दिल्ली और एनसीआर के चार करोड़ लोगों के स्वास्थ्य की चिंता हरियाणा कर रहा है। हमारा प्रयास है कि हम दिल्ली के हर घर के नाश्ते टेबल से लेकर से लेकर डिनर तक हमारे ताजा उत्पाद का स्वाद वे लें। इसके लिए हम उत्पाद से लेकर बिक्री तक सारी अवधारणाओं को साबित करके इसे हमारे किसान साबित करेंगे। यह कहना है हरियाणा के कृषि मंत्री ओम प्रकाश धनखड़ का। यहां पैरी अर्बन एग्रीकल्चर की दो दिवसीय कार्यशाला के दौरान मीडिया पर्सन से बात कर रहे थे।
एक सवाल के जवाब में कृषि मंत्री ने कहा कि हरियाणा के किसी भी हिस्से से हम दिल्ली को ताजा दूध निकालकर बिना किसी प्रोसेस के ताजा ही पहुंचा सकते हैं। उन्होंने कहा कि हर रोज दिल्ली में 10 से 15 हजार एमटी फ्रूट दिल्ली की मंडी में आता है। हर व्यक्ति अपने स्वास्थ्य के प्रति जागरूक हो रहे हैं। स्वास्थ्य के लिए लोग पैसा भी खर्च करते हैं। यहाँ के किसानों को हम अपने उत्पाद उगाने से लेकर बेचने का काम सीधे करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। पैरी अर्बन एग्रीकल्चर की अवधारणा को स्पष्ट करते हुए कृषि मंत्री ओ पी बी धनखड़ ने कहा कि इस कार्यशाला का उद्देश्य पैरी अर्बन एग्रीकल्चर की अवधारणा को स्पष्ट कार्नर के अलावा ऐसे विषयों पर पर चर्चा की जिससे किसान हित में कानून बने।
उन्होने कहा कि इस योजना के तहत किसानों को ढांचागत सुविधाएं उपलब्ध कराना भी इसका हिस्सा है। किसानों को ट्रेनिंग देना, उद्यमशील किसान बनाना और एग्री बिजनेस के गुर सिखाना भी इस कंस्पेट का हिस्सा है। उन्होंने कहा इसके लिए सरकार लगातार काम कर रही है। किसान अपना उत्पाद सीधे उपभोक्ता को दे तो उसकी गुणवत्ता की गारंटी हो, ये बहुत जरूरी है। इसके अलावा विश्वनीयता और सर्विस को भी इसमें शामिल रखा गया है। धनखड ने बताया कि  इस बात का भी पूरा ध्यान रखा जायेगा। पैकिंग और मार्किटिंग में भी किसानों को विभाग सहयोग करेगा। इससे दिल्ली के लोगों के स्वास्थ्य के लिए हरियाणा का किसान अपने ताजे उत्पाद पहुंचाएगा।
लोकेशन हरियाणा की बड़ी ताकत
कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने कहा कि हरियाणा की भौगोलिक स्थिति ऐसी है जो तीन तरफ से दिल्ली को घेरता है, इसलिये हरियाणा का किसान यहा सबसे पहले जिन्दा मछली, ताजा दूध, सब्जी, फल फूल सबसे पहले पहुंचा सकता है। इसलिए हरियाणा को इसका फायदा है।
उनहोंने कहा कि सडक़ और रेल के मार्ग से भी अच्छे से जुड़ा है, जिसका फायदा दिल्ली और हरियाणा दोनों का है।
उन्होंने कहा कि 100 करोड़ का बाजार है दिल्ली एनसीआरI कृषि मंत्री ओपी धनखड़ ने कहा कि हरियाणा छोटा राज्य है और यहां का किसान मेहनती है। दिल्ली एनसीआर के चार करोड़ लोग रोजाना करीब 100 करोड़ रूपये खर्च करते हैं।  यदि हम दिल्ली के तीन तरफ से हैं तो इस लिहाज से हम 75 करोड़ रोजाना यानि 27 हजार करोड़
सालाना कमा सकते हैं। इससे हमारा किसान खुशहाल होगा और दिल्ली को ताजा और स्वास्थ्यवर्धक उत्पाद मिल सकेगा। चूँकि आज हर व्यक्ति आर्गेनिक उत्पाद खाना चाहता है, इसलिये हरियाणा का किसान भी आर्गेनिक पर आये, हम इस प्रयास में लगे हैं। हमने हरियाणा में आर्गेनिक गांव बनाये हैं।
स्मार्ट टेक्नोलॉजी बनेगी मददगार
धनखड़ ने कहा कि आज स्मार्ट टेक्नॉलिजी का जमाना है। हमारे अग्रणी किसान अपने उत्पाद को सीधे अपने फोन से अनेक तरह की तकनीक से एक दूसरे  जोडक़र सीधे उपभोक्ता को ये बता सकते हैं कि आपको किस खेत की सब्जी, फल दिए जा रहे हैं, किस पशु का दूध आप पी रहे हैं ये जान सकेंगे।
धनखड़ ने कहा कि हमारा प्रयास किसान की आय को बढ़ाने के साथ उत्पाद की गुणवत्ता बढ़ाने पर भी है। इससे हरियाणा के किसान आर्थिक रूप से मजबूत होगा और दिल्ली को ताजा उत्पाद मिलेंगे।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here