मुख्यमंत्री ने विकास कार्याें की प्रगति की समीक्षा के दौरान सिस वरुणा क्षेत्र के 41 में से 10 जोनों में बिछाये गये पेयजल पाइप लाइनों में पेय जलापूर्ति अब तक सुनिश्चित न होने तथा बिछाये गये पाइप लाइनों के गैप अब तक ठीक न कराये जाने पर असंतोष जताया तथा इसके लिये जिम्मेदार पूर्व में तैनात जल निगम के अभियंताओं एवं ठेकेदारों की सूची तलब करते हुए कठोर कार्यवाही किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने रिंग रोड फेज-1 में कराये जा रहे कार्य की 51 फीसदी प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए इसे जून, 2018 तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया।

मुख्यमंत्री ने सुलतानपुर-वाराणसी 4-6 लेन सड़क चैड़ीकरण कार्य की धीमी प्रगति पर भी नाराजगी जताते हुए शेष 30-35 फीसदी भूमि एन0एच0आई0 को शीघ्र उपलब्ध कराये जाने हेतु कमिश्नर को निर्देशित किया। गोरखपुर-वाराणसी 4 लेन, फेज-2 के कार्य में अब तक मात्र 10 फीसदी ही प्रगति होने पर उन्होंने नाराजगी जतायी तथा सम्बन्धित काश्तकारों में मुआवजा राशि शीघ्र वितरित कराकर भूमि अधिग्रहण किये जाने के निर्देश दिये। बाबतपुर-वाराणसी 4 लेन सड़क निर्माण कार्य 71 फीसदी पूरा होने की जानकारी मिलने पर इसे जून, 2018 तक पूरा किये जाने के निर्देश दिये।

मुख्यमंत्री ने गेल इण्डिया द्वारा गंगा ऊर्जा परियोजना के तहत शहरी क्षेत्र में बिछाये जा रहे गैस पाइप लाइन को युद्धस्तर पर अभियान चलाकर जून, 2018 तक पूरा कराये जाने का निर्देश दिया। गेल इण्डिया के अधिकारी ने बताया कि शहर में बिछाये जाने वाले 38 कि0मी0 में से 23 कि0मी0 पाइप लाइन बिछायी जा चुकी है, शेष 15 कि0मी0 पाइप लाइन जून, 2018 तक बिछाते हुए गैस आपूर्ति सुनिश्चित करा दी जायेगी। उन्होंने गेल इण्डिया के अधिकारी को यह भी निर्देशित किया कि गेल जिन सड़कों को खोद कर काम करें, तो उसके बाद उसकी मरम्मत भी अवश्य करायें, ताकि जनता को समस्या न होने पाये।

अन्तर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण द्वारा निर्माणाधीन टर्मिनल कार्य को अगस्त, 2018 तक पूरा कराये जाने का निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री जी ने जल परिवहन के अन्य कार्यों हेतु भूमि विवाद प्रकरण को एक सप्ताह में निस्तारित कराये जाने के लिए जिलाधिकारी को निर्देशित किया। बीएचयू में निर्माणाधीन सुपर स्पेशियलिटी कंैसर अस्पताल के कार्य में तेजी लाये जाने हेतु केन्द्रीय लोनिवि के अभियंता को निर्देशित किया। आईपीडीएस द्वारा पुराने काशी क्षेत्र में कराये जा रहे भूमिगत वायरिंग कार्य को युद्वस्तर पर अभियान चलाकर इसी माह पूरा कराये जाने का निर्देश देते हुए उन्होंने सड़कांे पर हो रहे कार्याें को प्राथमिकता पर पूरा कराये जाने की बात कही। इसके बाद गलियों का कार्य पूर्ण कराये जाने पर भी उन्होंने जोर दिया। उन्होंने कहा कि सड़कें विकास का पैमाना हैं और इनकी मरम्मत, रखरखाव व निर्माण का कार्य शीघ्र पूर्ण होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कार्यदायी संस्थाओं की ओर इशारा करते हुए कहा कि काशी की सड़क अब गड्ढा मुक्त होनी चाहिये। उन्होंने सीवर, पेयजल, भूमिगत वायरिंग, गैस पाइप लाइन सहित सड़कांे पर कराये जा रहे विभिन्न कार्यों की कार्यदायी संस्थाओं को अपने कार्यांे को युद्धस्तर पर अभियान चलाकर जनवरी, 2018 तक पूरा कराये जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनवरी के बाद कोई सड़क गड्ढायुक्त न हो। उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अभियंता को निर्देशित किया कि कार्यदायी संस्थाओं के कार्य पूरा होने के तत्काल बाद सड़कों का निर्माण एवं मरम्मत कार्य युद्धस्तर पर पूरा करा दिया जाय।

