स्वदेशी जागरण मंच के राष्ट्रीय प्रचार प्रमुख दीपक शर्मा ने कहा कि वैश्वीकरण के नाम पर ड्रेगन (चीन) अन्य देशों का आर्थिक दोहन करने में लगा हुआ है। भारत चीन को मात्र 9 फीसदी कच्चा माल निर्यात करता है जबकि चीन की ओर से 61 फीसदी भारत में कच्चा माल निर्यात किया जा रहा है। वे स्वदेशी जागरण मंच की ओर से आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने मीडिया के समक्ष कहा कि चाइनीज सामान को लेकर अब आम लोगों को भी जागरुक होने की जरूरत है। स्वदेशी जागरण मंच लगातार एक साल से चीन निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार कराने को लेकर अभियान चला रहा है। इस अभियान के तहत अलग-अलग प्रदेशों के एक करोड 10 लाख लोग अब तक हस्ताक्षर कर चुके हैं।

दीपक शर्मा ने कहा कि राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय मंच पर विरोध के साथ

देश की सीमा पर जितनी परेशानी चीन भारत के लिए पैदा कर रहा है, उतना दुनिया का कोई देशनहीं कर रहा है। चीन में सामाजिक असंतोष बढ़ रहा है, जिस कारण वह दुनिया के अन्य देशों को भी असंतोष की भावना से देख रहा है। चीन दुनिया के लिए एक संकटबनकर सामने आया है। आज भारत की व्यापारिक अर्थव्यवस्था पर चीन ने कब्जा कर लिया है, जिसके कारण छोटे व मध्यम कारोबारियों का व्यापार चौपट हो रहा है।उन्होंने कहा कि हमारे देश में हर साल सवा करोड युवक बालिग होकर बेरोजगारों की कतार में लग जाते हैं, जबकि रोजगार लगातार कम हो रहे हैं। देश में आर्थिक विषमता तेजी से बढ़ रही है। भारत में 62 लोगों के पास पूरे देश के बराबर सम्पत्ति है। इसी तरह अमेरिका जैसे विकसित देशों में भी इस समय 5 करोड़ लोग बीपीएल में शामिल हैं। लेकिन अब चीन अपनी आर्थिक नीति अन्य देशों पर थोपने की फिराक में है, जिसे सफल नहीं होने देना है। ऐसे में अन्य देश भी भारत की ओर देख रहे हैं। इस दौरान जिला संयोजक पुष्पेन्द्र राठी, प्रचार प्रमुख अरविंद सैनी, विभाग प्रचार प्रमुख अनिल कश्यप, विभाग कार्यवाह हरीश, महानगर सेवा प्रमुख स्वर्ण दुबे, विश्व हिंदू परिषद के ब्रह्म प्रकाश व संघ संचालक जगदीश आदि मौजूद रहे।

Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhiNCRnews.in bureau

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here