मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कृषि उत्पादन मण्डी अधिनियम में किसानों के हित में संशोधन किए जाने के निर्देश देते हुए कहा है कि मण्डी समितियों में किसानों को प्रतिनिधित्व देने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि किसानों को अपने उत्पाद को बेचने की स्वतंत्रता हो, जिससे उन्हें अपने उत्पाद के विक्रय का बहुविकल्प उपलब्ध हो सके और बेहतर मूल्य मिल सके। उन्होंने कहा कि मण्डी समितियों के संचालन में जवाबदेही निर्धारित हो, जिससे उनका स्थानीय आवश्यकता के अनुरूप विकास हो सके। उन्होंने कहा कि किसानों को उनकी उपज का मूल्य दिलाने के लिए राज्य सरकार प्रतिबद्ध है।

मुख्यमंत्री शास्त्री भवन में कृषि विपणन के क्षेत्र में सुधारों के सम्बन्ध में प्रस्तुतिकरण के दौरान अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्हांेंने कहा कि कोल्ड स्टोरेज व गोदामों आदि की बेहतर व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। किसानों से प्रसंस्करण इकाइयों और व्यवसायियों द्वारा भी उनके उत्पादों को क्रय करने की व्यवस्था के बेहतर इंतजाम किए जाएं। कृषि विपणन के क्षेत्र में और सुधारों की आवश्यकता जताते हुए उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में जो भी बाधाएं हैं, उन्हें दूर किया जाए।

मुख्यमंत्री ने मण्डी स्थलों पर व्यापारिक गतिविधियों को पारदर्शी एवं भ्रष्टाचार मुक्त ढंग से संचालित किए जाने के निर्देश देते हुए कहा कि किसानों के कृषि उत्पादों की खरीद में बिचैलियों के लिए कोई स्थान नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा कि मण्डी समितियों के संचालन में किसानों, व्यापारियों तथा अन्य घटकों का प्रतिनिधित्व भी सुनिश्चित हो। मण्डी स्थलों में आधारभूत सुविधाओं एवं साफ-सफाई की पर्याप्त व्यवस्था हो। कृषि विपणन के क्षेत्र में निजी पूंजी निवेश की सम्भावनाओं पर भी विचार किया जाए। उन्हांेंने कहा कि किसानों को बेहतर भण्डारण की सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। किसानों को उनके उत्पाद के विक्रय के लिए सहूलियतें दी जाएं और उन्हें इस कार्य में किसी भी प्रकार की बाधा न उत्पन्न हो।
इस अवसर पर प्रमुख सचिव कृषि एवं कृषि विपणन, अमित मोहन प्रसाद ने कृषि उत्पादन मण्डी अधिनियम, 1964 के उद्देश्यों व उपलब्धियों के सम्बन्ध में जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान में किसानों के लिए खलिहान अग्निकाण्ड दुर्घटना एवं व्यक्तिगत दुर्घटना सहायता योजना, किसान उपहार योजना आदि संचालित हैं। वर्तमान सरकार की मंशा के अनुरूप कृषि विपणन के क्षेत्र में सुधारों के लिए तेजी से कार्रवाई की जा रही है।
इस अवसर पर कृषि निर्यात, विपणन व विदेश व्यापार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), स्वाती सिंह, मुख्य सचिव, राजीव कुमार, कृषि उत्पादन आयुक्त, राज प्रताप सिंह, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, एस0पी0 गोयल, प्रमुख सचिव वित्त, संजीव कुमार मित्तल, प्रमुख सचिव खाद्य एवं रसद निवेदिता शुक्ला वर्मा सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here