गुरुग्राम के सेक्टर 43 में श्री राधा रमण मंदिर का निर्माण किया जाएगा, जिसके लिए भूमि पूजन किया गया। इस भूमि पूजन में हरियाणा के राज्यपाल प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी ने शिरकत की। लगभग 50 हजार वर्ग फीट क्षेत्र में  बनाया जाने वाला यह मंदिर 108 फीट ऊंचाई का होगा।

प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी ने कहा कि केंद्र सरकार ने हरियाणा के दो शहरों नामत: फरीदाबाद और करनाल को स्मार्ट सिटी बनाने के लिए चुना है लेकिन हरियाणा सरकार ने गुरुग्राम को अपने पैसे से स्मार्ट सिटी बनाने का फैसला किया क्योंकि यह गुरु द्रोणाचार्य की कर्म स्थली है। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी में शिक्षा, स्वास्थ्य सुविधाएं तथा सांसारिक सुख प्राप्ति के लिए जरूरी सभी सुविधाएं हों लेकिन आध्यात्मिकता और जीवन मूल्य का सिद्धांत सिखाने वाले संस्थान नहीं होंगे तो यह स्मार्ट सिटी लंका जैसी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी लंका जैसी नहीं अपितु अयोध्या जैसी होनी चाहिए जहां जन जन में जीवन मूल्य के सिद्धांत, एक दूसरे के प्रति सम्मान भाव और मर्यादा हो। राज्यपाल ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आध्यात्मिकता एवं सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए वृंदावन चंद्रोदय मंदिर तथा इस्कॉन बंगलुरु द्वारा मिलेनियम सिटी गुरुग्राम में अपना यह एक प्रमुख केंद्र बनाया जा रहा है। उन्होंने अपनी भावनाएं व्यक्त करते हुए कहा कि कुछ कार्यक्रम ऐसे होते हैं जहां जाकर मैं स्वयं शुद्ध और पवित्र हो जाता हूं, यह मंदिर का भूमि पूजन का कार्यक्रम भी ऐसा ही है।

राज्यपाल ने कहा कि गुरुदेव रवींद्रनाथ टैगोर कहते थे कि भारत वर्ष को जानना चाहते हो तो स्वामी विवेकानंद को जानो। उसी तरह यदि आप संपूर्ण भारतवर्ष के दर्शन, परंपरा, संस्कृति और जीवन मूल्य को जानना चाहते हो तो हरे कृष्णा आंदोलन को जानो। इसमें प्राचीन भारत और आधुनिक भारत दोनों की संस्कृतियों का समावेश देखने को मिलेंगा। इसके साथ उन्होंने कहा कि समाज के प्रतिकूल बुराइयों को दूर करने के लिए यहां गुरुग्राम में इस मंदिर की स्थापना की जा रही है। इससे पहले, राज्यपाल ने कंप्यूटर के माउस पर क्लिक करके राधा रमन मंदिर की वेबसाइट www.radharamanji.com लांच की जहां से सभी भक्तजनों को इस मंदिर के बारे में अपडेट मिलती रहेगी। मंच संचालक ने बताया कि एक सप्ताह बाद इस वेबसाइट पर पेमेंट गेट-वे उपलब्ध हो जाएगा। यह मंदिर 18 से 24 महीने में बनकर तैयार होगा।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गुरुग्राम मंडल के आयुक्त डॉक्टर डी सुरेश ने कहा कि यह राधा रमन मंदिर सोच की सीमा से भी आगे वास्तु कला का अद्भुत नमूना होगा क्योंकि बहुत से आईआईटीयन और इंजीनियर, जो अपने करियर के शीर्ष पर थे और वो जनसेवा के लिए इस संस्थान के साथ जुड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि इस मंदिर की स्थापना से यहां के लोगों को आध्यात्मिक बल मिलेगा। इसके साथ उन्होंने आशा जताई कि आध्यात्मिक ज्ञान की वृद्धि के साथ साथ यहां आने वाले भक्तजनों को मानवता की सेवा करने की प्रेरणा भी मिलेगी।

सोहना के विधायक तेजपाल तंवर ने इस मौके पर कहा कि अच्छे कार्यों की प्रशंसा की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि हमारे देश पर भगवान श्री कृष्ण की कृपा रही है और भारत प्राचीन समय से ही आध्यात्मिकता के क्षेत्र में दुनिया को रास्ता दिखाता रहा है। उन्होंने भी आशा जताई कि इस श्री राधारमण मंदिर से लोगों में समाज सेवा की भावना पैदा होगी। कार्यक्रम को वृंदावन चंद्रोदय मंदिर के चेयरमैन मधु पंडित दास तथा वृंदावन चंद्रोदय मंदिर के अध्यक्ष चंचला पति दास ने  भी संबोधित किया। इस मौके पर मंदिर निर्माण के लिए दान देने वाले व्यक्तियों को सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर राज्यपाल के साथ सोहना के विधायक तेजपाल तंवर, गुरुग्राम की मेयर मधु आजाद, ग्राम मंडल के आयुक्त डॉक्टर डी सुरेश, दिल्ली के महिपालपुर से विधायक कर्नल देवेंद्र शेखावत, दिल्ली के अंबेडकर नगर से विधायक अजय दत्त, उपायुक्त विनय प्रताप सिंह, दक्षिणी गुरु ग्राम के डीसीपी अशोक बख्शी, गुरुग्राम उत्तरी के एसडीएम संजीव सिंगला सहित इस्कॉन के कई पदाधिकारी तथा भक्तजन उपस्थित थे।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here