दुधौला स्थित हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू को केंद्र मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने विशेष रूप से बातचीत के लिए आमंत्रित किया। इस अवसर पर कुलपति ने विश्वविद्यालय की विजन डॉक्यूमेंट की एक प्रति माननीय केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान को प्रस्तुत की उन्होंने की रणनीति और भविष्य की योजना और इसकी अनूठी दोहरी शिक्षा मॉडल की भी जानकारी दी।

हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति राज नेहरू ने राष्ट्रीय स्तर पर कौशल से संबंधित सभी एजेंसीज का एक सांझा मंच बनाने का आग्रह किया। राज नेहरू केंद्र कौशल एवं उद्यमिता मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ संवाद कर रहे थे। हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय भारत में कौशल से संबंधित पहला विश्वविद्यालय है।

कुलपति नेहरु ने माननीय मंत्री महोदय को विश्वविद्यालय द्वारा एक  वर्ष से भी कम समय में किए गए कार्यों से अवगत कराया। जिनकी माननीय मंत्री महोदय द्वारा भूरी भूरी प्रशंसा की गई। इस अवसर पर कुलपति राज नेहरू ने माननीय मंत्री जी को विश्वविद्यालय द्वारा जारी किए विजन डॉक्यूमेंट की एक प्रति भी भेटं की तथा बताया कि विश्वविद्यालय पर किए गए सर्वेक्षण के अनुसार आज का युवा खेल बैंकिंग ऑटो आदि क्षेत्रों में ज्यादा अग्रणी भूमिका निभाना चाहता है। माननीय मंत्री महोदय ने विश्वविद्यालय द्वारा किए गए प्रयासों तथा अपनाए गए विशेष शिक्षण प्रशिक्षण मॉडल की प्रशंसा की।
धर्मेंद्र प्रधान  ने राज नेहरू कुलपति हरियाणा विश्वविद्यालय कौशल विश्वविद्यालय द्वारा कौशल शिक्षा के क्षेत्र में किए गए अभूतपूर्व प्रयास व इस दिशा में अपनाएं गए नए-नए मॉडलों तथा इस माध्यम से  कौशल शिक्षा को एक नई विद्या के रुप में स्थापित करने की सराहना की। साथ ही मान्य मंत्री ने यह भी कहा कि हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय का आदर्श के रूप में पूरे देश में स्थापित हो चुका है। तथा कौशल शिक्षा के क्षेत्र में इसे इसी स्वरुप में आगे बढ़ाया जा सकता है।

इस अवसर पर केंद्र राज्य मंत्री अनंत गीते वह एनएसडीए,एनएसडीसी एवं डीजीईटी के अधिकारी भी मौजूद थे। कुलपति श्री राज नेहरू ने कौशल शिक्षा के लिए फीडर स्कूल की उपयोगिता पर प्रकाश डाला। बैठक में उपस्थित सभी लोगों ने इस बातचीत की सराहना की। कि यदि कौशल शिक्षा को सुचारु रुप से चलाना है। तो फीडर स्कूल अर्थात  9 वीं कक्षा से ही कौशल की शिक्षा को औपचारिक शिक्षा के एक विकल्प के रूप सभी विद्यालयों को उपलब्ध कराए जाए। जिसमें प्रत्येक विद्यार्थी अपने रूचि अनुरूप कौशल का चयन कर सकें।

हरियाणा विश्वकर्मा कौशल विश्वविद्यालय भारत का पहला सरकारी कौशल विश्वविद्यालय है। आदरणीय केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने  कुलपति राज नेहरू को विश्वविद्यालय के विज़न डॉक्युमेंट , यूनिवर्सिटी द्वारा उठाये गए कदम तथा इस बाबत सुझाव साँझा करने के लिए विशेष गोष्ठी का आयोजन किया I

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here