हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय द्वारा ‘उद्योग एकीकृत दोहरी शिक्षा मॉडल’ के तहत 10 नए पाठ्यक्रम शुरू किए गए, जिसका शुभारंभ हरियाणा के उद्योग एवं वाणिज्य, पर्यावरण, औद्योगिक प्रशिक्षण तथा कौशल मंत्री विपुल गोयल ने किया। औद्योगिक प्रशिक्षण, रोजगार तथा कौशल विकास विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव टी सी गुप्ता इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर उपस्थित थे।
इन पाठ्यक्रमों के शुभारंभ के लिए एचवीएसयू द्वारा गुरुग्राम के उद्योग विहार स्थित हरियाणा राज्य औद्योगिक अवसंरचना विकास निगम के ऑडिटोरियम में कार्यक्रम का आयोजन किया गया था। मुख्य अतिथि विपुल गोयल ने कौशल विकास के 10 नए पाठ्यक्रमों का शुभारंभ भी किया, जोकि उद्योगों के साथ मिलकर दोहरी शिक्षा मॉडल पर चलाए जाएंगे। इन कोर्सों में दाखिला लेने वाले विद्यार्थी थ्योरी के साथ साथ उद्योगों में मशीनों पर काम करके शिक्षा ग्रहण करेंगे, जिसके लिए उन्हे उद्योगों द्वारा छात्रवृति भी दी जाएगी। एचवीएसयू तथा अरनेस्ट एंड यंग कंपनी द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई उद्योग एकीकृत दोहरी शिक्षा मॉडल की प्रौसेस मैन्अुल का उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने आज के कार्यक्रम में विमोचन भी किया। इसके अलावा, उद्योग मंत्री ने एनआईईएसबीयूडी के साथ मिलकर चलाए जाने वाले विश्वविद्यालय के उद्यमी प्रशिक्षण कार्यक्रम का भी शुभारंभ किया जोकि रोजगार विभाग में पंजीकृत सक्षम युवा के लिए है।
इस मौके पर नए शुरू किए गए कौशल विकास के पाठ्यक्रमों की जानकारी देते हुए एचवीएसयू के कुलपति राज नेहरू ने बताया कि सत्र 2018-19 सत्र के लिए एचवीएसयू द्वारा लॉन्च किये गए 10 नए पाठ्यक्रमों में हीरो मोटोकॉर्प प्राइवेट लिमिटेड के साथ मोटर वाहन विनिर्माण और मोटर वाहन मेक्ट्रोनिक्स में बी. वॉक , कॉन्सेन्ट्रिक्स नामक कंपनी के साथ मिलकर बी.पी.एम. व डाटा एनालिटिक्स, जेबीएम गु्रप के सहयोग से टूल्स और डाई मैन्युफैक्चरिंग तथा ‘रोबोटिक्स और ऑटोमेशन’ में बी.वॉक , आईक्यूवीआईए के साथ मिलकर पब्लिक हैल्थ में स्नातकोत्तर डिप्लोमा, ट्राईम इंडिया के साथ मिलकर जिओ सूचना विज्ञान में पीजी डिप्लोमा और प्लास्टिक इंजीनियरिंग में एडवांस्ड डिप्लोमा, बीकानेरवाला के सहयोग से एथनिक फूड्स एंड स्वीट्स प्रौसेसिंग में डिप्लोमा तथा ईस्ट वेस्ट ऑटोमेशन के सहयोग से इंडस्ट्रीयल इलेक्ट्रॉनिक्स में डिप्लोमा आदि शामिल हैं।  इन नए पाठ्यक्रमों में 10 वीं कक्षा पास से स्नातक स्तर के युवा दाखिला ले सकते हैं। इन पाठ्यक्रमों में 17 अप्रैल से ऑनलाइन आवेदन के माध्यम से दाखिले शुरू हो जाएंगे। अधिक जानकारी के लिए एचवीएसयू की वैबसाईट पर संपर्क किया जा सकता है। पाठ्यक्रमों के शुभारंभ अवसर पर जीएमडीए के मुख्य कार्यकारी अधिकारी वी. उमाशंकर भी उपस्थित थे।
इस अवसर पर उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने इंडिया स्किल्स हरियाणा 2018 में जोनल स्तर पर विजेता रहने वालों को सम्मानित किया। यह प्रतियोगिता हरियाणा कौशल विकास मिशन द्वारा आयोजित करवाई गई थी जिसमें जीतने वाले व्यक्ति रूस के कजान में होने वाले वल्र्ड स्किल कॉम्पीटीशन 2019 में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। उन्होंने 121 विजेताओं को पुरस्कृत किया,जिनमें 72 व्यक्तियों को प्रथम पुरस्कार के तहत प्रत्येक को 10,000 रूपये की राशि तथा दूसरा स्थान प्राप्त करने वाले 49 व्यक्तियों को प्रत्येक को 2000 रूपये की राशि दी गई। श्री गोयल ने कहा कि अगले वर्ष से हरियाणा में राज्य स्तरीय कौशल प्रतियोगिता का आयोजन किया जाएगा जिसमें प्रथम स्थान प्राप्तकर्ता को 50 हजार रूपये तथा दूसरे स्थान पर रहने वाले व्यक्ति को 25 हज़ार रूपये की राशि  ईनाम के रूप में दी जाएगी।
