आरडब्ल्युए फेडरेशन गाजियाबाद के आजीवन/संस्थापक संदस्यों की एक बैठक कल अयोजित की गई। बैठक में कर्नल तेजेन्द्र पाल त्यागी ने बताया कि फेडरेशन के 4 सदस्यों ने मिलकर एक षडयन्त्र किया जिसके अन्तर्गत 12 जून 2016 को एक आम सभा की बैठक एस के महेश्वरी द्वारा बुलाई गई जो अनाधिकृत थी क्योकि फेडरेशन के संविधान 8-ख के अनुसार चेयरमेन की लिखित अनुमति के बाद आम सभा की बैठक नही बुलाई जा सकती। बैठक में जिन लोगो ने भाग लिया उनमें 90 प्रतिशत से ज्यादा फेडरेशन के सदस्य नही थे, उनके फार्म नही भरे गये थे, उनका पैसा बैंक में आज तक भी जमा नही किया गया। बैठक में मन माने तरीके से बी पी शर्मा को चेयरमेन घोषित कर दिया गया।

इसके बाद फेडरेशन की प्रशासनिक समिति की बैठक हुई जिसमें सर्वसम्मति से चारो लोगो को निष्कासित कर दिया गया। जिसकी जानकारी मुख्य मन्त्री, डिप्टी रजिस्ट्रार और प्रशासन को दी गई। एक चुनाव अधिकारी नियुक्त किया गया। इलैक्शन नोटिफिकेशन जारी किया गया, 15 पदो के लिए 19 नोमिनेशन फार्म आये। 4 लोगो ने चुनाव नामांकन वापिस लिया, शेष 15 को 10 जुलाई की आम सभा में विजयी घोषित किया गया। जिसमें मुख्य मन्त्री के आदेश पर जिलाधिकारी ने एक मजिस्ट्रेट और पुलिस बल तैनात किये थे।

विपक्षीगणो ने डिप्टी रजिस्ट्रार मेरठ के पास शिकायत की। डिप्टी रजिस्ट्रार ने मामला एस डी एम सदर के पास सोसाइटी एक्ट की धारा 25 (1) के अन्तर्गत यह तय करने के लिए भेज दिया की उपरोक्त दोनो चुनावों में से कौन सा चुनाव वैध है। काबिल एसडीएम ने विपक्षीगणो का चुनाव वैध बता दिया।

दिनांक 25 अक्टूबर 2017 की बैठक में सब लोगो ने सीधे-सीधे कहा कि हम कर्नल तेजेन्द्र पाल त्यागी की वजह से आरडब्ल्युए फेडरेशन में जुडे थे। हमें इनके अलावा किसी और का नेतृत्व किसी भी स्थिति में मान्य नही है। पूरे सदन ने हाथ उठाकर और अपनी अपनी दलीलें देकर इस बात की पूष्टी की। सभी सदस्यों ने जिद्द करके मांग की कि एसडीएम गाजियाबाद के फैसले के विरूद्ध कमीश्नर अथवा हाईकोर्ट में अपील की जाये। अन्त में कर्नल त्यागी ने कहा कि हमारे सभी विकल्प खुले हैं । हम चाहें तो कोनरवा की शाखा बनकर भी काम कर सकते हैं अथवा फ्लैट ओनर्स फेडरेशन के मंच से काम कर सकते हैं अथवा अपील कर सकते है। इस सम्बन्ध में पूरे सदन ने कर्नल त्यागी को निर्णय लेने के लिए अधिकृत कर दिया।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here