सरकार ने महानगरों तथा विभिन्न जनपदों में यातायात प्रबंधन को बेहतर तथा सुगम बनाने हेतु समयबद्ध कार्यवाही करने की पहल की है। इसके लिए शिक्षण संस्थाओं एवं अंतर विभागों का सहयोग लिया जायेगा। प्रत्येक जनपद में इन शिक्षण संस्थाओं एवं अंतर विभागों की समितियों का गठन किया जायेगा।
समिति द्वारा साप्ताहिक रूप से ट्रैफिक जाम की समस्या के निराकरण के लिए स्थलीय भ्रमण सहित जनसहयोग भी प्रमुखता से सुनिश्चित किया जायेगा।
राज्य के गृह विभाग द्वारा सभी मण्डलायुक्तों, जिलाधिकारियों, प्रबंध निदेशक उ0 प्र0 पावर कारपोरेशन, विकास प्राधिकरणों के उपाध्यक्षों, नगर आयुक्तों, पुलिस महानिरीक्षकों, उप महानिरीक्षकों, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों/ पुलिस अधीक्षकों को भेजे गये परिपत्र में कहा गया है कि यातायात व्यवस्था को सुव्यवस्थित रूप से संचालित करने हेतु समयबद्ध कार्यवाही की जाए।

समिति में जिलाधिकारी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक, विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष महानगर निगमों के नगर आयुक्त, एन0सी0सी0 के इंचार्ज तथा प्रबुद्ध नागरिक होंगे। यह समिति जनपद में ऐसे स्थानों का चिन्हीकरण कर सूचीबद्ध करेगी, जहां ट्रैफिक जाम की समस्या उत्पन्न होती है। प्रत्येक स्थान पर जाम लगने के कारणों का भी पता लगाकर उनके निराकरण के लिए आवश्यक कार्यवाही प्रस्तावित करेगी।
जिलाधिकारी अपने अपने जनपद में रोड पटरी पर लगने वाली दूकानों के सम्बंध में नगर आयुक्त से विचार-विमर्श कर नई वेन्डिंग पालिसी के तहत रोड पटरी दुकानदारों की शिफ्टिंग कराना सुनिश्चित करेंगे। जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक चिन्हित किए गए स्थानों की संख्या तथा उनके निराकरण के लिए की गई कार्यवाही का विवरण तथा शेष बचे कार्यों के क्रियान्वयन के लिए कार्य योजना बनाकर आख्या गृह विभाग को उपलब्ध करायेंगे।
कार्ययोजना का क्रियान्वयन यातायात पुलिस, परिवहन विभाग पुलिस, राजस्व, लोक निर्माण, विभाग, विद्युत विभाग आदि के अधिकारियों की टीम बनाकर किया जायेगा। इसके अतिरिक्त समिति चिन्हित किए गए स्थानों पर जाम लगने के कारणों एवं उनके उपाय हेतु बनाई गई कार्ययोजना की प्रगति का अनुश्रवण एक माह के पश्चात नियमित रूप से किया जाएगा।
सुगम ट्रैफिक प्रबंधन के लिए जनपद के सभी मुख्य चौराहों पर ट्रैफिक लाइटें लगाई जायेंगी। इन लाइटों को फंक्शनल बनाये रखने तथा इनके नियमित अनुश्रवण की व्यवस्था भी सुनिश्चित की जायेगी।
जन सहयोग के माध्यम से अभियान चलाकर सभी साइड सड़कों एवं फुटपाथ से अतिक्रमण को पूर्ण रूप से हटाया जायेगा। यह भी सुनिश्चित किया जायेगा कि पुनः अतिक्रमण किसी भी सूरत में न हो सके। सड़कों पर लगे बिजली तथा अन्य पोलों आदि को जहां तक सम्भव हो रोड से शिफ्ट करने की कार्यवाही के निर्देश सम्बंधित अधिकारियों को दिए गए हैं।
परिपत्र में कहा गया है कि सड़कों पर सुरक्षा सूचकांक एवं डिवाइडिंग लाइंस आदि का डिमार्केशन किया जायेगा। प्रत्येक चैराहों एवं भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर रिक्शा एवं आटो रिक्शा की पार्किंग हेतु स्थल निधारित किये जायेंगे। पांर्किंग नियमों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित किया जायेगा।
सभी सड़कों की रिपेयरिंग कराई जायेगी। पर्याप्त संख्या में ट्रैफिक कान्स्टेबिल, होमगार्ड, पी0आर0डी0 तथा एन0सी0 सी0 के जवानों की तैनाती की जायेगी, ताकि ट्रैफिक संचालन सुचारू रूप से हो सके। ट्रैफिक के नियमों का कड़ाई से अनुपालन सुनिश्चित करने के भी निदेश दिए गए है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here