मुख्यमंत्री ने हृदय योजनान्तर्गत निर्माणाधीन एवं शेष 6 सड़कों के कार्य को भी जनवरी में पूरा किये जाने पर जोर दिया। जायका योजनान्तर्गत निर्मित सामुदायिक शौचालयांे की सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने के भी निर्देश दिये। चिन्हित सड़कांे पर 31 जनवरी तथा गलियों में 15 फरवरी तक हेरिटेज पोल लगाये जाने के कार्य को पूरा कराये जाने के निर्देश दिये। तालाबांे/कुण्डांे के मरम्मत एवं जीर्णोद्धार कार्य को 31 मार्च तक प्रत्येक दशा में पूरा कराये जाने के निर्देश देते हुए उन्होंने दीनापुर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लाण्ट के निर्माण कार्य को मार्च, 2018 तक पूरा कराये जाने पर विशेष जोर दिया। गोइठहा सीवरेज ट्रीटमेन्ट प्लान्ट की धीमी प्रगति पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कार्य में तेजी लाये जाने का निर्देश दिया। जलनिगम द्वारा 50,250 चिन्हित घरेलू कनेक्शन के सापेक्ष अब तक मात्र 16,000 ही कनेक्शन किये जाने तथा शत-प्रतिशत चिन्हित कनेक्शन किये जाने में तकनीकी परेशानी होने की जानकारी पर उन्होंने ब्रान्च सीवर लाइन डालकर शत-प्रतिशत कनेक्शन किये जाने का निर्देश दिया।

स्वच्छता कार्यक्रम की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने वाराणसी शहर में सड़को पर कूड़ाघर न बनाये जाने का निर्देश देते हुए चैराहों पर बनाये गये मूत्रालयों में व्याप्त गंदगी का जिक्र करते हुए इसकी नियमित सफाई सुनिश्चित कराये जाने हेतु नगर आयुक्त को निर्देशित किया। उन्होंने विद्यालयों में बने शौचालयों की स्थिति असन्तोषजनक बताते हुए जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को क्षेत्र में निकल कर विद्यालयों का निरीक्षण कर व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने का निर्देश दिया। उन्होंने ग्राम पंचायतांे के साथ बैठक कर विद्यालयों के शौचालयांे की व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने पर जोर दिया। उन्हांेने जनप्रतिनिधियों से एक-एक विद्यालय गोद लिये जाने की भी अपेक्षा की। नगरीय क्षेत्र में स्वच्छता पर विशेष जोर देते हुए उन्होंने महापौर एवं नगर आयुक्त को संयुक्त रूप से प्रतिदिवस दो-दो वार्डों का निरीक्षण कर सफाई व्यवस्था सुनिश्चित कराने की बात कही।

मुख्यमंत्री ने गुरुवार को रात्रि में शहर के निरीक्षण के दौरान नगर निगम के डस्टबिन में लगायी गयी आग एवं सड़कांे व गलियों में जगह-जगह कूड़े के ढेर तथा गंदगी की चर्चा करते हुए कूड़े की नियमित उठान सुनिश्चित कराये जाने के साथ डस्टबिन के कूड़े में कतई आग न लगाये जाने हेतु नगर आयुक्त को निर्देशित किया। उन्होंने नगर निगम के 3,000 सफाई कर्मियों के बावजूद शहर की समुचित सफाई न होने पर भी सवाल उठाया। गांवों में स्वच्छता के लिये ग्राम प्रधान एवं सेक्रेटरी को जवाबदेह बनाये जाने पर जोर देते हुए उन्होंने निर्देशित किया कि गाॅवो में तैनात सफाई कर्मियों किसी जनप्रतिनिधि के घर में न रहे। सफाई कर्मी अपने तैनाती स्थल पर रहकर नियमित रूप से सफाई कार्य को सुनिश्चित करंे।

मुख्यमंत्री ने चैकाघाट-लहरतारा फ्लाई ओवर को तीन शिफ्ट में कार्य कराते हुए जून, 2018 तक हर हालत में पूरा कराये जाने हेतु सेतु निगम के अभियंता को निर्देशित करते हुए कहा कि कार्य के दौरान जनसामान्य को परेशानी न होने पाये। उन्हांेने कार्य के दौरान यातायात को सामान्य रखने हेतु वैकल्पिक व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने पर भी जोर दिया। वरुणा काॅरिडोर के कार्य को अभियान चलाकर 31 मार्च, 2018 तक पूरा कराये जाने का भी निर्देश दिया। उन्होंने पंचक्रोसी परिक्रमा मार्ग के पड़ावो पर तीर्थ यात्रियों के ठहरने आदि संबंधी बुनियादी व्यवस्था मुहैया कराये जाने पर भी जोर दिया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here