हरियाणा के लोक निर्माण एवं वन मंत्री राव नरबीर सिंह ने पर्यावरण में प्रदूषण के स्तर को कम करने के लिए जहां एक ओर मोटर रहित साधन चलाने की जरूरत पर बल दिया वहीं दूसरी ओर आम जनता का आह्वान किया कि वे शादी-ब्याह, जन्मदिन आदि कार्यक्रमों के लिए निमंत्रण कार्ड बांटने की परंपरा को बंद करें क्योंकि कार्ड तथा कागज बनाने के लिए पेड़ों की कटाई की जाती है।

राव नरबीर सिंह शनिवार प्रात: गुरुग्राम के सैक्टर-29 में साईकलोथन तथा वाकेथोन के आयोजन के अवसर पर बोल रहे थे। यह आयोजन राहगीरी गुरुग्राम, कैनरा एचएसबीसी ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स लाईफ इंश्योरेंस कंपनी तथा डब्ल्यू-डब्ल्यूएफ इंडिया द्वारा, नगर निगम, हरियाणा पुलिस, नेस्कॉम, डब्ल्यूआरआई इंडिया तथा जीएसीएस के सहयोग से किया गया था जिसमें सैंकड़ो प्रतिभागियों ने उत्साह के साथ भाग लिया। इस साईकलोथोन व वाकेथोन  के लिए 5 किलोमीटर की दूरी तय की गई थी, जिसमें सैक्टर-29 में लैमन ट्री प्रीमियर होटल के सामने की पार्किंग से शुरू होकर सिग्रेचर टॉवर-हुडा सिटी सैंटर मैट्रो स्टेशन रोड़-अपुघर मार्ग- होटल वैस्टिन-होटल क्राउन प्लाजा का मार्ग शामिल था। यह प्रतिभागियों पर निर्भर था कि इस मार्ग पर कौन कितने चक्कर लगाता है।

राव नरबीर सिंह ने स्वयं साईकिल चलाकर लोगों को मोटर सुदा वाहनों की अपेक्षा नॉन मोटराईज्ड वाहनों अर्थात् साईकिल आदि का प्रयोग करने के लिए प्रेरित किया। राव नरबीर सिंह ने अपने संबोधन में आम जनता से अपील की कि वे आज के दिन यह प्रण लें कि वे अपने परिवार में किसी भी आयोजन के लिए निमंत्रण कार्ड नहीं छपवाएंगे और ना ही उनका वितरण करेंगे। इस एक कदम से ही सैंकड़ो पेड़ कटने से बच जाएंगे। राव नरबीर सिंह ने लोगों से कहा कि वे साईकिल चलाने में संकोच ना करें बल्कि विदेशों में तो लोग साईकिल चलाने को प्राथमिकता देते हैं क्योंकि उनमें जागरूकता हमसे ज्यादा है।

राव नरबीर सिंह ने अपना उदाहरण दिया और कहा कि उन्होंने अपने पुत्र तथा पुत्री की शादी में कोई निमंत्रण कार्ड नहीं छपवाया और लोगों को वट्सअप के माध्यम से ही मोबाईल से आमंत्रित किया था। उन्होंनें कहा कि आज टेक्नोलॉजी का युग है इसलिए सभी लोगों को चाहिए कि वे निमंत्रण भेजने के लिए भी मोबाईल का इस्तेमाल करें। राव नरबीर सिंह ने कहा कि जब हम दुख के संदेश मोबाईल पर वट्सअप से भेज सकते हैं तो खुशी के संदेश क्यों नहीं। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम एनसीआर का अग्रणी जिला है जहां पर शिक्षित तथा जागरूक लोगों की संख्या ज्यादा है इसलिए निमंत्रण कार्ड वितरण पर स्वयं प्रतिबंध लगाकर यहां के लोग पूरे देश को दिशा दे सकते हैं। उन्होंने आशा जताई कि निमंत्रण कार्ड वितरण पर रोक लगाकर गुरुग्राम मोबाईल से संदेश भेजने के मामले में पूरे देश को राह दिखाएगा।
उन्होंने कहा कि हमने इस धरती पर जन्म लिया है, इसलिए इसके पर्यावरण की रक्षा करना और उसे भावी पीढिय़ों के रहने लायक बनाना हमारा कर्तव्य है। राव नरबीर सिंह ने कहा कि इस कार्यक्रम में उपस्थित ज्यादात्तर लोग हिंदु धर्म से संबंध रखते हैं और हिंदु धर्म में व्यक्ति की मृत्यु होने पर शव को जलाया जाता है। अत: हिंदु धर्म का व्यक्ति तो मरते हुए भी एक पेड़ की बलि ले जाता है। राव नरबीर सिंह ने आम जनता से अपील की कि हर व्यक्ति अपने जीवन में कम से कम दो पेड़ अवश्य लगाए। केवल पौधा रोपण करना ही काफी नहीं है बल्कि पौधा लगाकर उसका पालन पोषण भी करना अनिवार्य है।
उन्होंने सभी के सामने सांय 8:30 से 9:30 बजे तक अपने घर की सभी लाईटे बंद रखने का भी संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि हम धरती को माता का दर्जा देते हैं इसलिए धरती और पर्यावरण को वापिस लौटाने के लिए भी हमें सकारात्मक कार्य करने चाहिए। राव नरबीर सिंह ने कहा कि हम सभी ऐसे कार्य करें जिससे पर्यावरण में प्रदूषण के स्तर को कम किया जा सके। इसी कड़ी में आज सांय एक घंटे के लिए सभी बिजली से चालित लाईटों को बंद रखकर धरती से जुडऩे का प्रयास किया जाएगा।

नगारो के अभिषेक मिश्रा ने अपने विदेशों के अनुभव सांझे करते हुए कहा कि विदेशों में साईकिल चलाने का प्रचलन है और वहां के लोग अपनी सेहत के प्रति ज्यादा जागरूक हैं। इसी प्रकार के विचार व्यक्त करते हुए डब्ल्यु डब्ल्युएफ इंडिया के सीईओ रवि सिंह ने कहा कि अपनी धरती को प्रदूषित होने से बचाने का दायित्त्व हम सभी का है। हमें इस दिशा में सकारात्मक कदम उठाने चाहिए। कैनरा एचएसबीसी ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स लाईफ इंश्योरेंस के सीईओ अनुज माथुर ने भी अर्थ आवर के दौरान साईकिल पर पैडल मारने और पैदल चलने का संकल्प लिया। उन्होंने कहा कि उनके संस्थान का हर व्यक्ति अपनी जिम्मेदारी अवश्य निभाएगा। राहगिरी फाउंडेशन की ट्रस्टी सारिका पाण्डा ने इस मौके पर कहा कि शहरों में 70 प्रतिशत ग्लोबल ग्रीन हाऊस गैस छोड़ी जाती हैं जिसमें एक तिहाई  हिस्सा अकेले ट्रांसपोर्ट सैक्टर का होता है। वाहनों से निकलने वाला धुंआ प्रदूषण फैलाने में ज्यादा योगदान देता है। अत: सभी को साईकिल या पब्लिक ट्रांसपोर्ट अपनाना चाहिए जोकि सतत शहरी विकास के लिए बैकबॉन के समान है।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhincrnews.in

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here