यशोदा हॉस्पिटल एवं रिसर्च सेण्टर, नेहरू नगर, गाजियाबाद द्वारा रविवार १७ दिसंबर को एक विशाल वेरिकोज वेन मेडिकल चेक अप कैंप लगाया गयाI कैंप का उद्धाटन यशोदा हॉस्पिटल के मैडिकल डायरेक्टर डॉ रजत अरोड़ा ने कियाI इस कैंप में 300 से भी ज्यादा मरीजों ने भाग लिया, मरीज जो लम्बे समय से पैरो में गुच्छे या वेरिकोज वेन्स बीमारी सेग्रसित थे उन्होंने वरिष्ठ सर्जन डॉ आशीष गौतम से निःशुल्क परामर्श लिया एवं पैरोंके नसों की जांच वैस्क्युलर डॉप्लर विधि से ५०% की छूट पर कराई.

डॉ आशीष गौतम ने बताया कि सबसे ज्यादा दिक्कत महिलाओं में पाई गयी. महिलाओ के लम्बे समय तक किचन में ख रहने एवं अन्य काम करने की वजह से यह बीमारी उग्र रूप ले लेती है;  कई लोगों में कोई लक्षणदिखाई नहीं देते हैं और वेरीकोस नसें सिर्फ देखने में अच्छी ना लगने के कारण चिंता का विषय होती हैं. कुछ मामलों में, वे दर्द और परेशानी देतीहैंया खून के संचार में किसी मूल समस्या का संकेत होती हैं. डॉ आशीष गौतमबताते हैं कि पैर की नसों में मौजूद वाल्‍व,पैरों से रक्त नीचे से ऊपर हृदय की ओर ले जाने में मदद करते है।

लेकिन इन वॉल्‍व के खराब होने पर रक्त ऊपर की ओर सही तरीके से नहीं चढ़ पाता और पैरों में ही जमा होता जाताहै।इससे पैरों की नसें कमजोर होकर फैलने लगती हैं या फिर मुड़ जाती हैं, इसे वैरिकोज वेन्‍स की समस्‍या कहते हैं।इससे पैरों में दर्द, सूजन, बेचैनी, खुजली, भारीपन, थकान या छाले जैसी समस्याएं शुरू हो जाती हैं।

अब इसकी चिकित्सा यशोदा हॉस्पिटल में बिना बड़ी सर्जरी के इंडो वीनस लेज़र विधि से की जा रही है , इंडोवेनस लेजर एब्लेशन सर्जरी   (ईवीएलएस) वैरीकोज वेन्स के रोगियों का इलाज करने की नवीनतम तकनीक है।यह तकनीक इस बीमारी के इलाज का एक कारगर विकल्प है,  इस तकनीक को लोकल या स्पाइनल एनेस्थीसिया देकर अंजाम दिया जा सकता है।  कलर डॉपलर की मदद से फैली हुई वैरीकोज वेन्स का पता लगाया जाता हैऔर उसे पंक्चर कर दिया जाता है। इन पंक्चर किए हुए वेन्स में लेजर फाइबर डाला जाता है।  लेजर फाइबर टिप की मदद से वेन में लेजर ऊर्जा डाली जाती है।  यह ऊर्जा आसपास के टिश्यूज को नुकसान पहुंचाए बगैर प्रभावितवेन्स की अंदरूनी पर्त को जला देती , इस प्रकार, वैरीकोज वेन्स के उपचार के बाद पैरों में रक्त का समुचित संचार शुरू हो जाता है। इस तकनीक में चीरे नहीं लगाए जाते।मरीज को तेजी से स्वास्थ्य लाभ होता है और वहजल्द ही अपना दैनिक काम शुरू कर सकता है

यदि वैरीकोज वेन्स से कोई व्यक्ति पीडि़त है, तो पैर भारी और थका हुआ महसूस होता है।पैर में दर्द महसूस हो सकता है। – रात में या व्यायाम करने के बाद स्थिति और खराब हो सकती है।- लंबे समय तक खड़े रहने परलक्षण और भी खराब हो सकते हैं।- पैरों में ऐंठन भी महसूस हो सकती है। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में वैरीकोज वेन्स होने की अधिक संभावना होती है।दिल्ली एनसीआर में इस तरह का कैंप गाजियाबाद में किसी अस्पताल के द्वारा पहली बार लगाया गया हैI

 

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here