जिलाधिकारी डॉ. रोशन जैकब की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट के सभागार में आयोजित बैठक में वलीपुरा नहर की पटरियों को सौन्दर्यीकरण एवं पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने पर हुई चर्चा करते हुए जिलाधिकारी ने डीएफओ को पटरियों एवं नहर के किनारों की सफाई करने के निर्देश दिये। उन्होंने नहर के किनारे वन विभाग की पटरी पर घाटों का निर्माण किये जाने, प्रकाश व्यवस्था एवं सुरक्षा की दृष्टि से घाटों पर ग्रील स्थापित किये जाने का अनुमानतः 15 लाख की धनराशि से तत्काल कार्य कराये जाने के लिए प्रस्ताव तैयार करने हेतु बुलन्दशहर विकास प्राधिकरण को निर्देशित किया गया। उन्हांेने प्रस्ताव में पटरी के सौन्दर्यीकरण एवं पर्यटक स्थल आकर्षित बनाये जाने के लिए मोबाईल टायलेट, चिडियाघर, पथ प्रकाश व्यवस्था, पटरियों का निर्माण एवं घाटों पर नौका विहार के लिए नौकाओं की व्यवस्था एवं अन्य कार्यो को प्रस्ताव में सम्मिलित करने के निर्देश दिये।
उन्होंने डीएफओ को यह भी निर्देशित किया कि वह थ्री पीपीपी मॉडल पर निजी संस्थाओं से सम्पर्क कर सौन्दर्यीकरण के कार्य को अविलम्ब प्रारम्भ करने के निर्देश दिये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये कि मजदूरी के भुगतान के रूप में मनरेगा योजना से भी भुगतान करा लिया जायेगा। जिलाधिकारी ने सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियन्ता को निर्देशित करते हुए कहा कि वलीपुरा निरीक्षण भवन की 2 किमी0 पटरी के निर्माण कार्य के लिए प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये।
इस पटरी निर्माण होने से नागरिकों को मॉर्निंग वॉक का एक अच्छा वातावरण नहर किनारे प्राप्त हो सकेगा। इससे पूर्व की आयोजित बैठकों में एक किमी लम्बी पटरी को विकसित किया जाना था लेकिन आज की बैठक में इसकी लम्बाई 2 किमी निर्धारित की गई।
उन्होंने इस पटरी के विकसित कार्य का स्टीमेट तैयार कर अपर जिलाधिकारी न्यायिक को प्रस्तुत करने के निर्देश सिंचाई विभाग को दिये। बैठक में अपर जिलाधिकारी प्रशासन अरविन्द कुमार मिश्र, अपर जिलाधिकारी न्यायिक आरके सिंह यादव सहित डीएफओ, सचिव प्राधिकरण एवं सिंचाई विभाग के अभियन्तागण उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here