उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, लखनऊ द्वारा उद्योगों एवं संस्थानों को सहमति/अनापत्ति एवं प्राधिकार आवेदन-पत्रों के पारदर्शितापूर्ण समयबद्ध रूप से निस्तारण हेतु आॅन-लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम (OCMMS) का शुभारम्भ राजीव कुमार, आईएएस मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश द्वारा दिनांक 27 अक्टूबर, 2017 को पूर्वान्ह 9ः30 बजे प्लूटो सभागार, इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, विभूति खण्ड, गोमती नगर, लखनऊ में किया गया।
उक्त अवसर पर मुख्य सचिव का स्वागत रेणुका कुमार, आईएएस प्रमुख सचिव, पर्यावरण विभाग एवं अध्यक्ष उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड एवं आशीष तिवारी, आई.एफ.एस. सदस्य सचिव, उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड, लखनऊ द्वारा किया गया।
उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा जल अधिनियम, वायु अधिनियम एवं पर्यावरण संरक्षण अधिनियम, 1986 के अन्तर्गत प्रख्यापित नियम यथा हैजार्डस वेस्ट रुल, बायो मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट रुल, प्लास्टिक वेस्ट मैनजमेन्ट रुल, ई-वेस्ट मैनेजमेन्ट रुल एवं साॅलिड वेस्ट मैनेजमेन्ट रुल्स के प्राविधानों के अन्तर्गत आॅनलाइन आवेदन पत्रों की प्राप्ति एवं निस्तारण हेतु एनआईसी नई दिल्ली, भारत सरकार के सहयोग से ‘‘आन लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम’’ (OCMMS) साॅफ्टवेयर विकसित कराया गया है। उक्त साॅफ्टवेयर को एनआईसी, नई दिल्ली द्वारा उप्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की आवश्यकतानुसार कस्टमाइज किया गया है।

‘‘आन लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम’’ (OCMMS) साफ्टवेयर के प्रयोग से विभिन्न अधिनियमों के अन्तर्गत प्राप्त होने वाले आवेदन-पत्रों के निस्तारण की प्रक्रिया सरल हो जायेगी। आवेदन से संबंधित सभी प्रक्रिया आॅन-लाईन ही सम्पादित होंगी।
उद्योगों को आॅन-लाईन पंजीकरण आवेदन एवं संलग्नक जमा करने की सुविधा प्राप्त होगी। आॅन-लाईन ई-पेमेन्ट द्वारा शुल्क जमा करने की सुविधा। आॅन-लाईन ई-अलर्ट (एसएमएस एवं ई-मेल ) के द्वारा आवेदक को जांच पत्र, निरीक्षण की स्थिति तथा आवेदन-पत्र की सूचना प्राप्त हो जायेगी। आॅन-लाईन डिजिटली हस्ताक्षरित प्राधिकार पत्र भी प्राप्त हो सकेगा।
उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा इस साफ्टवेयर के माध्यम से स्वतः ई-फाइल क्रियेशन किया जाना सम्भव होगा। ई-फाईल नोटिंग तथा प्रपत्र एवं पत्रों को अपलोड किया जा सकेगा। उद्योगों को आॅन-लाईन स्पष्टीकरण हेतु पत्र प्रेषित करना एवं निरीक्षण एवं संस्तुति को प्रदर्शित करना सम्भव होगा। बोर्ड द्वारा डिजिटली हस्ताक्षरित प्राधिकार पत्र का निर्गमन किया जा सकेगा। समस्त प्रक्रिया से प्रोसेसिंग टाइम कम हो जायेगा तथा उद्यमियों को बोर्ड कार्यालय में नहीं आना पड़ेगा।
इन्दिरा गांधी प्रतिष्ठान, विभूति खण्ड, गोमती नगर, लखनऊ में आॅन-लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम OCMMS के शुभारम्भ से संबंधित कार्यक्रम के प्रारम्भ में एन0आई0सी0, नई दिल्ली के डाॅ0 सौरभ गुप्ता ने आॅन-लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम OCMMS के बारे में संक्षिप्त विवरण देते हुए बताया कि कई अन्य राज्यों में इस कार्यक्रम का शुभारम्भ किया जा चुका है, लेकिन उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड देश का प्रथम बोर्ड है जिसमें आॅन-लाईन कन्सेन्ट मैनेजमेन्ट एण्ड माॅनिटरिंग सिस्टम OCMMS के शुभारम्भ के समय ही एल0जी0 एलेक्ट्रानिक्स, होडा कार इण्डिया लिमिटेड को आॅन-लाईन डिजिटली हस्ताक्षरित सहमति प्रमाण पत्र प्रदान किया गया।

मुख्य सचिव ने यह भी सूचित किया कि क्रय संबंधी सभी निर्णय ई-टेण्डर एवं जेम पोर्टल द्वारा ही लिये जायेंगे।
इसके पश्चात् मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश राजीव कुमार ने एल0जी0 इलेक्ट्रानिक्स, ग्रेटर नोएडा एवं होण्डा कार इण्डिया लिमिटेड, ग्रेटर नोएडा के मैनेजिंग डायरेक्टर को डिजिटली हस्ताक्षरित सहमति प्रमाण पत्र प्रदान किया।
तत्पश्चात् प्रमुख सचिव पर्यावरण एवं अध्यक्ष, उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड रेणुका कुमार ने मुख्य अतिथि को रूद्राक्ष का पौधा स्मृति चिन्ह के रूप में भेंट किया तथा सदस्य सचिव, उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने मंचासीन अन्य अधिकारियों को पौधे प्रदान किये।
सदस्य सचिव, उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि मुख्य सचिव, उत्तर प्रदेश महोदय सभी को सदा नई पहल करने के लिए उत्साहित करते हैं तथा उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने उन्हीं के “विजन” को लागू किया है। सदस्य सचिव, उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्रमुख सचिव पर्यावरण एवं अध्यक्ष, उ0प्र0 प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड रेणुका कुमार धन्यवाद देते हुए कहा कि उन्हीं के प्रोत्साहन एवं अथक प्रयासों से राज्य बोर्ड की समस्त कार्य प्रणाली में पारदर्शिता आ सकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here