मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि युवाओं के सामने कई चुनौतियां है। सच्चा युवा वही है जो पलायन करने के बजाए चुनौतियों को स्वीकार कर सामना करे। विद्यार्थी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए और विश्वविद्यालय नकल विहीन परीक्षा के लिए अपने को तैयार रखें। शिक्षण संस्थान विद्यार्थियों को उपाधियां प्रदान करने के साथ ही उनके हितों को ध्यान में रखते हुए विकास में भी योगदान करंे। यही स्वामी विवेकानंद जी के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मुख्यमंत्री जनपद जौनपुर के वीर बहादुर सिंह पूर्वान्चल विश्वविद्यालय में स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के अवसर पर आयोजित ‘राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह’ में बतौर मुख्य अतिथि अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने कहा कि सरकार की वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट योजना का मकसद क्षेत्रीय उत्पादों को बढ़ावा देना है। क्षेत्र विशेष के परम्परागत उत्पादों को मंच प्रदान कर ही उनका आर्थिक विकास सम्भव हो सकेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना का लाभ प्रदेश के युवक लाखों की संख्या में उठा चुके हैं। विश्वविद्यालय स्तरीय शिक्षण संस्थानों को भी इसमें अपना योगदान सुनिश्चित करना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में प्रो. राजेन्द्र सिंह (रज्जू भइया) भौतिकीय विज्ञान अध्ययन एवं शोध संस्थान भवन एवं अशोक सिंहल भारतीय परंपरागत विज्ञान एवं तकनीकी संस्थान भवन का शिलान्यास किया। साथ ही, विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन का नामकरण पूज्य महंत अवैद्यनाथ जी के नाम पर किया।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय जौनपुर के प्रो. बी.बी. तिवारी, प्रो. डाॅ. रंजना प्रकाश को विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को प्लेसमेण्ट प्रदान करने में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने प्रख्यात युवा शास्त्रीय गायक, सत्य प्रकाश मिश्र को शास्त्रीय गायन में एवं प्रख्यात युवा कथक नर्तक रवि सिंह को कथक नर्तन के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रशस्ति पत्र दिया। मुख्यमंत्री ने विश्वविद्यालय के बीटेक विद्यार्थी रहे शीलनिधि सिंह एवं विश्वविद्यालय की एमए बीएड की छात्रा पूजा मिश्र को समाज सेवा के लिए पूर्णकालिक समय देने के लिए प्रमाण-पत्र प्रदान किया।

मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर शहीद स्व. विनय त्रिपाठी की पत्नी पूनम त्रिपाठी को प्रदेश सरकार की तरफ से 5 लाख रुपये की अनुग्रह राशि का चेक प्रदान किया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए वीर बहादुर सिंह पूर्वान्चल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. डाॅ. राजाराम यादव ने विश्वविद्यालय की प्रगति आख्या प्रस्तुत की। उन्होंने कहा कि देश में पोस्ट डाक्ट्रेट फेलोशिप देने वाला यह पहला विश्वविद्यालय है। यह विश्वविद्यालय समय से परीक्षा कराने और परिणाम घोषित करने में भी अग्रणी है। विश्वविद्यालय के प्लेसमेंट सेल ने 30 विद्यार्थियों का कैम्पस सेलेक्शन कराया है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के सहयोग से यहां आईएएस और पीसीएस की कोचिंग भी शुरू की जा रही है।
इस अवसर पर नगर विकास राज्यमंत्री, गिरीश चन्द्र यादव, सांसद, केपी सिंह, सहित जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी एवं अन्य गणमान्य व्यक्ति उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here