स्वास्थ्य विभाग हरियाणा के अतिरिक्त मुख्य सचिव, अमित झा ने 25 अप्रैल से शुरू होने वाले खसरा और रूबेला टीकाकरण अभियान को लेकर प्रदेश के सभी जिला उपायुक्तों के साथ वीडियों कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक की और उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। गुरुग्राम के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने झा को विश्वास दिलाया कि जिला प्रशासन द्वारा इस अभियान को सफल बनाने के लिए तत्परता से प्रयास किये जा रहे हैं और स्कूल प्रबंधन से भी इस बारे में निरंतर बैठकें की जा रही है। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में श्री झा के साथ राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की मिशन डायरेक्टर अमनीत पी कुमार भी उपस्थित थी।
झा ने जिला उपायुक्तों को संबोधित करते हुए कहा कि खसरा और रूबेला टीकाकरण अभियान स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय भारत सरकार का महत्वपूर्ण अभियान है। उन्होंने बताया कि इस अभियान को 25 अप्रैल से शुरू किया जाएगा जोकि तीन सप्ताह तक चलेगा। इस अभियान के तहत 9 महीनें से लेकर 15 साल तक के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा ताकि उन्हें खसरा तथा रूबेला जैसी बीमारियों से बचाया जा सके। अभियान के पहले चरण में जिला के सभी सरकारी व निजी विद्यालयों मे कवर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उपायुक्त स्कूलों में इस अभियान की सफलता के लिए स्कूल प्रबंधकों तथा प्रिंसीपलों के साथ बैठकें  करें ताकि बच्चों के अभिभावकों तक इस टीकाकरण अभियान के महत्व को पहुंचाया जा सके।
इसके बाद, इस अभियान के तहत शहर के आऊचरीच एरिया के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। तीसरे व अंतिम चरण में मॉप अप राऊंड चलाकर जिला के अन्य बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। वीडियो कान्फ्रें सिंग में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य विंग की उप निदेशक डा. दीपिका ने खसरा व रूबेला टीकाकरण अभियान को लेकर जिला उपायुक्तों को पावर प्वांइट प्रैजेंटेशन भी दिखाई और इस अभियान को सफल बनाने के लिए उनका मार्गदर्शन किया।
वीडियों कान्फ्रेंसिंग में उपायुक्त ने झा को बताया कि खसरा तथा रूबेला टीकाकरण अभियान को लेकर जिला प्रशासन द्वारा तैयारियां युद्धस्तर पर चल रही हैं। इसके अलावा, आरडब्लयूए, स्कूल प्रबंधकों के साथ लगातार बैठकें की जा रही है। इतना ही नहीं, स्कूल प्रबंधकों से पैरेंटस टीचर्स मीटिंग करवाकर बच्चों के अभिभावकों को इस अभियान के प्रति जागरूक करने की भी अपील की गई है। उपायुक्त ने बताया कि जिला गुरुग्राम मे इस अभियान के तहत 4 लाख 3 हजार 885 बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। बच्चों के टीकाकरण के 300 टीमों को तैयार किया गया है। प्रत्येक टीम में चार सदस्य होंगे जिनमें से एक टें्रड एएनएम, आशावर्कर या हैल्पर, आंगनवाड़ी वर्कर तथा स्कूल की अध्यापक शामिल होंगे। टीकाकरण के लिए जिला में अब तक लगभग 2 लाख 10 हजार वैक्सीन भी आ चुकी है और जल्द ही और वैक्सीन यहां पहुंच जाएंगी।
अभियान को सफल बनाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा माइक्रो प्लॉन भी तैयार किए जा रहे हैं और बच्चों के अभिभावकों को इस टीकाकरण के महत्व के बारे में जागरूक किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जिला में 494 सरकारी विद्यालय, 1,108 निजी विद्यालय, 168 क्रैचतथा 1,029 आंगनवाड़ी सैंटर है जहां पर तैयारियां चल रही है। कुल मिलाकर जिला प्रशासन खसरा और रूबेला टीकाकरण अभियान के लिए पूरी तरह से तैयार है।
क्या है खसरा और रूबेला बीमारी
खसरा एक जानलेवा बीमारी है जोकि एक वायरस द्वारा फैलता है। बच्चों में खसरे के कारण विकलांगता तथा असमय मृत्यु हो सकती है। खसरा एक संक्रामक रोग है और यह एक प्रभावित व्यक्ति द्वारा खंासने तथा छींकने से फैलता है। खसरा बच्चे को निमोनिया, दस्त और दिमागी संक्रमण जैसी जीवन के लिए घातक जटिलताओं के प्रति संवेदनशील बना सकता है। खसरा के लक्षणो में तेज बुखार के साथ त्वचा पर दिखाई पडऩे वाले लाल चकत्ते, खांसी, बहती नाक और लाल आंखे होना शामिल हैं। इसी प्रकार, रूबेला एक संक्रामण रोग है जो वायरस द्वारा फैलता है। इसके लक्षण खसरा रोग जैसे होते हैं। यह लडक़े या लडक़ी दोनो को संक्रमित कर सकता है। यदि कोई महिला गर्भावस्था के शुरूआती चरण में इससे संक्रमित हो जाए तो कंजेनिटल रूबेला सिंड्रोम(सीआरएस) हो सकता है जोकि उसके भ्रूण तथा नवजात शिशु के लिए घातक सिद्ध हो सकता है। रूबेला से गर्भवती स्त्री में गर्भपात, अकाल प्रसव और मृत प्रसव की संभावनाएं बढ़ जाती हैं।
उपायुक्त ने कहा कि यह टीका बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है। इस अभियान के दौरान यह टीका 9 माह से 15 वर्ष तक की उम्र के सभी बच्चों को लगाया जाएगा। इसे सभी स्कूलों, सामुदायिक सत्रों, आंगनवाड़ी केन्द्रों और सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों पर लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि किसी बच्चे का एमआर/एमएमआर का टीका पहले से लगाया जा चुका हो तो उसे भी यह टीका लगवाएं। खसरा-रूबेला का टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है एवं इसके कोई दुष्प्रभाव नही होते। बच्चों को यह टीका एक प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मी द्वारा लगाया जाएगा। उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि यह अभियान बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण है इसलिए लोग इस अभियान को सफल बनाने में अपना सहयोग जरूर दें।
delhincrnews.in reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here