मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने माॅरिशस के महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट का भ्रमण किया। भारत सरकार के सहयोग से माॅरिशस सरकार द्वारा स्थापित यह संस्थान भारत सम्बन्धी अध्ययन का उच्चस्तरीय केन्द्र है। भारत से माॅरिशस गए शर्तबंद मजदूरों से जुड़े अभिलेख संस्थान के अभिलेखागार में संरक्षित किए गए हैं। ऐसे लगभग 1 लाख 80 हजार दस्तावेज यहां उपलब्ध हैं।

मुख्यमंत्री ने भ्रमण के दौरान संस्थान की विभिन्न गतिविधियों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने इस पर हर्ष व्यक्त किया कि महात्मा गांधी इंस्टीट्यूट भारत और माॅरिशस के सम्बन्धों को प्रगाढ़ बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। उन्होंने भारत से माॅरिशस आए शर्तबंद मजदूरों के अभिलेखों को भी देखा। ज्ञातव्य है कि इन श्रमिकों के सम्बन्ध में यहां संरक्षित अभिलेखों के आधार पर उनके वंशजों को भारतीय मूल का माॅरिशसवासी माना जाता है। इसी आधार पर भारत सरकार माॅरिशसवासियों को ओसीआई कार्ड प्रदान करती है।

मुख्यमंत्री ने अपने माॅरिशस प्रवास के अवसर पर गुरुवार को भारतीय मूल के 9 माॅरिशसवासियों को ओसीआई कार्ड वितरित किए थे। इनमें सांसद तुलसीदास बेनीदीन एवं माॅरिशस विश्वविद्यालय के प्रवक्ता जतिन जोखू मूलरूप से जनपद गोरखपुर से जुड़े हैं। इसके अलावा, मुख्यमंत्री द्वारा आरा, बिहार से सम्बन्ध रखने वालीं अवकाश प्राप्त शिक्षिका प्रमिला जगन्नाथ एवं देविका को भी ओसीआई कार्ड दिए गए। मुख्यमंत्री ने महाराष्ट्र के मूल निवासी 2 माॅरिशसवासियों सहित पश्चिम बंगाल एवं कर्नाटक से जुड़े 2 अन्य व्यक्तियों को भी ओसीआई कार्ड प्रदान किए। भारतीय मूल के एक माॅरिशसवासी को उनके जीवनसाथी के आधार पर यह कार्ड दिया गया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here