हरियाणा के शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने कहा है कि हरियाणा सरकार दिव्यांग बच्चों के उत्थान के लिए पूरी शक्ति लगा देगी। पूरी सरकार दिव्यांग बच्चों को हर प्रकार की सुविधा देने के लिए कटिबद्ध है, जिससे उनकी प्रतिभा को सही सम्मान और स्थान मिल सके। शिक्षा मंत्री गुरुग्राम के बहरामपुर गांव में स्थित एआईसीबी कैप्टन चंदनलाल अंध विद्यालय के २२वें वार्षिकोत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में बोल रहे थे। इस मौके पर उन्होंने अंध विद्यालय में कार्य कर रहे शिक्षकों सहित लगभग ३० लोगों के स्टाफ को टेकओवर कर उनकी सैलरी सरकारी खाते से देने की घोषणा की। इसके अलावा उन्होंने कार्यक्रम में विद्यालय के बच्चों को ११ लाख रुपए की नकद राशि देने का एलान किया। इसके बाद राम बिलास शर्मा, कार्यक्रम में अतिविशिष्ट  अतिथि के रूप में संघ के सह प्रांत संघचालक पवन जिंदल, विद्यालय कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद राघव सहित सभी अतिथियों ने स्कूल के बच्चों को पुरस्कृत किया।
राम बिलास शर्मा ने स्कूल प्रबंधन कमेटी से अपील की कि वे भी इस स्कूल की कमेटी के कार्यकर्ता के रूप में कार्य करना चाहते हैं। उन्होंने वादा किया कि समय मिलने पर वे हर माह स्कूल में मौजूद दिव्यांग बच्चों से मिलने के लिए आने की हर संभव कोशिश करेंगे। शर्मा ने कहा कि देखने वालों की सब मदद करते हैं, लेकिन इन बच्चों की मदद करना ही सबसे बड़ी मदद है। ऐसे में बच्चों में अतिरिक्त टेलेंट होता है। इन बच्चों को सही दिशा मिले तो ये भी ऐसा कोई काम नहीं, जिसे कर नहीं सकते हों। स्कूल के दिव्यांग बच्चों से उन्होंने कहा कि आप सब अकेले नहीं है, पूरी सरकार आपके लिए है। आपके विकास के लिए हर संभव कदम उठाऐ जा रहे हैं।
इस अवसर पर अति विशिष्ठ अतिथि पवन जिंदल ने कहा कि हर दिव्यांग बच्चा एक आम बच्चे से ज्यादा प्रतिभाशाली होता है, इन बच्चों पर अगर ध्यान दिया जाए तो ये बच्चे हर स्तर पर देश का नाम रोशन कर सकते हैं। उन्होंने विद्यालय की प्रबंध कमेटी की पीठ थपथपाई कि अंध विद्यालय में बेहतर स्तर की शिक्षा के सभी प्रबंध किए गए हैं। इस मौके पर जिला उपायुक्त विनय प्रताप ने कहा कि दिव्यांग बच्चों को देखने का नजरिया बदलना होगा, क्योंकि ये बच्चे आशक्त नहीं, बल्कि दिव्यांग है, जिनमें कुछ अतिरिक्त काबिलियत होती है। उन्होंने कहा कि अगर शहर में ऐसा कोई सार्वजनिक स्थान है, जिसका उपयोग करने में दिव्यांगों को परेशानी होती हो, उसकी प्रशासन को सूचना दी जाए ताकि वे उसे ठीक करवा सके। स्कूल कमेटी के अध्यक्ष प्रमोद राघव व संस्थापक सदस्य जवाहर कॉल ने शिक्षा मंत्री से आग्रह किया कि समय  समय पर इन बच्चों के उत्थान के लिए नई नई योजनाएं लाई जानी चाहिए। इस अवसर पर हज कमेटी के चेयरमैन औरंगजेब, विद्यालय प्रबंध कमेटी की उपाध्यक्ष वंदना सब्रवाल, आचार्य राघवेन्द्र भट्ट, आचार्य प्रभातीलाल, कला परिषद के चेयरमैन अजय सिंघल, प्रांत समरसता संयोजक महेन्द्र यादव, प्रवीण यादव, विकास कपूर, पार्षद कुलदीप यादव, राव चतुर्भुज, महानगर कार्यवाह विजय जी, अनिल कश्यप, नरेन्द्र चौहान, रजनीश भारद्वाज, संदीप यादव, आरसी गुप्ता, आईएस यादव आदि सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।
वृद्धाश्रम के लिए एक माह में सीएलयू देने के आदेश
अंध विद्यालय के संस्थापक सदस्य जवाहर कॉल की मांग पर राम बिलास शर्मा ने कार्यक्रम में ही तुरंत घोषणा की कि अंध विद्यालय के सामने खाली पड़ी विद्यालय की जमीन की सीएलयू एक माह के अंदर दे दी जाएगी। कॉल ने मांग रखी थी कि इस जमीन पर विद्यालय कमेटी वृद्धाश्रम बनाना चाहती  है। इस पर शिक्षा मंत्री ने कार्यक्रम में मौजूद जिला उपायुक्त विनय प्रताप को कहा कि वे एक माह के अंदर इस जमीन को सीएलयू संबंधी पूरी कार्रवाई करके विद्यालय को सौंप दें। कमेटी अध्यक्ष ने बताया कि जैसे ही सीएलयू मिलेगा विद्यालय कमेटी वृद्धाश्रम का कार्य शुरू कर देगी।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here