हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल 12 व 13 अप्रैल को गुरुग्राम में जहां एक ओर गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक की अध्यक्षता करेंगे वहीं दूसरी ओर वे गुरुग्राम को कई सौगात भी देंगे।
इस संबंध में जानकारी देते हुए जिला प्रशासन के प्रवक्ता ने बताया कि 12 अप्रैल को मुख्यमंत्री दोपहर राज्य लोक निर्माण विश्राम गृह में उद्योगपतियों व कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे। इसके बाद वे दोपहर 3 बजे गुरुग्राम महानगर विकास प्राधिकरण की बैठक की अध्यक्षता करेंगे। इस बैठक के बाद वे सांय 5:15 बजे सैक्टर-10 स्थित नागरिक अस्पताल में कैथ लैब का लोकार्पण करेंगे। यह कैथ लैब पीपीपी मॉडल पर विकसित की गई है जिसमें खुले बाजार तथा प्राइवेट अस्पतालों की अपेक्षा बहुत ही कम दरों पर लोगों को एंज्योप्लास्टी, एंज्योग्राफी, पेसमेकर इंप्लानटेशन आदि ह्दय रोग के इलाज से संबंधित सुविधाएं मुहैया होंगी। इस लैब का संचालन मैडिट्रिना हॉस्पीटल्स द्वारा किया जाएगा। इस उद्घाटन के बाद मुख्यमंत्री सैक्टर-29 स्थित लेजरवैली पार्क में महाराणा प्रताप की प्रतिमा का अनावरण करेंगे।
मुख्यमंत्री 13 अप्रैल शुक्रवार को प्रात: 9 बजे गुरुग्राम जिला के गांव डूंडाहेड़ा में हारट्रोन इनोवेशन एवं स्टार्ट-अप हब का उद्घाटन करेंगे। यह हब विद्यार्थियों , शिक्षा जगत से जुड़े लोगों और सरकार व उद्योग जगत के लिए लाभदायक होगा। इससे सामाजिक, आर्थिक मुद्देें, महिला सशक्तिकरण के साथ साथ शिक्षा, नवाचार, नये कारोबार और रोजगारसृजन को बढ़ावा मिलेगा। यहां पर भारत सरकार का बैंगलोर के बाद देश का  दूसरा सैंटर ऑफ एक्सीलेंस फॉर इंटरनेट ऑफ थिंग्स (सीओई- आईओटी) विकसित किया जाएगा और युनाइटेड नेशन टैक्रालॉजी एवं इनोवेशन लैब (यूएनटीआईएल) भी विकसित होगी, जिसके लिए पिछले दिनों मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ से करार किया गया था। इसके अलावा, इस हब में दिव्यांग व्यक्तियों के लिए स्किल ट्रेनिंग, आईटी तथा आईटीईएस और सौलर मिशन के अंतर्गत स्किल ट्रेनिंग भी दी जाएगी। राज्य में स्थित विश्वविद्यालयों के इन्क्यूबेशन सैंटरों को भी इसके माध्यम से आपस में जोड़ा जाएगा और अटल सेवा केन्द्रों की क्षमता वृद्धि के लिए यह हब एक अकादमी का काम करेगा। उन्होंने बताया कि इतनी सारी सुविधाएं होने या शुरू की जानी की वजह से इसे हब कहा गया है।
मुख्यमंत्री शुक्रवार को इस हब के उद्घाटन के बाद सिकंदरपुर घोसी गांव में तालाब के जीर्णोद्धार कार्य को देखने जाएंंगे और वजीराबाद बंध पुर्नस्थापना प्रौजेक्ट का दौरा करेंगे। प्रवक्ता ने बताया कि शुक्रवार को ही मुख्यमंत्री द्वारा गांव बंधवाड़ी में कचरे से बिजली बनाने के संयंत्र की आधारशिला रखी जाएगी जो निजी-सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) आधार पर तैयार किया जाएगा और इस संयंत्र में प्रतिदिन 10 मेगावाट ऊर्जा (बिजली) बनेगी।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here