इस मौके पर मीडिया प्रतिनिधियों से बातचीत करते हुए उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि यदि हम युवाओं की ऊर्जा को सकारात्मक दिशा में लगाना चाहते हैं तो कौशल बढ़ाने वाली शिक्षा की आज जरूरत है ताकि युवा रोजगार प्राप्त कर सकें या स्वरोजगार अपना सकें। उन्होंने उद्योगों का भी आह्वान किया कि वे प्रदेश के युवाओं को शिक्षा के साथ साथ अपने यहां प्रैक्टिकल ट्रेनिंग लेेने का अवसर प्रदान करें जो दोनो के लिए लाभदायक होगा। युवाओं को जहां उद्योगों की जरूरत के अनुसार प्रशिक्षण मिल पाएगा वहीं दूसरी ओर उद्योगों को भी अपनी जरूरत के अनुरूप दक्ष युवा कामगार के रूप में मिल पाएंगे। उन्होंने कहा कि कौशल विश्वविद्यालय के माध्यम से इन युवाओं को डिप्लोमा व डिग्री मिलेगी जिसका लाभ यह होगा कि एक आईटीआई पास बच्चा भी अपनी पढ़ाई आगे जारी रखते हुए कंपनी में श्रमिक से लेकर कंपनी के सीईओ तक के पद प्राप्त कर सकता है। पहले आईटीआई पास युवक युवतियां फैक्ट्री में श्रमिक भर्ती होते थे और श्रमिक ही रिटायर हो जाते थे। उन्होंने बताया कि इन पाठ्यक्रमों में दाखिला लेने वाले विद्यार्थियों को पढ़ाई के साथ रोजगार के अवसर भी मिलेंगे और यदि कोई विद्यार्थी अपने परिवार की परिस्थितिवश एक साल का कोर्स करके रोजगार प्राप्त करना चाहता है तो उसे उसी अनुरूप फैक्ट्री में काम मिल जाएगा तथा वह अपनी शिक्षा आगे भी जारी रख सकता है।
औद्योगिक प्रशिक्षण एवं रोजगार तथा कौशल विकास विभागों के अतिरिक्त मुख्य सचिव टी सी गुप्ता ने इस मौके पर कृषि श्रमिकों से लेकर स्नातकोत्तर स्तर के विद्यार्थियों के लिए शुरू किए गए विभिन्न कौशल पाठ्यक्रमों की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने आशा जताई कि हरियाणा में अन्य सभी तकनीकी और कौशल शिक्षा संस्थाएं एचवीएसयू द्वारा विकसित किए गए मॉडल का अनुकरण करेंगी । उन्होंने यह भी बताया कि 22 आईटीआई संस्थानों को  मॉडल आईटीआई में परिवर्तित किया जाएगा जिनमें दोहरी शिक्षा मॉडल अपनाया जाएगा और इसी प्रकार धीरे धीरे अन्य आईटीआई संस्थानों में यह मॉडल लागू किया जाएगा। उन्होंने बताया कि वर्तमान में भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार आईटीआई मे 18 ट्रेडों में ड्यूल एजुकेशन मॉडल लागू किया जा सकता है लेकिन हरियाणा सरकार द्वारा केन्द्र सरकार से अनुरोध किया गया है कि वह हरियाणा की आईटीआई संस्थानों में 50 ट्रेडों में यह मॉडल लागू करने की स्वीकृति प्रदान करें।
हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू, जो हरियाणा कौशल विकास मिशन के  प्रबंध निदेशक भी हैं, ने कहा कि आज के परिदृश्य में बेरोजगार युवाओं को नौकरी या स्वयं रोजगार में चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य में इतनी बड़ी संख्या में युवाओं को शिक्षण संस्थानों और उद्योगों के एकीकृत प्रयास से ही प्रशिक्षित करके रोजगार प्राप्त करने योग्य बनाया जा सकता है। उद्योग एकीकृत दोहरी शिक्षा मॉडल को उन्होंने गुणवत्ता कौशल प्रशिक्षण हासिल करने का सबसे अच्छा विकल्प बताया और कहा कि यह मॉडल युवाओं को  औद्योगिक परिवेश में रहते हुए शिक्षा प्राप्त करने से उन्हें रोजगार के लिए तैयार करेगा। उन्होंने रमेश अग्रवाल एमडी- बीकानेर वाला, लोकेश, हेड पब्लिक हेल्थ, आईक्यूवीआईए स्वास्थ्य, राकेश सूद एमडी – ट्रिम इंडिया, सोनल  डायरेक्टर- कॉन्सट्रिक्स, एम एम सिंह हेड ट्रेनिंग – हीरो मोटोकॉर्प,  दीप्ति सदेदेव हेड कम्युनिकेशन – जेबएम ग्रुप और ईस्ट वेस्ट ऑटोमेशन से अरविंद कोल उद्योग एकीकृत ड्यूल एजुकेशन मॉडल के तहत विभिन्न कौशल पाठ्यक्रमों में सहयोग देने के लिए आभार जताया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here