डिस्कॉम्स अध्यक्ष, श्रीमत पाण्डे ने कहा कि लॉस रिडक्सन के लिए बिजली चोरी रोकने हेतु प्रभावी कार्यवाही करने के साथ ही चोरी करवाने में लिप्त निगम कर्मचारियों के खिलाफ भी सख्त कार्यवाही करते हुए ऎसे कर्मचारियों केे खिलाफ एफआईआर दर्ज होनी चाहिऎ, तब ही लॉस रिडक्सन के परिणाम प्राप्त होंगे।
पाण्डे ने वीडियों कॉन्फें्रस के माध्यम से तीनों डिस्कॉम में विद्युत आपूर्ति प्रबन्धन एवं विभिन्न योजनाओं की प्रगति की सर्किलवार समीक्षा करते हुए कहा कि सभी अधीक्षण अभियन्ता विद्युत आपूर्ति प्रबन्धन पर विशेष ध्यान दें और प्रभावी लोड मेनेजमेन्ट करें। उन्होने कहा कि बिजली कम्पनियों की स्थिति में सुधार हो रहा है और आगे भी इसमें और सुधार करने के लगातार प्रयास किए जाने चाहिए। इसके साथ ही प्रदेश में विद्युत आपूर्ति की स्थिति, मुख्यमंत्री विद्युुत सुधार अभियान, दीनदयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना, कृषि कनेक्शन जारी करने की स्थिति, आईपीडीएस योजना, विजीलेन्स चैकिंग एवं निगमों के राजस्व वसूली एवं उसमें सुधार की प्रगति की समीक्षा की गई।
जयपुर डिस्कॉम के प्रबन्ध निदेशक आर.जी.गुप्ता ने समीक्षा करते हुए एनर्जी ड्रावल के प्रतिदिन प्रभावी मॉनिटरिंग सिस्टम के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि गत वर्ष के सर्किल वार एनर्जी ड्रावल, अनुमानित विद्युत विक्रय व लक्षित लॉस को ध्यान में रखते हुए चालू वर्ष में माह वार एवं प्रतिदिन एनर्जी ड्रावल की गणना की जाए एवं अधीक्षण अभियन्ता इसकी प्रतिदिन प्रभावी मॉनिटरिंग करें। उन्होंने कहा कि दौसा, बांरा एवं भरतपुर में एनर्जी ड्रावल निर्धारित सीमा से अधिक है, इन सर्किलों के अधीक्षण अभियन्ताओं को नियमित रुप से इसकी मानिटरिंग करनी चाहिए। इन तीन सर्किलों को छोड़कर अन्य सर्किलों में एनर्जी ड्रावल की स्थिति निर्धारित कोटे के अनुसार है।
गुप्ता ने बताया कि भरतपुऱ एवं धौलपुर सर्किल के कस्बों में जंहा लॉस 30 प्रतिशत से अधिक है वहां स्मार्ट मीटर की योजना बनाई है, इस योजना से बिजली चोरी करने वालों को तुन्त पकड़ने में मदद मिलेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here