नेहरू नगर स्थित यशोदा हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेण्टर में विश्व किडनी दिवस के अवसर पर 8 मार्च को एक विशाल निःशुल्क किडनी जांच शिविर लगाया गया तथा साथही महिलाओं में गुर्दे की बीमारियों के बारे में जन जागरूकता, कारण एवं निदान विषय पर एक हेल्थ टॉक का आयोजन  किया गया, कैंप का उद्घाटन यशोदा हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर एवं वरिष्ठ ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ रजत अरोरा ने किया. कैंप में वरिष्ठ गुर्दा रोग विशेषज्ञ, डॉ रवींद्र सिंह भदौरिया  ने गुर्दे की बीमारी से ग्रसित मरीजों को मुफ्त परामर्श दिया तथा बताया कि इस वर्ष 2018 का  विश्व किडनी दिवस महिलाओं में होने वाली गुर्दे की बीमारियों पर केंद्रित है इस हेतु कैंप में किडनी की बीमारियों से सम्बंधित महत्वपूर्ण टेस्ट ब्लडयूरिया, यूरिक एसिड, क्रियटिनीन, यूरीन रूटीन एग्जामिनेशन, हीमोग्लोबीन, ब्लड शुगर, ब्लड प्रेशर मुफ्त में किये गए. कैंप में 100 से भी ज्यादा मरीजों ने भाग लिया. कैंप का संचालन यशोदा हॉस्पिटल के मार्केटिंग हेड गौरव पांडेय, अरविन्द,विपिन, आशीष अग्रवाल, राजेंद्र, कमल आदि ने कियाI

डॉ भदौरिया ने हेल्थ टॉक के दौरान बताया कि किडनी शरीर का एक ऐसा अंग होता है जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को छानकर पेशाब के रूप में निकालने में मदद करती है. रक्त को साफकरने का काम करने वाली किडनी आमतौर पर हमारी लापरवाही का शिकार होती है. उन्होंने आह्वान किया कि आज विश्व किडनी दिवस है तो इस मौके पर आप अपनी किडनी के बारेमें जानें और उसे स्वस्थ रखने का प्रण ले.

खराब जीवनशैली और कभीकभी दवाईयों के कारण किडनी के ऊपर बूरा प्रभाव पड़ता है. किडनी के बीमारी के बारे में सबसे बूरी बात यह है कि इसका पता प्रथम अवस्था में नहीं चलताहै. जब ये अंतिम अवस्था में चला जाता है तब इसका पता चलता है, इसलिए इसको साइलन्ट किलर कहते हैं. इसलिए किडनी के बीमारी के प्रथम अवस्था को समझने के लिए उसकेलक्षणों के बारे में पता लगाना ज़रूरी होता है. किडनी के खराब होने के दूसरे लक्षण उसके 80% खराब होने के बाद नजर में आते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here