उपस्थित खेल प्रेमियों तथा प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए डॉक्टर डी सुरेश ने कहा कि समाज में यह एक गलत धारणा है कि खेल और पढ़ाई साथ साथ नहीं चल सकते, इस धारणा को बदलने की जरूरत है। उन्होंने जीएमडीए की इस पहल को सकारात्मक पहल बताते हुए कहा कि यदि हम खेलों में अच्छा प्रदर्शन करना चाहते हैं तो खेलों का संतुलित विकास करने के साथ-साथ देश में निरंतर खेल प्रतियोगिताएं आयोजित होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 130 करोड़ आबादी वाला भारत देश पिछले 75 वर्षों में ओलंपिक में केवल 28 पदक जीत पाया है, जो कि संतोषजनक नहीं है। उन्होंने कहा कि खेल हमें अनुशासन में रहना, आपस में मिलकर चलना, लक्ष्य को साधना सिखाते हैं। उन्होंने कहा कि टीम भावना से खिलाड़ी तालमेल करना सीखता है।

डॉ डी सुरेश ने कहा कि खिलाड़ी देश के लिए एसेट है। उन्होंने कहा कि उन्हें यह जानकर खुशी हुई है कि जीएमडीए हर महीने एक खेल की प्रतियोगिता इस खेल परिसर में करवाएगा। मंडलायुक्त ने विधिवत इस पहली एथलेटिक्स प्रतियोगिता के शुभारंभ की घोषणा की। उन्होंने जीएमडीए का ध्वज भी फहराया।

डॉक्टर डी सुरेश ने 400 मीटर महिलाओं की दौड़ के विजेताओं को मेडल पहनाकर सम्मानित भी किया। इस दौड़ में प्रीति ने प्रथम, दिशा ने द्वितीय तथा सोनल ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले खिलाड़ी को ₹3,000, द्वितीय को ₹2,000 तथा तृतीय स्थान प्राप्त करता को ₹1,000 की राशि मिलेगी जो सीधे उनके बैंक खाते में ट्रांसफर की जाएगी। प्रतियोगिता के शुभारंभ अवसर पर जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी उमाशंकर, संयुक्त आयुक्त अशोक गर्ग व अलका चौधरी, प्रोटोकॉल अधिकारी मुकेश राव, एथलेटिक्स कोच राजकुमारी यादव शहीद खेल विभाग के अन्य कोई भी उपस्थित थे।

इससे पहले, ताऊ देवीलाल स्टेडियम के प्रबंधक सुखबीर  सिंह ने आए हुए अतिथियों तथा प्रतिभागियों का स्वागत करते हुए बताया कि जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी उमाशंकर ने खिलाड़ियों का हौसला बढ़ाने के लिए यह शुरुआत की है। उन्होंने बताया कि यह स्टेडियम पहले हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के पास था और इस वर्ष जनवरी से इसे जीएमडीए को हस्तांतरित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस स्टेडियम में अच्छी सुविधाएं प्रदान की जाएंगी। वर्तमान में यहां पर एथलेटिक्स, कुश्ती, मुक्केबाजी, क्रिकेट, बास्केटबॉल, ताईकवाडो तथा आरचरी के खिलाड़ियों के लिए सुविधाएं उपलब्ध है और इंडोर खेलों के लिए एक मल्टीपर्पज हॉल बनाया जा रहा है। उन्होंने यह बताया कि स्टेडियम के एथलेटिक्स ट्रैक में सिंथेटिक ट्रैक के लिए टेंडर हो चुके हैं, अगले 8 से 9 महीने में यह तैयार हो जाएगा। इसी प्रकार यहां पर खो खो और स्केटिंग के खिलाड़ियों के लिए भी मैदान बनाए जाएंगे। साथ ही, सुबह -शाम सैर करने वाले लोगों के लिए अलग से ट्रैक  बनाई जाएंगी ताकि खिलाड़ियों को कोई असुविधा ना हो।

सुखबीर सिंह ने बताया कि इस स्टेडियम में आने वाले खिलाड़ियों का रजिस्ट्रेशन किया जा रहा है। अब तक विभिन्न खेलों में 702 खिलाड़ियों का रजिस्ट्रेशन हुआ है, जिन में सर्वाधिक 174 खिलाड़ी एथलेटिक्स के पंजीकृत हुए हैं, इसीलिए यह पहली प्रतियोगिता एथलेटिक्स की करवाई गई है। उन्होंने कहा कि अगली प्रतियोगिता उस खेल की करवाई जाएगी जिसके ज्यादा खिलाड़ी पंजीकृत होंगे।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here