राजकीय महाविद्यालय सैक्टर 9 में 14 वीं एथलेटिक मीट का आयोजन किया गया जिसमें विद्यार्थियों ने अनेक प्रतिस्पर्धाओं में भाग लेकर खेलों के प्रति समर्पण प्रदर्शित किया। एथलेटिक मीट का उद्घाटन महाविद्यालय की प्राचार्या डाॅ. इंदु जैन के कर-कमलों द्वारा हुआ। इस प्रतिस्पर्धा के दौरान लड़कों की 200 मीटर दौड़ में वर्षा प्रथम, संध्या द्वितीय, कंचन तृतीय स्थान पर रही। लड़कों की 200 मीटर दौड़ में अमन मौरिया प्रथम, युसूफ द्वितीय, पंकज तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों की 400 मीटर दौड़ में राधा प्रथम, सोनिया द्वितीय तथा मनीषा तीसरे स्थान पर रही। लड़कों की 400 मीटर दौड़ में दीपक प्रथम, युसूफ द्वितीय तथा दीपक तृतीय स्थान पर रहे।
लड़कों की शाॅट पुट में सचिन प्रथम, अनमोल द्वितीय, सूरज तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियांे की शाॅट पुट में मंजू प्रथम, प्रीति द्वितीय, अंकिता तृतीय स्थान पर रहे। लडकों के जैवलिन थ्रो में योगेश प्रथम, तेजपाल द्वितीय, अंकुर तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों के जैवलिन थ्रो में चंचल प्रथम, प्रीति द्वितीय, सरोज तृतीय स्थान पर रहे। लड़कों के लम्बी कूद में सुमित प्रथम, मोहित द्वितीय, पवन तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों की लम्बी कूद में राधा प्रथम, सोनिया द्वितीय, अंकिता तृतीय स्थान पर रहे। लड़कों की हाई जम्प में सुमित प्रथम, प्रमोद द्वितीय, मोहित तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों की हाई जम्प में मंजू प्रथम, सोनिया द्वितीय, संध्या तृतीय स्थान पर रहे। लड़कों की डिसकस थ्रो में विपिन्न प्रथम, तेजपाल द्वितीय, सूरज तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों की डिसकस थ्रो में अंकिता प्रथम, मंजू द्वितीय, सरोज तृतीय स्थान पर रहे। लड़कियों की तीन पैर दौड़ में संध्या एवं वर्षा प्रथम, कंचन एवं पूजा द्वितीय, नताशा एवं सृष्टि तृतीय स्थान पर रहे। लड़कों की तीन पैर दौड़ गौरव और उमेश प्रथम, अमन एवं संतराम द्वितीय पवन एवं अभिषेक तृतीय स्थान पर रहे। लड़कों 100 गुणा चार रिले रेस में पवन, दीपक, अभिषेक, पंकज प्रथम स्थान पर रहे। लड़कियों की 100 गुणा चार रिले रेस में प्रीति, सरोज, विमल और वर्षा प्रथम स्थान पर रहे।
इस अवसर पर मुख्यातिथि डाॅ. इंदु जैन ने भावी खिलाड़ियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि जीत और हार एक ही सिक्के के दो पहलू होते हैं। जीत से कहीं अधिक सीख हमें हार से मिलती है। इसलिए जो हारता है उसे निराश नहीं बल्कि उत्साहित होना चाहिए क्योंकि यह जीत की तरफ पहला कदम है। सफलता एक चुनौती है। यदि हम हार भी जाते हैं तो निराश होने के स्थान पर आत्ममंथन करने की आवश्यकता है। खिलाड़ियों को केवल खेल की भावना से ही खेलना चाहिए। उन्होंने कहा कि एथलेटिक मीट में भाग लेने वाला प्रत्येक विद्यार्थी राष्ट्रीय स्तर तक पहचान बना सकता है। आज खेलों के क्षेत्र में शानदार भविष्य का निर्माण किया जा सकता है।
कार्यक्रम में प्रोफेसर संगीता यादव एवं प्रो कृृष्णा यादव विशिष्ट अतिथि के तौर पर मौजदू रहीं। शारीरिक शिक्षा विभाग की प्राध्यापिका शोभा नारंग ने विद्यार्थियों के उत्साह की भरपूर प्रशंसा करते हुए कहा कि युवाओं की शक्ति के बल पर ही हमारा देश विश्व शक्ति बनने की ओर अग्रसर है। यही युवा शक्ति ही संसार में परिवर्तन लाकर उसे विकास के पथ पर ले जा सकती है। इस शक्ति को इसी सकारात्मक दिशा में ले जाने की आवश्यकता है। खेलों मंे भाग लेकर युवा न केवल अपना विकास करते हैं बल्कि समाज निर्माण में सहयोग करते हैं। इस कार्यक्रम में एसोसिएट प्रोफेसर कैप्टन राजकुमार तथा श्रीमती ललिता ने उद्घोषणा कर विद्यार्थियों का हौसला बढ़ाया। एथलेटिक मीट के सचिव सहायक प्राध्यापक रवि कुमार ने कहा कि खेलों में भाग लेना सभी के लिए आवश्यक है क्योंकि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ विचार उत्पन्न हो सकते हैं। खेलों के द्वारा हम जीने की कला को सीख सकते हैं।
इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक आर के आहुजा, संजीव खुराना, राजेश कुंडु, मीनू शर्मा, प्रवीण सिंह, मीनाक्षी दलाल, तरूण लता, पूनम कपूर, अंजना शर्मा, अशोक कुमार, सोनिका दांगी, सुभाष चंद्र, महेश कुमार, राजीव शर्मा सहित सभी प्राध्यापक तथा अन्य स्टाफ सदस्य मौजूद रहे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here