होंने कहा कि तेल से बने उत्पादों का भी सेवन कम से कम किया जाए इससे मोटापे पर नियंत्रण भी रहेगा। इसके अलावा नमक अधिक न खाएं ऐसे पदार्थ जिन में परीरक्षक कृत्मिक रंग मिलाया गया हो उनका सेवन न किया जाए। कैंसर के लक्षण के बारे में पाण्डेय ने बताया कि मुह के अन्दर या होटो पर सफेद लाल चकत्ते या फफोले, चबाने में जवडा हिलाने में परेशानी, लगातार कान दर्द, मुह पूरा न खलना कैंसर के लक्षण हो सकते है। ऐसी स्थिती में चिकित्सक से तुरन्त परामर्श लें और जांच पडताल कराएं। इस मौके पर आरकेआई के निदेशक आलोक गर्ग एवं प्रधानाचार्य मालती गर्ग ने आयोजकों का विशेष रूप से आभार व्यक्त किया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here