गुरुग्राम के सिविल सर्जन ने सैक्टर-5 स्थित आकाश पब्लिक स्कूल में खसरा-रूबेला अभियान के तहत किए जा रहे टीकाकरण कार्यक्रम का शुभारंभ किया। गुरुग्राम जिला में कुल 31 हज़ार 258 बच्चों का टीकाकरण किया गया। अब तक जिला में 2 लाख 8 हज़ार 878 बच्चों का टीकाकरण किया जा चुका है जोकि निर्धारित लक्ष्य का 78.4 प्रतिशत है। अब तक इस अभियान के तहत 838 स्कूलों में बच्चों का टीकाकरण किया जा चुका है जिनमें से 254 बच्चे राजकीय विद्यालय तथा 574 बच्चे निजी विद्यालयो के हैं।
इस अवसर पर सिविल सर्जन डा. बी के राजौरा ने स्कूल में जाकर बच्चों को टीके के फायदों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि यह टीका पूरी तरह से सुरक्षित है। अभिभावकों को अपने 9 महीने से 15 वर्ष की बीच की आयु के बच्चों को टीका लगवाने के लिए आगे आना चाहिए ताकि बच्चे इन दो बिमारियों से बचे रहें। उन्होंने कहा कि इस अभियान में जिला के सभी स्कूलों से पूरा समर्थन मिल रहा है। काफी संख्या में अभिभावक तथा शिशु रोग विशेषज्ञ इस अभियान के साथ जुड़ गए हैं और वे स्वयं अपने स्तर पर लोगों को बच्चों को टीके लगवाने के फायदों के बारे में समझा रहे हैं। इस अभियान को विश्व स्वास्थ्य संगठन तथा युनैस्को भी अपना  पूरा समर्थन दे रहा है और प्रत्येक जिला में उनके प्रतिनिधि टीकाकरण कार्य पर नजर रखे हुए हैं।
उन्होंने कहा कि किसी बच्चे को यह टीका खाली पेट नहीं लगवाना है अर्थात् टीका लगवाने से पहले बच्चे खाना जरूर खा ले।  उन्होंने यह भी बताया कि टीका लगाने के बाद आधे घंटे तक चिकित्सक उसे अपनी निगरानी में रखते हैं। इसके अलावा, टीकाकरण के बाद हर बच्चे को एक कार्ड बनाकर दिया जा रहा है तथा उसके बाएं हाथ के अंगूठे पर मार्किंग इंक से निशान लगाया जाता है जिससे यह पता चल सके कि बच्चे को टीका लग चुका है। यह टीका ऑटो डिस्पोजेबल सिरिंज से लगाया जा रहा है, जिसका प्रयोग दोबारा नहीं किया जा सकता।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here