यदि गुरुग्राम जिला के किसी भी गांव में अब कोई व्यक्ति कूड़ा-कचरा या पॉलिथीन जलाते हुए पाया गया तो उससे 5,000 रूपये की राशि जुर्माने के तौर पर वसूली जाएगी। ये आदेश उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने नेशनल ट्रिब्यूनल प्रिंसीपल बैंच नई दिल्ली द्वारा दिये गए आदेशो की पालना में जिला के सभी सरपंचो व ग्राम सचिवों को दिए। उपायुक्त ने जिला से सभी सरपंचो को आदेश दिए हैं कि यदि उनके गांव में कोई भी व्यक्ति कूड़ा-कचरा या पॉलिथीन जलाता हुआ पाया जाए तो उस पर 5,000 रूपये का जुर्माना लगाए ताकि पर्यावरण में प्रदूषण के बढ़ते स्तर को रोका जा सके। उपायुक्त ने जुर्माना लगाने के लिए गांव में सरपंच व ग्राम सचिव को अधिकृत किया है। उपायुक्त ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति जुर्माना देने से मना करता है या कोताही करता है तो पंचायत संबंधित व्यक्ति के खिलाफ पुलिस कार्यवाही में भी सक्षम होगी।
उपायुक्त ने कहा कि पर्यावरण को स्वच्छ व सुंदर बनाए रखना समाज में प्रत्येक व्यक्ति का नैतिक उत्तरदायित्व है। पर्यावरण में बढ़ता प्रदूषण हमारे स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है जिसके कारण कई प्रकार की बीमारियां होती हैं। उन्होंने कहा कि आने वाली पीढ़ी को स्वच्छ व निर्मल वातावरण देने के लिए पर्यावरण संरक्षण अत्यंत आवश्यक है। उन्होंने आमजन से अपील करते हुए कहा कि वे पर्यावरण संरक्षण में अपना योगदान दें और अधिक से अधिक पेड़ लगाएं।
Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhiNCRnews.in bureau

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here