जिला गुरुग्राम में ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप की प्रगति रिपोर्ट की नगराधीश मनीषा शर्मा व मुख्यमंत्री की सुशासन सहयोगी गुंजन गहलोत ने समीक्षा की और प्रशासनिक अधिकारियों की बैठक लेकर उन्हें इस दिशा में तत्परता से काम करने के निर्देश दिए। आयोजित बैठक में नगर निगम गुरुग्राम तथा नगरपालिका सचिवों सहित विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया। नगराधीश ने कहा कि ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप प्रदेश सरकार का एक फ्लैगशिप कार्यक्रम है जिसके लिए सभी को गंभीरता से काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप सरकार की प्राथमिकताओं में से एक है और इसे सफल बनाने के लिए जरूरी है कि आमजनता को इससे जोड़ा जाए।
उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे इस मोबाइल एप पर अपलोड होने वाली शिकायतों का निर्धारित समयावधि में ना केवल निपटारा करना सुनिश्चित करें बल्कि किए गए काम में गुणवत्ता भी लाएं। वे जिला के अधिक से अधिक लोगों को इस एप से जोडऩे के लिए विभिन्न प्रकार के जागरूकता कार्यक्रम भी आयोजित करवाएं। उन्होंने कहा कि स्कूलों में बच्चों के अभिभावकों को इस एप के बारे में जानकारी देने संबंधी फार्मेट तैयार करवाकर भेजे जा सकते हैं ताकि उन्हें इस एप के बारे में जानकारी मिल सके।
नगराधीश ने कहा कि ‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप की जानकारी जन-जन तक पहुंचाने के लिए स्कूलों व कॉलेजों में स्किट आदि भी आयोजित करवाई जा सकती है ताकि युवाओं व अन्य लोगों तक इस एप की जानकारी पहुंचाई जा सके। उन्होंने कहा कि वे इस मुहिम को सफल बनाने के लिए संबंधित क्षेत्रों के पार्षदों का भी सहयोग ले और इस दिशा में अच्छा काम करने वाले पार्षदों को सम्मानित करें।
‘स्वच्छ मैप’ मोबाइल एप ऐंड्रॉड मोबाइल फोन के गूगल प्ले स्टोर या ऐपल में ऐपस्टोर पर उपलब्ध है जिसे नि:शुल्क डाऊनलोड किया जा सकता है। इस मोबाइल एप पर शिकायत अपलोड करने के 48 घंटों के भीतर उसका समाधान करना अनिवार्य है। इस एप पर कोई भी व्यक्ति कचरा दिखाई देने पर उसकी फोटो खींचकर अपलोड कर सकता है। वह फोटो स्वत: संबंधित अधिकारी के पास चली जाएगी और उसके बाद सफाई व्यवस्था की जिम्मेदारी संबंधित अधिकारी की होगी। है। इस मोबाइल एप में शिकायकर्ता को शिकायत का समाधान होने के बाद दो विकल्प मिलेंगे जिसमें से एक ‘संतुष्ट’ तथा दूसरा ‘संतुष्ट नही’ का है।
‘हरपथ हरियाणा’ मोबाइल एप को लेकर किए गए कार्यों की समीक्षा 
नगराधीश ने ‘हरपथ हरियाणा’ मोबाइल एप को लेकर किए गए कार्यों की भी समीक्षा की और कहा कि इस मोबाइल एप पर अपलोड होने वाली शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर समाधान करें। उन्होंने कहा कि इस एप के माध्यम से प्राप्त होने वाली शिकायत को दूर करने के लिए सरकार ने 15 दिन का समय निर्धारित कर रखा है, इसलिए यह जरूरी है कि शिकायत प्राप्त होते ही अधिकारी जल्द से जल्द काम शुरू करें और इसका समाधान करें। उन्होंने कहा कि लोगों को ‘हरपथ हरियाणा’ मोबाइल एप के बारे में बताएं कि यह किस प्रकार से डाऊनलोड की जा सकती है और इसे कैसे इस्तेमाल किया जा सकता है।
इस मोबाइल एप पर कोई भी व्यक्ति टूटी सडक़ों की फोटो खींचकर अपलोड कर सकता है। यूजर अपनी शिकायत का स्टेटस भी मोबाइल एप में देख सकता है। शिकायत का समाधान होने उपरंात उसके स्टेटस में इसकी सूचना यूजर को दी जाती है। इस एप को डाऊनलोड करने के दो फायदे हंै जिसमें से पहला फायदा यह है कि इससे प्रदेश की सडक़ों की मॉनीटरिंग करने में आसानी होती है तथा दूसरा फायदा ये है कि सडक़ों की दशा सुधरेगी।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here