‘आई एम हैप्पी बीकॉज, नाऊ आई एम सेफ ’। ये बात गुरुग्राम के एक निजी विद्यालय में आयोजित किए गए खसरा-रूबेला अभियान के तहत एक विद्यार्थी ने टीकाकरण करवाने के बाद गुरुग्राम के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह से कही।
उपायुक्त गुरुग्राम के सैंट ज़ेवियर हाई स्कूल में खसरा-रूबेला अभियान के तहत तीसरे दिन के टीकाकरण कार्यक्रम का उद्घाटन करने के लिए पहुंचे थे। उपायुक्त ने रिबन काटकर इसका शुभारंभ किया और बच्चों से बातचीत की। स्वास्थ्य विभाग द्वारा बच्चों को टीकाकरण के बाद कार्टून मूवी भी दिखाई गई ताकि बच्चे सहज महसूस कर सकें।
स्वास्थ्य विभाग द्वारा स्कूल में बच्चों के टीकाकरण के लिए 7 बूथ लगाए गए थे जिन पर अनुभवी डॉक्टरों की टीम व एएनएम द्वारा बच्चों का टीकाकरण किया गया। उपायुक्त ने टीकाकरण करवा रहे बच्चों से बातचीत की और उनका हालचाल पूछा। बच्चे भी उपायुक्त को अपने बीच पाकर उत्साहित नज़र आए। जब उपायुक्त ने टीकाकरण करवा रहे बच्चे धु्रव गुप्ता से उसका हालचाल पूछा तो उसने मुस्कुराते हुए कहा कि ‘आई एम हैप्पी बीकॉज, नाऊ आई एम सेफ ’। उपायुक्त ने बच्चे को शाबाशी दी और उसका मनोबल बढ़ाया।
इसी प्रकार, उन्होंने स्कूल की ही एक अन्य छात्रा श्रेया ढिलों से बातचीत की और पूछा कि बेटा कैसा लग रहा है, जिस पर बच्ची ने कहा कि वे टीकाकरण से खुश है क्योंकि उन्होंने इस टीके के बारे में टेलीविजन में देखा था जिसमें इसके फायदों के बारे में बताया गया था। टीकाकरण के दौरान उपायुक्त ने स्कूल प्रबंधन से भी बातचीत की गई। स्कूल प्रबंधन की ओर से स्कूल के डायरेक्टर मोहित सचदेवा ने उपायुक्त को आश्वासन दिलाया कि स्कूल द्वारा जिला प्रशासन को पूरा सहयोग किया जाएगा ताकि इस अभियान को सफल बनाया जा सके।
खसरा-रूबेला अभियान के प्रति लोगों में उत्साह इस कदर था कि उपायुक्त के स्कूल पहुंचने पर बाहर के स्कूलों व आस-पास के क्षेत्र के लोग भी अपने बच्चों का टीकाकरण करवाने के लिए स्कूल के बाहर पहुंच गए थे। उपायुक्त ने स्कूल में उपस्थित सिविल सर्जन डा. बी के राजौरा को निर्देश दिए कि वे स्कूल के गेट पर पहुंचे बच्चों के अभिभावकों से बातचीत करें और उनके स्कूल व एरिया के बारे में जानकारी दें तथा वहां जाकर टीकाकरण के सैशन लगवाएं।
उपायुक्त ने कहा कि खसरा-रूबेला अभियान के तहत लोगों में धीरे धीरे जागरूकता आ रही है और वे टीकाकरण अभियान में अपने बच्चों का बढ़-चढक़र टीकाकरण करवा रहे हैं। उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि गत् दिवस यानि 26 अप्रैल को भी इसी प्रकार लोगों में उत्साह देखा गया। डीएवी स्कूल सैक्टर-49 में आयोजित टीकाकरण अभियान में स्कूल के बाहर से आस-पास के लोगों ने भी अपने बच्चों का टीकाकरण करवाया जो यह दर्शाता है कि इस अभियान को लेकर अभिभावकों का विश्वास बढ़ा है क्योंकि यह टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है।
गुरुग्राम जिला में खसरा-रूबेला अभियान जिला के 186 स्कूलों में चलाया गया जिनमें 68 सरकारी विद्यालय तथा 118 निजी विद्यालय शामिल थे। आज आयोजित टीकाकरण अभियान के तहत 44,442 बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया था जिनमें से 33,265 बच्चों का टीकाकरण किया गया। इस प्रकार आज जिला में लक्ष्य का 75 प्रतिशत बच्चों का सफल टीकाकरण किया गया। आज आयोजित टीकाकरण अभियान के दौरान किसी बच्चे को कोई दिक्कत नही आई। जिला में अब तक 530 स्कूलों के 1 लाख 555 बच्चों का सफल टीकाकरण किया जा चुका है
उन्होंने लोगों से अपील करते हुए कहा कि खसरा-रूबेला अभियान के तहत किया जाने वाला टीकाकरण पूरी तरह से सुरक्षित है और इसे अनुभवी डॉक्टरों तथा आशावर्करों द्वारा लगाया जा रहा है। अभिभावक इस अभियान को सफल बनाने में अपना सहयोग दें और अपने बच्चे का खसरा व रूबेला जैसी बीमारियों से बचाव करें। इस अभियान के तहत 9 महीने से लेकर 15 साल तक के बच्चों का टीकाकरण किया जा रहा है।
इस अवसर पर गुरुग्राम के सिविल सर्जन डॉ. बी के राजौरा, उप-सिविल सर्जन डा. नीलम भंडारी, यूपीएससी तिगड़ा से डा. हरदीप,यूनिसैफ से डा. मीनाषी, विश्व स्वास्थ्य संगठन से एसएमओ डा. बिंदु तथ मिडल स्कूल की प्राचार्या गीता कंवर सहित कई अधिकारीगण उपस्थित थे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here