सीआईटीयू संबन्धित आंगनवाड़ी वर्कर्ज एंड हेल्पर्ज़ यूनियन की हड़ताल 15वें दिन में प्रवेश कर गई। पूर्वनिर्धारित कार्यक्रम के अनुसार ज़िला भर की आंगनवाड़ी कर्मी अलसुबह ही अपने अपने ब्लाकों से बसों व परिवहन के अन्य साधनो द्वारा करनाल जाने के लिए निकाल गईमगर कुछ महिलाएं जो डीजल वाहनों द्वारा यात्रा करने में असमर्थछोटे बच्चों के साथ व पारिवारिक मजबूबियों के चलते करनाल नहीं जा सकती थी उन्होने हड़ताल का मोर्च आज भी लघु सचिवालय पर लगाया व जम कर नारे बाज़ी की तथा भाजपा सरकार को उसकी आदमखोर नीतियों के लिए लताड़ा।

आंगनवाड़ी कर्मियों के समर्थन में सीआईटीयू के ज़िला सचिव कामरेड राजेन्द्र सरोहाकोषाध्यक्ष मेजर शंकर प्रजापतिसर्व कर्मचारी संघ के पूर्व साथी ऋषि कुमारहरियाणा ज्ञान विज्ञान समिति के ईश्वर नास्तिकजनवादी महिला समिति की राज्य की उप प्रधान व ज़िला सचिव कामरेड उषा सरोहाओमवतीगुलाब देवीलीलावतीओमवती प्रजापतिरेशमीमाया देवी आदि ने अपने विचार रखे तथा महिलाओं के संघर्ष को शुभ कामनाएँ दी।

वक्ताओं ने कहा की करनाल में हजारों की संख्या में पहुंची राज्य भर की आंगनवाड़ी कर्मियों ने ये साबित कर दिया है की सरकार जनता को अब और ज्यादा मूर्ख नहीं बना सकती। लोग भाजपा सरकार की चालों को अच्छी तरह से समझ गए हैं। पिछलग्गू यूनियनों के साथ समझौता वार्ता का नाटक बंद कर आंगनवाड़ी कर्मियों के असल मांग व मुद्दों की बात करे। दिखावे व प्रचार के नाम पर जनता का हजारों करोड़ खर्च करने की बजाय जनता के आर्थिकशेक्षणिकस्वास्थ्यरोजगार संबंधी मांग मुद्दों पर ध्यान दे। आंगनवाड़ी कर्मियों की एकता को तोड़ने के उदेश्य से सरकार ने षड्यंत्र के तहत आज संदेश भिजवाए की चंडीगढ़ से बड़े अधिकारियों के साथ स्वतंत्रता सैनानी भवन में बैठक करनी हैजिस पर सभी कर्मियों ने वहाँ जाने माना कर दिया और बताया की जब तक हड़ताल पर हैंहम किसी प्रकार का काम हाथ में नहीं लेंगी।

अपनी मांगों पर अडिग आंगनवाड़ी कर्मी सरकार के साथ अब आर पार की लड़ाई के मूड में आ चुकी हैइसके चलते करनाल में पड़ाव डालने का कार्यक्रम भी किया जा सकता है। आगे के संघर्ष की रूपरेखा सरकार के रवैये के अनुसार ही तय की जाएगी।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here